Chudai Story अजब प्रेम की गजब कहानी
02-07-2019, 11:53 AM,
#41
RE: Chudai Story अजब प्रेम की गजब कहानी
शालिनी- आज तूने सचमुच पहली बार चोदा है

अवी- आपकी कसम भाभी

शालिनी- मतलब तूने अभी तक किसी औरत की चूत भी नही चाती होगी

अवी- मुस्कुरकर, नही भाभी लेकिन चाटना चाहता हू

शालिनी- मुस्कुरकर अभी चतेगा

अवी- नही अभी नही

शालिनी- क्यो अभी घिन आ रही है क्या

अवी- नही ऐसी बात नही है पर चूत चाटने का मज़ा चुदाई के पहले ज़्यादा आता है

शालिनी- तुझे कैसे पता, कही तूने डिंपल की चूत तो नही चाती

अवी- मुस्कुराते हुए, अगर उसकी चूत चाती होती तो उसे चोद भी चुका होता

शालिनी- हुम्म कह तो तू ठीक रहा है पर एक बात बता, क्या तेरा मन नही होता डिंपल को अपनी बाँहो मे भर कर चूमने

का, अगर मैं तेरी जगह होती तो उसे पूरी नंगी करके इस कदर चोदती कि वह मेरे लंड के पीछे-पीछे घूमती नज़र आती

अवी- भाभी वह मेरी दीदी है मैं उसके साथ ऐसा कैसे कर सकता हू

शालिनी- पहले यह बता तेरा मन उसके साथ यह सब करने का है कि नही

अवी- इस बारे मे मैने कभी सोचा नही भाभी

शालिनी- अच्छा ठीक है तू इस बारे मे सोच कर मुझे बता, हो सकता है मैं तेरी कुछ मदद कर सकु

अवी- उसकी ओर देख कर वह कैसे

शालिनी- मुस्कुराते हुए, अब जब तेरा मन ही नही है तो बात करने से फ़ायदा क्या

अवी- मैने कहा ना मैं सोचूँगा, कभी मेरा मन हुआ तो, इसलिए पूछ रहा हू कि आप कैसे मेरी मदद कर सकती है

शालिनी- मुस्कुरकर, मैं जब उसको तेरे मस्त लंड के बारे मे बताउन्गि तो वह खुद ही तुझसे चुदवाने के लिए तड़पने लग

जाएगी,

अवी- मुस्कुरकर नही भाभी उसे मेरे लंड के बारे मे मत बताना नही तो वह समझ जाएगी कि तुमने मेरा लंड देखा

है और मुझसे चुद चुकी हो

शालिनी- उठते हुए तू डरता बहुत है अवी, मुझे एक बात बता, अगर मान ले तू डिंपल के मोटे-मोटे दूध को कस कर दबा

देगा तो क्या वह तेरे पापा को बता पाएगी कि तूने उसके दूध दबाए है

अवी- कुछ सोच कर, नही भाभी वह किसी को नही बता पाएगी

शालिनी- मेरे ख्याल से तू मेरी बात समझ गया होगा अब उठ और चल, वो दोनो हमारा इंतजार कर रही होगी.

दोनो उठ कर चल देते है और अवी और शालिनी चलते-चलते अपने कपड़े को झाड़ते हुए अपने आप को दुरुस्त करने लगते

है,

अवी- अच्छा भाभी वो दोनो जब हमसे पूछेगी कि इतनी देर कहाँ रह गये थे तो उनसे क्या कहना है

शालिनी- अरे कह देंगे कि मेरे पेर मे मोच आ गई थी और बहुत देर तक मुझसे चलते ही नही बना इसलिए एक जगह बैठ

गये थे,

अवी- मुस्कुरकर ठीक है आप ही कहना मुझसे झूठ नही बोला जाएगा

शालिनी- ठीक है तो सच बता देना, शायद वो दोनो भी तुझसे अपनी चूत मरवा ले

अवी- मुस्कुराता हुआ, तुम बहुत चालू हो भाभी

शालिनी- मुस्कुराते हुए, तू भी कम नही है

डिंपल- अरे स्वीटी वो देख अवी और भाभी वो आ रहे है

स्वीटी- उठ कर देखती हुई, हाँ वो तो है पर यह भाभी कुछ लॅग्डा कर क्यो चल रही है, कही अवी ने उन्हे पेड़ के नीचे

चोद तो नही दिया

डिंपल- मुस्कुरकर उसकी पीठ मे मारती हुई, खुराफाती कही की चूत, लंड, चोदना, चुदाई इन शब्दो के अलावा भी तुझे

कुछ सूझता है कि नही

स्वीटी- अरे यार मैं मज़ाक नही कर रही हू, तू खुद ही देख भाभी लॅग्डा कर चल रही है कि नही और फिर मुस्कुराते

हुए डिंपल को देख कर, डिंपल मुझे तो ताज्जुब हो रहा है कि अवी ने ऐसे कितनी देर तक भाभी की चूत मारी होगी जो

बिचारी से चला तक नही जा रहा है, लगता है तेरे भाई का लंड बहुत मोटा तगड़ा है

डिंपल- उसको देख कर मुस्कुराते हुए, तुझे क्या करना है तुझे तो अपने भैया से अपनी चूत मराना है ना

स्वीटी- अच्छा तुझे यकीन नही होता तो एक काम करना भाभी से पूछ लेना कि आप लंगड़ा क्यो रही हो, वह ज़रूर यह

कहेगी कि उसके पाँव मे मोच आ गई थी

डिंपल- अरे भाभी इतनी देर कहाँ रह गई थी और आप लंगड़ा क्यो रही हो

शालिनी- अरे क्या बताऊ चलते-च्लते एक दम से पेर मूड गया और बहुत गहरी मोच आ गई थी और मुझसे बिल्कुल भी चला

नही जा रहा था इसलिए हम कुछ देर एक पेड़ के नीचे बैठ गये बहुत देर पेर की नासो की मालिश करने के बाद कुछ दर्द

कम हुआ तब जाकर यहा तक आए है

स्वीटी- मुस्कुरा कर, चलो कोई बात नही पर अब क्या करना है खेतो की तरफ चलना है या घर वापस चलना है

शालिनी- अरे अब यहाँ तक आ ही गये है तो चलो अब खेत दूर ही कितने है वहाँ बढ़िया आम के पेड़ है कुछ देर खा पीकर

वही अपनी बोरिंग के ठंडे पानी से हाथ पेर धोकर फिर आएगे, क्यो डिंपल क्या कहती हो

डिंपल- मुस्कुरकर ठीक है भाभी चलो और फिर चारो लोग खेत की ओर चल देते है,

खेत पर पहुच कर वहाँ काम करने वाले हाली उनके लिए झोड़ी के अंदर से खाट निकाल कर लाते है और वह लोग वहाँ बैठ

जाते है,

शालिनी- चलो पहले कुछ जाम के पेड़ के पास चल कर वही जाम खाएगे

अवी- भाई आप लोग जाओ मैं तो थक गया हू, थोड़ा इसी चारपाई पर लेट कर आराम करूँगा

स्वीटी- डिंपल तू भी यही बैठ थक गई होगी मैं और भाभी तुम लोगो के लिए जाम लेकर आते है

डिंपल- एक दम से खाट से उठते हुए नही मैं भी चलती हू ना, तभी अवी उसका हाथ पकड़ कर फिर से बैठा लेता है और

शालिनी और स्वीटी दोनो अवी की उस हरकत को देख कर मुस्कुराते हुए,

शालिनी- अरे डिंपल लगता है अवी को तुमसे कुछ बात करना है तुम यही रूको हम दोनो आते है और फिर शालिनी और

स्वीटी वहाँ से चल देते है और वहाँ से 100 मीटर की दूरी पर ही खेत के करीब छ्होटा सा बगीचा रहता है जिस और वो लोग जाने लगते है,

क्रमशः........
Reply
02-07-2019, 11:53 AM,
#42
RE: Chudai Story अजब प्रेम की गजब कहानी
अजब प्रेम की गजब कहानी --11

गतान्क से आगे......

डिंपल- अपना हाथ छुड़ाते हुए अवी को गुस्से से देखती है और खड़ी हो जाती है

अवी- मुस्कुराता हुआ फिर से उसका हाथ पकड़ कर खत पर बैठा लेता है और डिंपल इधर उधर देख कर,

डिंपल- उसे घूर कर खा जाने वाली नज़रो से देखती हुई, तुझे शरम नही आती दूसरो के सामने मेरा हाथ पकड़ते हुए

अवी- मुस्कुरकर अपने कान पकड़ता हुआ, अच्छा बाबा माफ़ कर दो आगे से दूसरो के सामने नही पाकडूँगा

डिंपल- खड़ी होते हुए, मैं भी जा रही हू

अवी- तुम जाओगी तो मैं भी तुम्हारे पीछे-पीछे आउन्गा और उसका हाथ पकड़ कर फिर से खाट पर बैठा लेता है

और डिंपल उसकी ओर गुस्से से देखने लगती है

अवी- उसको गुस्से से अपनी ओर घूरता हुआ देख कर, धीरे से उसकी जाँघ पर अपना हाथ रख कर, मुस्कुराता हुआ, मुझे क्या

पता था कि तुम इतनी हसीन हो नही तो मैं बहुत पहले ही तुम्हे चूम चुका होता, सच जब मैने तुम्हारे इन रसीले

होंठो को चूसा था तो मुझे जिंदगी का सबसे हसीन एहसास हुआ था,

डिंपल- उसको गुस्से से देखती हुई दूसरी ओर मूह फेर लेती है

अवी- उसकी कमर मे हाथ फेरता हुआ, कुछ बोलो ना दीदी,

डिंपल- उसको गुस्से से देखती हुई, अवी मुझसे बात करने की ज़रूरत नही है

अवी- मुस्कुरकर, वो तो अभी यहाँ सब लोग है इसलिए मैं भी चुप बैठा हू वरना

डिंपल- उसको देख कर वरना क्या कर लेता तू

अवी- अभी तुम मुझे अकेले मे मिलो तो सही, मैं तो कब से अपनी दीदी को अपनी बाँहो मे भर कर चूमने के लिए तड़प

रहा हू,

डिंपल- तुझे शर्म नही आती अपनी दीदी से इस तरह बात करते हुए

अवी- दीदी आज रात को तुम मेरे साथ सोओगी

डिंपल- दूसरी ओर देखते हुए, कभी नही

अवी- प्लीज़ दीदी, देखो मुझे अकेले बहुत बोर लगता है प्लीज़ मान जाओ, मैं तुम्हे बिल्कुल भी टच नही करूँगा

डिंपल उसकी बात का कोई जवाब नही देती है और एक दम से उठ कर चल देती है और अपने भारी भरकम चूतादो को

मतकाते हुए शालिनी और स्वीटी की ओर जाने लगती है और अवी अपनी दीदी की जीन्स मे कसे हुए उसके भारी-भारी चूतादो

को प्यासी नज़रो से देखने लगता है तभी डिंपल उसे पलट कर देखती है और अवी को अपने मस्त चूतादो को देखता हुआ

पाकर फिर से अपना मूह दूसरी ओर कर लेती है पर अपने चेहरे की मंद-मंद मुस्कान को नही रोक पाती है. अवी जब देखता है कि हाली खेत से कुछ दूर चला गया है और शालिनी और स्वीटी भी बगीचे मे घुस चुकी है तो वह दौड़ लगा कर डिंपल के पास पहुच जाता है और वही एक पेड़ के पास उसका हाथ पकड़ कर पेड़ के पीछे ले जाता है

डिंपल- अवी ये क्या कर रहा है छ्चोड़ मेरा हाथ

अवी- उसका हाथ कस कर थामे हुए, दीदी प्लीज़ एक किस करने दो ना

डिंपल- घबराती हुई, अवी तेरा दिमाग़ खराब हो गया है छ्चोड़ मुझे यहा कोई देख लेगा

अवी- उसे अपनी और खिचता हुआ, दीदी कोई नही देख रहा है प्लीज़ चूमने दो ना

डिंपल- उसे दूर धकेलने की कोशिश करती हुई, बेशरम छ्चोड़ मेरा हाथ, तू घर चल मैं तुझे बताती हू, इस बार मैं तेरी शिकायत पापा से करूँगी, तू इतना बदमशह

उसका इतना कहना था कि अवी उसके रसीले होंठो को अपने मूह मे भर कर कस कर उसके मोटे-मोटे दूध को दबोच लेता है और उसे पागलो की तरह चूमने लगता है, डिंपल उससे छूटने की कोशिश करती हुई उसे दूर धकेलने का प्रयास करती है लेकिन उसके हाथो मे वह ज़ोर नही होता है और अवी अपनी दीदी की कसी हुई चुचियो को अपने हाथो मे भर कर उसके होंठो को चूमता हुआ एक दम से उसे छ्चोड़ देता है, डिंपल पेड़ से अपनी पीठ टिकाए हान्फ्ते हुए उसे बिना किसी एक्सप्रेशन के देखती रहती है और अवी अपने होंठो को पोछता हुआ,
Reply
02-07-2019, 11:53 AM,
#43
RE: Chudai Story अजब प्रेम की गजब कहानी
अवी- उसके गालो को सहला कर वाकई दीदी तुम बहुत सेक्सी और रसीली हो, तुम घर तो चलो इस बार मैं तुम्हे अपनी गोद मे उठा कर तुम्हे इतना प्यार करूँगा कि तुम पागल हो जाओगी, अब तो मैं तुम्हारे बिना एक पल नही रह सकता हू, और उसकी ओर मुस्कुराता हुआ उसके गाल को खींच कर आइ लव यू मेरी जान कह कर अवी वापस चारपाई की ओर चल देता है और डिंपल उसे जाते हुए देखती रह जाती है, फिर एक दम से जैसे उसे होश आता है और वह इधर उधर देखती हुई कुछ सोच नही पाती है कि किधर जाए और वही पेड़ के सहारे टिक कर अवी को जाते हुए देखने लगती है और अवी जब खाट पर बैठ कर डिंपल की ओर देखता है तो उसे अपनी ओर देखते हुए पाता है, डिंपल उसकी ओर देखती हुई कुछ सोच कर वापस अवी की ओर चल देती है,

अवी उसको अपनी ओर आता हुआ देख कर खुश हो जाता है, डिंपल उसके करीब आ जाती है और उसके पास चारपाई पर बैठते हुए उसकी और देख कर सीरीयस चेहरा बना कर,

डिंपल- तुझे क्या लगता है तू जो कर रहा है वह ठीक है

अवी- मैं वो सब नही जानता, मैं तो बस इतना जानता हू कि मैं तुम्हे बहुत चाहता हू और तुम्हारे बिना अब रह नही सकता

डिंपल- पर तू समझता क्यो नही मैं तेरी प्रेमिका नही तेरी बहन हू

अवी- मुस्कुरकर तो क्या हुआ, क्या तुम मेरी प्रेमिका नही बन सकती क्या

डिंपल- उसको घूर कर देखते हुए, तो क्या तू मेरे साथ वह सब भी करना चाहता है जो एक प्रेमी प्रेमिका करते है

अवी- मुस्कुरकर, क्या तुम नही चाहती

डिंपल- गुस्से से, देख अवी मैं ऐसा कुछ नही चाहती जो तू सोच रहा है, और यह मैं तुझे आख़िरी बार समझा रही हू, इसके बाद अगर तूने कोई हरकत की तो मुझसे बुरा कोई नही होगा

अवी- क्या करू दीदी तुम जब मेरे सामने आती हो तो मुझे पागल कर देती हो और मेरा दिल करता है कि मैं तुम्हे अपनी बाँहो मे भर कर चूम लू, तुम चाहे मुझे जान से ही क्यो ना मार दो, पर मैं तुम्हे छुए बिना नही रह पाउन्गा और फिर अवी धीरे से अपना हाथ उसकी मोटी-मोटी जाँघो पर रख देता है और डिंपल उसे देखती हुई अपनी नज़रे दूसरी ओर फेर लेती है, कुछ देर दोनो के बीच खामोशी छाई रहती है, उसके बाद

अवी- मुस्कुराते हुए, दीदी तुम कितनी सेक्सी हो ना, आज रात को मे तुम्हे अपनी बाँहो मे भर कर

डिंपल- उसकी ओर घूर कर देखते हुए उठ कर जाने लगती है और अवी उसका हाथ पकड़ कर फिर से बैठा लेता है,

अवी- कहाँ जा रही हो, आज से मैं जो कहुगा वह तुम्हे मानना पड़ेगा

डिंपल- क्यो मैं तेरी गुलाम हू जो तेरी बात मनुगी

अवी- उसके गालो को सहलाता हुआ, गुलाम तो मैं बन गया हू तुम्हारा, थोड़ा करीब आकर बैठो ना

डिंपल- अवी मैं नही जानती थी कि तू इतना बेशरम है

अवी- दीदी मैं भी तो नही जानता था कि तुम इतनी सेक्सी हो, क्या फिगुर है तुम्हारा, और आज तो जीन्स मे कयामत लग रही हो और फिर अवी उसकी कमर को सहलाने लगता है और डिंपल अपना सर नीचे झुकाए बैठी रहती है तभी सामने से स्वीटी और शालिनी आते हुए नज़र आते है

डिंपल- अवी देख वो दोनो आ रहे है कम से कम दूसरो के सामने तो मेरी बेज़्जती मत करवा

अवी- मुस्कुरकर मैं समझ गया दीदी तुम चाहती हो मैं तुम्हारे साथ जो भी करू अकेले मे करू है ना

डिंपल- उसकी ओर घूर कर देखती है और अपनी आने वाली हसी को पूरी तरह दबा कर फिर से दूसरी ओर मूह कर लेती है
Reply
02-07-2019, 11:53 AM,
#44
RE: Chudai Story अजब प्रेम की गजब कहानी
स्वीटी- ले डिंपल जाम खा क्या पके हुए है

अवी- शालिनी और स्वीटी के कसे हुए दूध को देखता हुआ, पके जाम खाने का मज़ा ही कुछ और है, क्यो भाभी

शालिनी- मुस्कुरकर लगता है अवी तुमने बहुत पके-पके जामो का मज़ा लिया है

अवी- हाँ लिया तो है पर और भी लेना चाहता हू, लाओ मुझे भी दो

स्वीटी- अरे अवी डिंपल वाला लो वह बड़ा ही ताज़ा लग रहा है

अवी- डिंपल को देख कर लाओ दीदी अपना वाला मुझे दे दो

डिंपल- मुझे नही देना तू स्वीटी वाला ले ले

शालिनी- अरे डिंपल दे भी दो आख़िर तुम्हारा भाई है बेचारा

अवी- अरे भाभी दीदी को तो अपने भाई का ख्याल ही नही है

तीनो इसी तरह बात करते हुए हस्ते रहते है और फिर कुछ देर बाद घर की ओर चल देते है, घर पहुच कर कुछ देर आराम करने के बाद सभी लोग खाना खाने के बाद

स्वीटी-अरे डिंपल मैं ज़रा पड़ोस वाली चाची के यहाँ से आती हू

डिंपल- ठीक है मैं सोने जा रही हू और फिर स्वीटी बाहर चली जाती है, शालिनी को नरेंद्र अपने रूम मे ले जाता है और अवी और डिंपल बैठे रहते है

अवी- चलो दीदी तुम मेरे साथ सोना

डिंपल- मुझे नही सोना तेरे साथ

अवी- क्यो क्या हुआ, क्या मुझसे डर लग रहा है

डिंपल- मैं क्यो डरने लगी तुझसे

अवी- तो फिर चलो और अवी उसका हाथ पकड़ कर उठाने लग जाता है

डिंपल- अपना हाथ छुड़ाते हुए, अवी छ्चोड़ मुझे मैं तेरे साथ नही सोउंगी

अवी- तुम चलती हो या नही और फिर अवी उसे जबरन अपने साथ खींच कर ले जाता है और अंदर जाकर दरवाजा बंद कर लेता है, डिंपल उसे घूर कर देखती हुई अपनी अंगुली दिखा कर देख अवी तूने आज कोई ऐसी वैसी हरकत की तो मैं तुझसे कभी बात नही करूँगी

अवी- पहले तुम बेड पर चल कर बैठो तो और फिर अवी डिंपल को बेड पर बैठा देता है और

अवी- उसका हाथ पकड़ कर सहलाते हुए, उसे देख कर दीदी बस एक बार मुझसे कस कर चिपक जाओ

डिंपल- उसे घूर कर देखती हुई तू पागल हो गया है

अवी- प्लीज़ दीदी एक बार अपनी मर्ज़ी से मेरी बाँहो मे आजओ

डिंपल- अपना हाथ छुड़ा कर दूसरी और घूम कर लेटते हुए अवी मुझे चुपचाप सो जाने दे

अवी- उसके साइड मे लेट जाता है और उसकी गदराई जाँघो पर हाथ फेरता हुआ उसकी गर्दन से पास मूह लगाकर उसे धीरे-धीरे चूमने लगता है और डिंपल की साँसे तेज-तेज चलने लगती है,

अवी- दीदी

डिंपल- क्या है

अवी- मेरी तरफ घूम जाओ ना

डिंपल- क्यो

अवी- मुझे तुम्हे देखना है

डिंपल- मुझे नही घूमना

अवी- प्लीज़ देखो मैं तुम्हे कुछ नही कर रहा हू, क्या मेरी इतनी सी बात नही मनोगी

डिंपल- उसकी ओर घूम कर उसे देखती है

अवी- कितने दिन से तुम्हे मुस्कुराता हुआ नही देखा एक बार मुस्कुरा दो ना

डिंपल- धीरे से मुस्कुराते हुए बस खुश

अवी- उसके उपर अपना हाथ रख कर उसे थोड़ा सा अपनी ओर दबाता है और डिंपल गहरी साँसे लेने लगती है

अवी- अच्छा दीदी एक बात पुच्छू

डिंपल- क्या

अवी- जब मैं तुम्हे छूता हू तो तुम्हे अच्छा लगता है ना

डिंपल- मुस्कुरकर नही

अवी- मुस्कुराते हुए दीदी एक बार तुम्हे चूम लू

डिंपल- अवी मार खाएगा तू मेरे हाथो से

अवी- अच्छा मार लेना पर एक बार चूम लेने दो ना और फिर अवी एक दम से उसके रसीले होंठो को चूम लेता है और डिंपल का चेहरा लाल हो जाता है और वह मंद-मंद मुस्कुराते हुए उसे देखती रहती है

अवी- दीदी एक बात कहु

डिंपल- उसे देखती है

अवी- दीदी जब तुम मेरे सामने होती हो ना तो मेरा दिल करता है मैं तुम्हे लगातार चूमते ही रहू, सच तुम मुझे बहुत प्यारी लगती हो,
Reply
02-07-2019, 11:54 AM,
#45
RE: Chudai Story अजब प्रेम की गजब कहानी
डिंपल- उसकी बात का कोई जवाब नही देती है

अवी- दीदी मेरा दिल फिर कर रहा है तुम्हे चूमने का और डिंपल को अपनी बाँहो मे भर कर उसके रसीले होंठो को चूमने लगता है, डिंपल भी उसके एहसास मे पिघलने लगती है, अवी उसे खींच कर अपने सीने से सटा लेता है और उसका लंड खड़ा हो जाता है, अवी उसे पागलो की तरह कभी होंठो पर कभी गालो पर चूमने लगता है और डिंपल भी अपना हाथ उसकी पीठ से लगा लेती है, अवी अपना एक हाथ अपनी दीदी की मोटी-मोटी गंद पर लेजा कर उसे अपनी और खींच कर कस कर अपने से चिपका लेता है और उसके चेहरे को देखने लगता है डिंपल अपनी आँखे बंद किए हुए उससे चिपकी रहती है और अवी उसके रसीले होंठो को बड़े प्यार से चूमता रहता है,

फिर अवी अचानक डिंपल को सीधा करते हुए उसके उपर लेट जाता है और उसके मोटे-मोटे कसे हुए दूध को अपने हाथो मे भर कर कस कर दबाता है और डिंपल उसे अपनी बाँहो मे कस कर चिपका लेती है, अवी उसके गले मे अपना मूह भर कर उसे पागलो की तरह चूमने लगता है, तभी बाहर से कोई दरवाजा खटखटाता है और डिंपल को जैसे एक दम से होश आता है और वह अवी को धकेल कर जल्दी से उठ जाती है और अवी को घूर कर देखते हुए अपने बाल ठीक करके दरवाजा खोल देती है और

स्वीटी- मुस्कुराते हुए अरे तू यहाँ सोई है, मैं तुझे कब से ढूँढ रही हू आज मेरे साथ नही सोएगी क्या

डिंपल- अवी को देखती हुई चल ना मैं तो तेरा ही वेट कर रही थी,

स्वीटी- नही अगर तू यही सोना चाहे तो कोई बात नही मैं अकेली ही सो जाउन्गि

डिंपल- अवी को देख कर मुस्कुराते हुए, नही-नही मैं भी तेरे साथ ही सोउंगी और फिर दोनो बाहर चली जाती है और अवी अपने मन मे स्वीटी कमिनि तुझे अभी ही मरना था, आज की रात भी खराब हो गई और फिर अवी अपने सर के उपर चादर डाल कर लेट जाता है,

स्वीटी- क्या कर रही थी तू अवी के साथ

डिंपल- उसे घूर कर देखती हू, कुछ नही कर रही थी

स्वीटी- मुस्कुराते हुए पर तेरे होंठ तो ऐसे लग रहे है जैसे कोई बहुत देर से तुझे चूम रहा हो

डिंपल- एक दम से अपने होंठ साफ करने लगती है

स्वीटी- अरे कुछ लगा थोड़ी है जो तू साफ कर रही है, पर तेरे होंठ लाल बहुत दिख रहे है जैसे कोई इन्हे कस कर

चूस रहा हो, कही अवी तेरे होंठ तो नही चूस रहा था

डिंपल- एक दम से सकपकाते हुए, क्या बात कर रही है यार तू

स्वीटी- मुस्कुराते हुए लगता है, मैने बहुत ग़लत टाइम पर तुझे डिस्टर्ब कर दिया, आइ आम सॉरी यार

डिंपल- अरे जैसा तू सोच रही है वैसा कुछ नही है

स्वीटी- अच्छा तू एक काम कर वापस अवी के पास चली जा मैं अकेली ही सो जाउन्गि

डिंपल- अरे तेरा दिमाग़ खराब हो गया है जब मैं ने कहा ना ऐसा कुछ नही है तो फिर क्यो परेशान हो रही है

स्वीटी- अच्छा एक बात कहु

डिंपल- क्या

स्वीटी- किसी को बताएगी तो नही

डिंपल- बोल ना नही बताउन्गि

स्वीटी- क्या मैं आज रात अवी के साथ सो जाउ

डिंपल- उसे घूर कर देखती हुई तेरा दिमाग़ खराब तो नही हो गया है

स्वीटी- नही यार मैं सीरियस्ली कह रही हू, तू एक काम कर तू यहाँ आराम से सो जा मैं एक दो घंटे अवी के साथ बिताने के बाद चुपचाप आ जाउन्गि, बोल क्या बोलती है

डिंपल- इधर उधर नज़रे मारती हुई, मुझे नही मालूम तेरी जो मर्ज़ी हो वह कर मुझे सोने दे और फिर डिंपल बेड पर लेट जाती है,

स्वीटी- अच्छा ठीक है मैं जा रही हू, तुझे तो कोई प्राब्लम नही है ना

डिंपल- मुझे क्या प्राब्लम हो सकती है

स्वीटी- पर तेरा चेहरा एक दम से मुरझा क्यो गया, क्या तेरा मन नही है कि मैं तेरे भाई के साथ सो जाउ

डिंपल- उठ कर बैठते हुए, क्या तू सच मुच जा रही है

स्वीटी- हाँ भाई मैं मज़ाक थोड़े ही कर रही हू

डिंपल- उसे घूर कर देखती हुई, तो तू वहाँ जाकर क्या करने वाली है

स्वीटी- मुस्कुराते हुए, मेरी रानी मुझे बहुत चुदास लगी है, और डिंपल के सामने अपने फूली हुई चूत को मसल्ते हुए आज बहुत कीड़ा काट रहा है इसमे, आज तेरा भाई ही मेरी प्यास बुझा सकता है

डिंपल- पर क्या यह ठीक होगा

स्वीटी- अरे किसी को पता ही नही चलेगा, चल अब तू आराम से सो जा मैं आती हू और स्वीटी रूम से बाहर निकल जाती है उसके जाने के बाद डिंपल का मूड खराब हो जाता है और अपना हाथ बेड पर मारती हुई अपने मन मे बड़बड़ाने लगती है कमिनि, कुतिया साली अपने भाई से जाकर क्यो नही चुदवा लेती जिसे देखो मेरे भाई के पीछे पड़ा है, कमिनि कही की, चुदासी रंडी हो गई है, कुतिया साली, अब मैं क्या करू अगर उसने सच मुच अवी से चुदवा लिया तो, नही मैं उसे ऐसा नही करने दूँगी, मैं अभी जाकर उसका सारा खेल खराब कर देती हू

क्रमशः........
Reply
02-07-2019, 11:54 AM,
#46
RE: Chudai Story अजब प्रेम की गजब कहानी
अजब प्रेम की गजब कहानी --12

गतान्क से आगे......

और फिर डिंपल जल्दी से उठ कर अवी के रूम के पास जाकर उसके दरवाजे से धीरे से अपने कान लगा कर सुनने लगती है और जब उसे कुछ देर तक कोई आवाज़ सुनाई नही देती है तो वह दरवाजे मे कोई सुराग ढूँढने लगती है तभी अचानक उसके पीठ पर कोई हाथ आकर रख जाता है और डिंपल की साँसे वही की वही रुक जाती है और वह एक दम से घबरा जाती है और उसके मूह से चीख निकलते-निकलते रह जाती है और वह जब पलट कर देखती है तो स्वीटी खड़ी-खड़ी मुस्कुरा रही थी

डिंपल- का चेहरा शर्म से लाल हो जाता है और

स्वीटी- क्यो मेडम आधी रात को अपने भाई के रूम मे झाँकते हुए शर्म नही आती

डिंपल- उसे मारती हुई, ज़्यादा नाटक मत कर और ये बता तू तो यहाँ आने वाली थी फिर कहाँ चली गई थी

स्वीटी- मैं तो तुझे ही देख रही थी कि तू सोती है या, पर तू यहाँ क्यो आई थी

डिंपल- मैं भी देखने आई थी कि क्या तू सचमुच मेरे भाई के सामने नंगी होती है या नही

स्वीटी- चल अब बहुत हुआ तेरा ड्रामा और जा अपने भाई के साथ जाकर सो जा, मुझे कितना चलाने की कोशिश करेगी, जब कि तू अच्छी तरह जानती है स्वीटी तेरे दिल की हर बात समझ जाती है, अभी मैं तेरे भाई के पास चली जाउन्गि तो तू रात भर जलती हुई तड़पति रहेगी, इसलिए मैने तेरे भाई का विचार अपने दिल से निकाल दिया है, अब जा और अवी के पास जाकर सो जा

डिंपल- अपना सर झुकाए मुझे नही जाना

स्वीटी- अरे यार शरमाती क्यो है जा चली जा बेचारा तेरे लिए तड़प रहा होगा

डिंपल- तड़पने दे मैं नही जाउन्गि

स्वीटी- ठीक है मैं खुद ही अवी से कह देती हू कि भाई ले अपनी बहन को गोद मे उठा कर ले जा

डिंपल- खबरदार जो उससे ऐसी कोई बात की तो, चल हम तो अपने रूम मे ही सोएगे

स्वीटी- अरे तू समझती क्यो नही है, मैं अकेली सोना चाहती हू वह भी दरवाजा खोल कर, शायद मेरे भैया भाभी की चूत मार कर मेरे रूम मे रात को आ जाए और फिर मुझे भी थोड़ा सहला दे, समझा कर यार

डिंपल- उसका मूह देखती हुई, पर स्वीटी

स्वीटी- अरे यार आज मैं अपने दूध दब्वाने के लिए तरस रही हू, प्लीज़ मान जा ना, मेरा गेट खुला देख कर भैया ज़रूर आकर मेरे दूध दबाएगे और यह भी हो सकता है कि मेरी चूत भी सहला दे सच जब मेरे भैया मेरी फूली हुई चूत को अपनी मुट्ठी मे भर कर मसल्ते है ना तो बहुत मज़ा आता है, अब जा ना दरवाजा और जगा दे अवी को

डिंपल- कुछ सोच कर ठीक है तू कहती है तो मैं अवी के रूम मे सो जाती हू और फिर डिंपल अवी का गेट बजाती है और स्वीटी उसे मुस्कुरकर देखते हुए वापस अपने रूम मे चली जाती है,

अवी- जब दरवाजा खोल कर डिंपल को देखता है तो

अवी- अरे दीदी तुम, और फिर उसके पीछे देखते हुए स्वीटी कहाँ है क्या तुम उसके साथ नही सो रही हो

डिंपल- अंदर आते हुए, हाँ मुझे लगा तू अकेला बोर हो रहा होगा इसलिए यहाँ चली आई

अवी- दरवाजा लगा कर डिंपल को आते ही अपनी गोद मे उठा लेता है और डिंपल धीमी आवाज़ मे

डिंपल- अवी यह क्या कर रहा है
Reply
02-07-2019, 11:54 AM,
#47
RE: Chudai Story अजब प्रेम की गजब कहानी
अवी- उसे बेड पर लेटा देता है और उसके साइड मे लेट कर उसे तुरंत अपनी बाँहो मे भर लेता है

डिंपल- उससे छूटने का झूठा नाटक करते हुए, अवी प्लीज़ ये सब मत कर

अवी- अरे दीदी मुझे नही मालूम था कि तुम्हारी इन बाँहो मे इतना सुख मिलता है आज मैं तुम्हे रात भर नही सोने दूँगा

और फिर अवी उसे पागलो की तरह कभी उसके गालो को कभी उसके गले को और कभी उसके होंठो को चूमने लगता है और अपने एक हाथ से उसे अपनी ओर दबाए हुए दूसरे हाथ से उसके मोटे-मोटे दूध को कस कर पकड़ कर दबाने लगता है

और डिंपल अपनी आँखे बंद किए हुए उससे चिपकी रहती है, अवी डिंपल के होंठो को चूस-चूस कर लाल कर देता है और उसका लंड उसके पेंट मे तन कर खड़ा हो जाता है, कुछ देर तक डिंपल को बुरी तरह मसल्ने के बाद

अवी- दीदी आँखे खोलो ना

डिंपल- अपनी आँखे खोल कर उसे देखती है और अवी यह क्या कर रही थी तुम मुझसे चिपक कर

डिंपल मुस्कुराते हुए उसके सीने पर मारती हुई छ्चोड़ मुझे

अवी- दीदी मैं तुम्हारी जीन्स उतार दू

डिंपल- एक दम से बैठते हुए, उसको घूर कर देखती हुई तू पागल हो गया है, तूने सोच भी कैसे लिया कि मैं तेरे सामने

अवी- प्लीज़ दीदी उतार दो ना मैं तुम्हे पूरी नंगी देखना चाहता हू

डिंपल- उसको गुस्से से देखती हुई, तुझे शर्म नही आती मुझसे ऐसी बात कहते हुए

अवी- तो इसमे ग़लत क्या है मैं तुम्हे पूरी नंगी करके अपने सीने से लगाना चाहता हू

डिंपल- अवी बहुत हो गया तेरा नाटक अब होश मे आ जा

अवी- एक दम से उसके होंठ चूस्ते हुए उसके मोटे-मोटे दूध को मसल देता है और डिंपल उसे एक झटके मे दूर करके बेड से उतार कर खड़ी हो जाती है

अवी- दीदी यह क्या है तुम मेरी बात सीधे -सीधे मनोगी या नही

डिंपल- गुस्से से उसे देखती हुई कभी नही

अवी- ठीक है तो मैं तुम्हे ज़बरदस्ती नंगी कर दूँगा

डिंपल- अपनी उंगली दिखाते हुए गुस्से से मुझे हाथ भी लगाया तो मैं तेरा मूह तोड़ दूँगी

अवी- जब तुम्हे कुछ नही करना था तो क्यो आई थी यहा जाओ वापस चली जाओ, और आज के बाद मुझसे बात मत करना

डिंपल- कुछ नरम पड़ते हुए देख अवी जो तू चाह रहा है वह ग़लत है और मैं तेरे साथ ऐसा नही कर सकती हू

अवी- ग़लत ही सही पर मैं तुम्हे नंगी देखना चाहता हू

डिंपल- अवी प्लीज़ चुप हो जा और उधर सरक मुझे सोने दे

अवी -दूसरी तरफ सरक जाता है और डिंपल उसके बगल मे लेट कर उसकी ओर अपनी पीठ कर लेती है अवी उसके साथ कस कर चिपक जाता है और

अवी- ठीक है दीदी तुम आज जब सो जाओगी तब मैं रात को तुम्हे चुपचाप नंगी कर दूँगा

डिंपल- चुप चाप लेटी रहती है और अवी उसके ठोस दूध को अपने हाथ मे दबोच कर कस कर मसल्ते हुए, सच दीदी तुम्हारे दूध कितने मस्त है, तुम्ह नंगी कितनी सुंदर लगती होगी, अच्छा कम से कम अपनी ये टीशर्ट ही उतार दो और फिर अवी उसकी टीशर्ट को उपर सरकाने लगता है और डिंपल एक दम से पेट के बल लेट जाती है अवी थोड़ा उठ कर उसकी टीशर्ट को उसकी पीठ पर चढ़ा कर उसकी नंगी पीठ को चूमने लगता है और डिंपल अपनी आँखे बंद किए हुए, सिसकिया लेने लगती है
Reply
02-07-2019, 11:54 AM,
#48
RE: Chudai Story अजब प्रेम की गजब कहानी
अवी उसकी टीशर्ट के अंदर से अपना हाथ डाल कर उसके पेट के नीचे ले जाता है और फिर उसे थोड़ा उठा कर उसकी टीशर्ट को उसके दूध के उपर तक चढ़ा कर जब उसके मोटे-मोटे नंगे दूध को अपने हाथ मे पकड़ कर मसलता है तो उसे मज़ा आ जाता है और डिंपल की साँसे बहुत तेज चलने लगती है, अवी उसे घुमा कर अपनी ओर कर लेता है डिंपल अपनी आँखे बंद किए हुए पड़ी रहती है और अवी उसकी मोटी-मोटी चुचियो को खूब कस कर मसल्ते हुए उसकी एक चुचि के गुलाबी निप्पल को अपने मूह मे भर लेता है और डिंपल एक दम से सीसियाते हुए उसके साथ कस कर चिपक जाती है,

अवी उसके दूध को अपने दांतो से हल्के-हल्के काटते हुए अपना हाथ उसके पीछे लेजा कर उसकी मोटी गदराई गंद को अपने हाथो से दबोचने लगता है और डिंपल की चूत से भी पानी आने लग जाता है, कुछ देर तक अवी उसके दूध को चूस्ता रहता है उसके बाद वह उसकी टीशर्ट को उतार कर अलग कर देता है और डिंपल अपनी आँखे बंद किए हुए पड़ी रहती है अवी पागलो की तरह उसको देखता रहता है और फिर जल्दी से अपने सारे कपड़े उतार कर पूरा नंगा हो जाता है और जब वह डिंपल की नंगी छातियो को अपनी नंगी छातियो से चिपकाता है तो डिंपल एक दम से पागल हो जाती है और अवी से कस कर चिपकते हुए उसके होंठो को पागलो की तरह चूमने लगती है अवी एक दम से उसके जीन्स के उपर से ही उसकी फूली हुई चूत को अपने पंजो मे भर कर दबोच लेता है और डिंपल उससे कस कर चिपक जाती है,

अवी- दीदी अब तो उतार दू तुम्हारी जीन्स और उसका हाथ पकड़ कर जैसे ही अपने खड़े लंड पर रखता है डिंपल एक दम से आँखे खोल कर उसके लंड को देखने लगती है और अवी उसके होंठो को चूस्ता हुआ उसके हाथ को अपने लंड पर दबा देता है डिंपल उसके लंड को पकड़ने मे शरमाने लगती है तब अवी उसकी जीन्स के बेटॉन खोलकर उसकी जीन्स को नीचे सरका देता है और जब वह अपनी दीदी की वाइट पेंटी मे फूली हुई गुदाज चूत को देखता है तो सीधा अपना मूह उसकी चूत के उपर रख कर उसे अपने मूह से दबाने लग जाता है और डिंपल आह-आह करने लगती है, अवी अपने हाथ को उसकी पेंटी के अंदर डाल कर उसकी चूत को अपने हाथो मे भर कर कस कर दबोच लेता है और डिंपल उससे कस कर चिपक जाती है

दोनो एक दूसरे से पूरे नंगे होकर चिपके रहते है उस रात अवी और डिंपल के बीच शारीरिक संबंध बन जाते है और

फिर कुछ दिन वो लोग गाँव मे एंजाय करते है उसके बाद वापस अपनी दुनिया मे आकर उनकी रोज की दिनचर्या शुरू हो जाती है,

समाप्त
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Desi Porn Kahani कहीं वो सब सपना तो नही sexstories 487 145,921 07-16-2019, 11:36 AM
Last Post: sexstories
  Nangi Sex Kahani एक अनोखा बंधन sexstories 101 190,942 07-10-2019, 06:53 PM
Last Post: akp
Lightbulb Sex Hindi Kahani रेशमा - मेरी पड़ोसन sexstories 54 39,114 07-05-2019, 01:24 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna kahani वक्त का तमाशा sexstories 277 81,463 07-03-2019, 04:18 PM
Last Post: sexstories
Star vasna story इंसान या भूखे भेड़िए sexstories 232 63,395 07-01-2019, 03:19 PM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Incest Kahani दीवानगी sexstories 40 45,928 06-28-2019, 01:36 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Bhabhi ki Chudai कमीना देवर sexstories 47 58,046 06-28-2019, 01:06 PM
Last Post: sexstories
Star Maa Sex Kahani हाए मम्मी मेरी लुल्ली sexstories 65 53,752 06-26-2019, 02:03 PM
Last Post: sexstories
Star Adult Kahani छोटी सी भूल की बड़ी सज़ा sexstories 45 44,590 06-25-2019, 12:17 PM
Last Post: sexstories
Star vasna story मजबूर (एक औरत की दास्तान) sexstories 57 49,645 06-24-2019, 11:22 AM
Last Post: sexstories

Forum Jump:


Users browsing this thread: 3 Guest(s)