XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
07-22-2017, 03:41 PM,
#31
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
कल रात को तो उसका लंड पूरा खड़ा हुआ था, पर इस वक़्त काजल के टच से वो नींद से जागने लगा..तभी कहते हैं, लंड का अपना अलग दिमाग़ होता है...उसका मालिक भले ही सो रहा था पर केशव का लंड अपने आप को मिल रहे स्पेशल ट्रीटमेंट से काफ़ी खुश था.और कुछ ही देर में वो खेत की सरसों की तरह लहराने लगा..

काजल ने अपने लिप्स पर पिंक ग्लॉस लगाया हुआ था...जिसे उसने धीरे-2 केशव के लंड पर मल दिया...वो तेज़ी से उसके लंड को चूस रही थी..कल रात के जायके को वो भूली नही थी अभी तक...इसलिए उसके जूस निकलने का बेसब्री से वेट कर रही थी...

और उसने जिस तरह से तेज झटके मारकर केशव के लंड को झटके दिए, उसे नींद से जागने के लिए उतने झटके काफ़ी थे...और वैसे भी , नींद में ही सही, उसे ये एहसास हो रहा था की उसका बस निकलने ही वाला है...और जैसे ही वो घड़ी आई...उसके लंड की टंकी और उसकी आँखे एक साथ खुल गयी..

लंड की टंकी से भरभराकर गाड़ा पानी काजल के मुँह में जाने लगा..और वो अपनी अधखुली आँखो से अपनी टाँगो के बीच लेटी हुई काजल को देखकर हैरान और परेशान हुए जा रहा था..

पर जब तक वो कुछ बोल पाता वो बिल्ली उसकी सारी मलाई चट कर चुकी थी...और फिर बड़े ही सेक्सी तरीके से उसकी आँखो मे देखते हुए उसने अपने होंठों पर जमे रस को चाटते हुए कहा : "गुड मॉर्निंग भाई ...''

और केशव उसको पकड़कर कुछ और कर पाता , वो खिलखिलाती हुई सी कमरे से बाहर निकल गयी...उसके ऑफीस का टाइम हो गया था.

फिर 5 मिनट के बाद वो अपना बेग वगेरह लेकर घर से बाहर निकल गयी..

केशव अभी तक अपने बेड पर नंगा लेटा हुआ सुबह के इस हसीन एनकाउंटर के बारे मे सोच सोचकर मुस्कुरा रहा था.

वो फिर से सो गया...करीब 10 बजे के आस पास उसकी नींद खुली, उसका मोबाइल बज रहा था...वो सारिका का फोन था.

केशव (बुदबुदाते हुए) 'इसकी चूत में भी सुबह-2 खुजली शुरू हो जाती है'

फिर फोन उठा कर बड़े ही प्यार से बोला : "हेलो डार्लिंग...कैसी हो..''

सारिका : "तुम्हे क्या पड़ी है मेरी फ़िक्र करने की...दो दिन से देख रही हू तुम मुझे इग्नोर कर रहे हो..उस दिन जब काजल ने पकड़ लिया था, उसने कुछ बोला क्या...बोलो...''

केशव : "अरे नही बेबी...वो तो . काफ़ी खुश थी..और तुम्हारी तारीफ भी कर रही थी...बोल रही थी की तुम दोनो में कुछ ग़लतफ़हमियाँ हो गयी है, वरना वो अभी भी तुम्हे बहुत लाइक करती है...और मेरे और तुम्हारे ऐसे रीलेशन से भी दीदी को कोई प्राब्लम नही है..''

सारिका (हैरानी से) : "क्या सच में ....तुम झूठ तो नही बोल रहे ना...''

केशव : "डार्लिंग...मैं भला क्यो झूठ बोलूँगा...सच मे, वो अभी भी तुम्हे अपना दोस्त मानती है...''

सारिका : "ग़लती मेरी ही थी पहले भी....और अब भी...इतनी अच्छी सहेली के साथ मैने ऐसा बर्ताव किया...''

केशव : "चलो, अब परेशान मत हो, अगर तुम दीदी के साथ फिर से दोस्ती करना चाहती हो तो वो मुझपर छोड़ दो...अब ये बताओ, इतनी सुबह कैसे फोन किया...''

सारिका (थोड़े नाराज़गी भरे स्वर मे) : "तुम्हे तो कुछ होता नही है...पर मेरी हालत बड़ी खराब है...बड़ा मन कर रहा है तुमसे मिलने का (चुदवाने का)''

उसकी सेक्सी आवाज़ ने तो केशव के सोए हुए शेर को फिर से जगा दिया ...अभी 10 बज रहे थे...उसको नहाना भी था और नाश्ता भी करना था...माँ को भी नाश्ता करवाना था...इंजेक्शन लगवाना था...

केशव : "तुम ऐसा करो, 3 बजे आ जाओ...माँ तब तक खाना खाकर सो जाएँगी...फिर बस तू और मैं ...''

सारिका : "ओक ....मैं आती हू, 3 बजे...''

फिर केशव आराम से उठा और नहाया ..अपनी किस्मत पर उसको आज बड़ा ही नाज़ हो रहा था...

काजल और सारिका की दोस्ती वो इसलिए करवाना चाहता था की उसके मन में कही ना कही एक साथ 2 के मज़े लेने की बात थी....पर उसे क्या मालूम था की उसकी ये इच्छा इतनी जल्दी सच हो जाएगी..

क्योंकि काजल के ऑफीस में दिवाली का गिफ्ट मिलने के बाद 2 बजे छुट्टी हो गयी...और वो घर की तरफ निकल पड़ी...ये सोचते हुए की एक घंटे मे घर पहुँचकर वो खुलकर मज़े लेगी केशव के साथ...
Reply
07-22-2017, 03:41 PM,
#32
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
***********
अब आगे
***********

और चादर निकलते ही जो सीन सारिका ने देखा, उसकी तो शायद उसने कल्पना भी नही की थी...केशव की सग़ी बहन और उसकी पुरानी सहेली काजल घोड़ी बन कर अपने खुद के भाई का लंड चूस रही थी..

और अपने उपर से ऐसे चादर निकल जाने के बाद मस्ती मे आँखे बंद करके लंड चूसती हुई काजल ने आँखे खोली और सामने डर और आश्चर्य के भाव लिए अपने भाई के चेहरे को देखा, जो कभी उसको और कभी उसके पीछे खड़ी सारिका को देखकर ये सोच रहा था की अब क्या होगा..

केशव को ऐसे हैरान -परेशान देखकर और उसकी आँखो का पीछा करते हुए जैसे ही काजल ने अपने पीछे खड़ी सारिका को देखा तो उसे सब समझ मे आ गया..

इसका मतलब उसकी एंट्री ग़लत टाइम पर हो गयी...केशव और सारिका के बीच पहले से ही चुदाई का खेल चल रहा था...वो ऐसे ही बीच मे घुस आई..

और सबसे बड़ी बात, सारिका ने उसे रंगे हाथों पकड़ भी लिया...वैसे देखा जाए तो सारिका भी नंगी-पुँगी खड़ी थी और वो भी चुदाई करते हुए रंगे हाथो पकड़ी गयी थी..पर यहाँ मसला वो नही था..

यहाँ प्राब्लम ये थी की काजल पकड़ी गयी थी , अपने भाई के लंड को चूसते हुए..

सारिका : "काआआजल ......तुम !!!!!!!!!!!!!......और वो भी अपने भाई के साथ .......''

तब तक काजल संभल चुकी थी...और ये भी सोच चुकी थी की उसे कैसे वो सिचुएशन हेंडल करनी है..

केशव भी समझ चुका था की कोई बड़िया वाला सीन होने वाला है वहाँ पर..

सारिका के गुस्से का काजल ने बड़े ही प्यार से जवाब दिया..: "हाँ ....मैं ...क्यो....इतनी परेशान क्यो हो रही है तू मुझे ये सब करते देखकर..''

सारिका : "मतलब....तू ये भी नही जानती की मैं परेशान क्यो हूँ ...तू मेरे बाय्फ्रेंड के साथ, और उसके भी उपर अपने खुद के भाई के साथ ये सब कर रही है...तुझे शर्म नही आती...''

काजल : "पर ये सब तो मैं तेरे कहने पर ही कर रही हू..''

अब हैरान होने की बारी सारिका के साथ-2 केशव की भी थी..

सारिका : "मेरे कहने पर ???? क्या मतलब है तेरा..!!!''

काजल : "तुझे याद है, तूने ही एक बार कहा था की हम एक दूसरे के पार्टनर्स को आपस मे शेयर करेंगे...फिर चाहे वो बाय्फ्रेंड हो या हसबैंड ''

सारिका (दिमाग़ पर ज़ोर डालते हुए) : "हाँ ...याद है...पर वो तो 2 साल पहले की बात है...और वो बात अलग थी...यहाँ तो तू अपने खुद के भाई के साथ ये सब कर रही है..''

काजल : "देख...मुझे इस बात से कोई फ़र्क नही पड़ता की तेरा बाय्फ्रेंड कौन है....अगर तेरा बी एफ एक रिक्शा चलाने वाला भी होता तो भी मैं यही करती, मेरा भाई है, तब भी मैं यही कर रही हू...''

सारिका का तो दिमाग़ ही चकरा गया उसकी दलील सुनकर...और केशव मन में अपनी बहन की तारीफ किए बिना नही रह पाया..

काजल : "पिछली बार जब मैने तुम दोनो को रंगे हाथ पकड़ा था तो मुझे भी ऐसे ही शॉक लगा था...हमारे बीच भले ही बातचीत बंद है, पर मैं अपने वादे को आज तक नही भूली हू...जैसे की मैं अब तक अपनी दोस्ती को भी नही भूली...तुझे अपनी दोस्ती और वो वादा याद दिलाने के लिए ही मैने ये सब किया है..''

काजल ने बड़ी ही चालाकी से सारिका का ध्यान अभी के इन्सिडेंट से हटा कर अपनी दोस्ती के इमोशनल पॉइंट की तरफ कर दिया था..

काजल : "उस दिन ही मैने सोच लिया था की भले ही तुझे ये बात याद नही है, पर मैं अपनी दोस्ती में किया हुआ वो वादा नही भूलूंगी, जो हमने एक साथ किया था...की हम एक दूसरे के पार्टनर्स को ऐसे ही खुश करेंगे, जैसे खुद के पार्ट्नर को करते हैं...मुझे भी पता है की अपने भाई के साथ ये सब करना ग़लत है, पर मेरे लिए भाई से बढ़कर अपनी दोस्ती में किया हुआ वादा है...जो शायद तू भूल चुकी है...अपनी दोस्ती की तरह..''

इतना बहुत था सारिका की आँखों से पश्चाताप के आँसू निकालने के लिए..

सारिका रोती हुई उसकी तरफ आई और नंगी ही उसके गले से लिपट कर फूट-2 कर रोने लगी

सारिका : "मुझे माफ़ कर दे काजल....मैने तुझे कितना ग़लत समझा.... पहले भी मेरी ही ग़लती थी...वरना तुझ जैसी सहेली को खोकर मुझे भी अच्छा नही लगा...मुझे माफ़ कर दे काजल..''

सारिका के गले लगते हुए काजल का चेहरा केशव की तरफ था...और वो एक कुटिल हँसी हंसकर उसे आँख भी मार रही थी..

अचानक केशव ने काजल को इशारा किया की वो दोनो आपस मे कुछ करे...क्योंकि उसने पिछली बार ही सोच लिया था की दोनो सहेलियों को एक साथ चोदेगा ...और वो शायद जल्द ही होने भी वाला था...पर उससे पहले वो उन दोनो का लेस्बियन सेक्स देखना चाहता था, जो आज तक उसने सिर्फ़ मूवीस मे ही देखा था..

काजल ने बुरा सा मुँह बनाया पर केशव ने रोता हुआ चेहरा बना कर अपने दोनो हाथ उसके आगे जोड़ दिए...और फिर अपने खड़े हुए लंड को उसकी आँखो के सामने लहराकर उसे वो लालच भी दिया, जिसके लिए वो जाने कब से तड़प रही थी...

काजल ने भी सोचा की ये भी ट्राइ कर ही लेना चाहिए...हालाँकि दोनो सहेलियों में पहले काफ़ी खुलकर बात होती थी..पर दोनो ने एक दूसरे के अंगो को कभी टच नही किया था और ना ही एक दूसरे को कभी नंगा देखा था...पर आज काजल ने सारिका को नंगा देख ही लिया था..और अब केशव के कहने पर उसे भी उसी की तरह नंगा होकर खेल खेलना था अपने भाई को खुश करने के लिए..

काजल ने एक गहरी साँस ली और उसके दोनो हाथ सरकते हुए आगे की तरफ आए और उसने सारिका के दोनो मुम्मे पकड़ लिए...और अपनी उंगलियों से उसके निप्पल्स पकड़कर होले से सहला दिए..

सारिका : "अहह ..... क्या कर रही हो काजल ...''

काजल : "एक नयी दोस्ती की शुरूवात...''

सारिका ने उसको सवालिया नज़रों से देखा...और फिर एक नज़र केशव पर डाली...उसने भी गर्दन हिला कर और पलकें बंद करते हुए अपनी सहमति दे दी..की करने दे, जो काजल करना चाहती है..उसके बाद सारिका ने कुछ नही कहा और बस देखती रही की आख़िर काजल कहाँ तक जाती है..

काजल ने सारिका के सिर के पीछे हाथ रखा और उसे अपनी तरफ खींच लिया और उसके होंठों को ज़ोर-2 से चूसने लगी..
Reply
07-22-2017, 03:42 PM,
#33
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
ये काम काजल हमेशा से करना चाहती थी...जब वो दोनो पक्की सहेलियाँ थी तब वो हमेशा ही सारिका की सुंदरता की प्रशंसक रही थी...वो खुद उसे चूमना चाहती थी..उसके नंगे जिस्म से खेलना चाहती थी...पर ऐसा मौका ही नही मिला कभी...सिर्फ़ बातें होती थी दोनो के बीच सेक्स को लेकर...एक दूसरे के बाय्फ्रेंड को शेयर करने के बारे मे..पर जब तक बात आगे बड़ पाती, दोनो मे झगड़ा हो गया और बातचीत बंद हो गयी...ये तो अच्छा हुआ की आज वो ऐसी परिस्थिति मे आकर सारिका के नंगे जिस्म से फिर से मज़े ले पा रही है..वरना ऐसा कुछ वो कर पाएगी, उसने सोचा भी नही था...और उपर से केशव ने भी काजल को उकसा दिया था..इसलिए वो अपने भाई की मरजी की आड़ मे अपनी दबी हुई इच्छा को पूरा कर रही थी.

काजल तो सारिका के नर्म होंठों को ऐसे चूस रही थी,जैसे आज का दिन उसकी जिंदगी का आख़िरी दिन है...उसके होंठ, गाल,आँखे,गर्दन...सभी को बुरी तरह से चूम और चाट रही थी...और फिर वो उसके मदमस्त स्तनों के उपर आकर रुक गयी...अपने दोनो हाथों में लेकर उनका वजन नापा और बोली : "काफ़ी बड़े हो गये है ये पहले से...लगता है भाई काफ़ी मेहनत करता है इनपर...''

यही बात कुछ देर पहले केशव ने भी कही थी...और अब काजल भी कर रही थी...दोनो भाई-बहन के विचार कितने मिलते-जुलते थे...सारिका ये सोच ही रही थी की काजल ने उसके मुम्मो पर फिर से हमला कर दिया..और उन्हे नींबू की तरह निचोड़कर उभरे हुए निप्पल्स को मुँह मे लेकर ज़ोर-2 से चूसने लगी..

''अहह ......... धीईईईरए ..........काजल ................... तू तो केशव से भी आगे निकल रही है............... अहह ....इतनी ज़ोर से तो वो भी नही चूसता ...............''

पर काजल ने उसकी एक ना सुनी और उसकी गोलाइयों के साथ नोच-खसोट करती रही....

सारिका के हाथ उसकी पीठ पर थे...और जैसे ही काजल ने एक बार फिर से उसके निप्पल पर दाँत मारा, सारिका जोर से चीख पड़ी और उत्तेजना मे भरकर उसके हाथ काजल की ब्रा स्ट्रेप पर ज़ोर से कस गये और उसने उन्हे अपनी तरफ खींच डाला...और उसकी ब्रा के पिछले हुक इस बेदर्द हमले को झेल नही पाए और वो टूटते चले गये..

पर काजल पर इसका कोई असर नही था...वो अपना काम करती रही..

सारिका ने भी आवेश मे आकर उसके सूट की कमीज़ को पकड़कर उपर खींच दिया और गले से घुमा कर निकाल दिया..ब्रा तो पहले से ही टूट चुकी थी...इसलिए वो भी सूट के साथ-2 बाहर आ गयी...और अब काजल उपर से नंगी होकर सारिका के मुम्मे चूस रही थी..

सारिका का ध्यान अब केशव की तरफ गया...वो देखना चाहती थी की अपनी बहन को ऐसे उपर से नंगा देखकर वो भला क्या करता है...सारिका के हिसाब से तो आज ये भाई बहन पहली बार ही एक दूसरे को ऐसे नंगा देख रहे थे...उसे क्या पता था की पिछले कुछ दिनों से दोनो के बीच क्या-2 हुआ है और वो दोनो कहाँ तक निकल चुके हैं...भले ही उनके बीच चुदाई नही हुई, पर बाकी के सब काम वो अच्छी तरह से कर चुके थे..

सारिका ने देखा की काजल को टॉपलेस देखकर केशव के हाथ अपने लंड पर और तेज़ी से सरकने लगे और वो उन्हे ज़ोर-2 से मसलकर अपने लंड को खुश करने मे जुट गया..

सारिका ने सोचा की जब इन दोनो भाई-बहन को कोई प्राब्लम नही है तो वो क्यो पीछे रहे...वैसे भी किसी लड़की ने आज पहली बार उसको इस तरह से उत्तेजित किया था..और अपने प्रेमी के सामने वो किसी से ऐसे मज़े ले, ये बात भी उसे अंदर से उत्तेजित कर रही थी..

उसने काजल का नाड़ा खींच कर उसकी सलवार भी निकाल दी...

केशव की नाज़रों के सामने पहली बार एक साथ 2-2 जवान लड़कियाँ नंगी थी...जो उसकी फॅंटेसी रही थी हमेशा से...वो उन दोनो को एक दूसरे से गुत्थम - गुत्था होकर चूमा चाटी करते देखकर बुरी तरह से उत्तेजित हो चुका था..वो चाहता तो अभी के अभी बीच मे कूद कर दोनो से अच्छी तरह के मज़े ले सकता था..पर पहले वो उन दोनो का लेस्बियन सेक्स देखना चाहता था.

काजल भी अपने दिल की दबी हुई इच्छाओं को पूरा करती जा रही थी...सारिका के मुम्मे चूसने के बाद वो धीरे-2 नीचे बैठ गयी और उसकी चूत पर अपने नर्म होंठ रखकर उन्हे चूसने लगी..


''अहह .... ओह सारिका ......................... आई विल डाई ...... मत करो ऐसे .....''

सारिका का वो वीक पॉइंट था...उसकी चूत को केशव जब भी चूसता था तो सारिका का बुरा हाल हो जाता था...और यही काम अब उसकी बहन उसके साथ कर रही थी..

सारिका दीवार से जा कर सट गयी और आराम से अपनी चूत चटवाने का मज़ा लेने लगी..

उसका सिर इधर-उधर घूम रहा था...मज़ा ही ऐसा मिल रा था उसको की वो तो जैसे आसमान पर उड़ती जा रही थी..

काजल ने अपनी एक-2 करते हुए चारों उंगलियाँ उसकी चूत के अंदर उतार दी...और अंदर बाहर करती हुई,जीभ से चाट्ती भी रही ...ऐसा सुखद एहसास एक लड़की ही एक लड़की को दे सकती है...


सारिका अपने होंठों को दांतो तले दबाकर मज़े ले रही थी..

वो झड़ने के करीब पहुँच गयी...पर सारिका ये मज़े दूर तक लेना चाहती थी..

उसने काजल को उपर खींच लिया और उसके चूत के रस से भीगे होंठों को मुँह मे लेकर चूसने लगी...साथ ही वो उसके दोनो मुम्मो को भी दबा रही थी...ऐसा सीन देखकर केशव का बुरा हाल हो रहा था..पर वो दोनो तो जैसे अब केशव के बारे मे भूल ही चुकी थी...दोनो बस आपस मे मज़े लेकर ही एक दूसरे के अंदर समा चुके थे..

अब सारिका की बारी थी....उसने काजल को घसीट कर साइड में बनी एक शेल्फ के उपर चड़ा दिया और उसकी टांगे फेला कर अपने होंठ वहाँ लगा दिए...


आज उसका भी ये पहला मौका था किसी की चूत चूसने का..पर वहाँ होंठ लगते ही उसे जब चूत के रस के स्वाद का एहसास हुआ तो उसके बाद वो रुकी ही नही...और अपनी जीभ निकाल कर अंदर तक चूसने लगी...चाटने लगी..

काजल भी एक हाथ से अपने मुम्मे को और दूसरे से सारिका के बालों को सहला कर आँखे बंद करके सिसकारियाँ मारने लगी..

''ओह ...सारिका ...............माय डार्लिंग .................... उफफफफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ ...... कहाँ थी इतने दिनों से ................... अहह .....सकक्क मी बेबी .................अंदर तक चूसो मुझे ............अहह ...बहुत मज़ा आ रहा है ....... बहुत अच्छा चूस रही हो तुम ...''

काजल के मुँह से अपनी कला की तारीफ सुनकर वो और भी बावली सी होकर अपनी सहेली को मज़ा देने लगी...

और फिर जल्द ही काजल की सिसकारियाँ चीखों मे बदलने लगी...क्योंकि वो झड़ने के करीब आ गयी थी...
Reply
07-22-2017, 03:43 PM,
#34
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
***********
अब आगे
***********

काजल ने आख़िरी वक़्त मे सारिका के सिर को पकड़कर उपर खींच लिया और उसके रस से भीगे होंठों को पकड़कर अपने मुँह मे दबोच लिया...

और सारिका ने अपनी उंगलियों को अपने होंठों की जगह लगाकर काजल की चूत को मसलना जारी रखा..

और सारिका के होंठों को चूस्टे हुए, उसकी उंगलियों को अपनी चूत पर महसूस करते हुए काजल बुरी तरह से झड़ने लगी..



उसकी चूत में से देसी घी निकलकर सारिका की उंगलियों को भिगो गया..

और काजल निढाल सी होकर उस स्लेब से नीचे आ गयी...और सोफे पर धम्म से जाकर बैठ गयी...

पर उसे मालूम था की अब उसे सारिका को भी ऐसा ही एहसास देकर झाड़ना होगा...उसने साथ बैठी सारिका को पकड़कर उसकी चूत में अपनी 2-3 उंगलियाँ पेल दी और बिना किसी वॉर्निंग के अंदर बाहर करने लगी..

सारिका भी सोफे पर लेट सी गयी....और उसने काजल के गले मे हाथ डालकर उसे अपनी तरफ खींच लिया...केशव तो दूर बैठा उन्हे ऐसा करते हुए देख रहा था, ऐसा लग रहा था जैसे उन दोनो के बीच रेसलिंग हो रही है...



काजल ने सारिका को घोड़ी बनाया और उसकी चूत को पीछे से चाटने लगी...साथ ही साथ वो अपनी जीभ से उसकी गांद के छेद को भी कुरेद रही थी...ये काम केशव ने भी कई बार किया था उसके साथ..पर आज काजल के द्वारा ऐसा करना उसे उससे भी ज़्यादा पसंद आ रहा था..


और फिर वही हुआ, जिसके लिए इतनी मेहनत की जा रही थी...सारिका एक बार फिर झड़ने लगी...अपनी सहेली के मुँह के अंदर ही उसने अपना सारा जूस निकाल दिया...

''अहह ........ ओह माय गॉड ................. काजल .................. यू आर अमेजिंग ............... आई एम लविंग इट ....''

और उसके मुँह के उपर अपनी गद्देदार गांड रगदकर उसने बचा खुचा रस उसके चेहरे पर मल दिया...

दोनो के चेहरे पर एक अजीब सी खुशी थी..

दोनो एक दूसरे को चूमने लगी..और चेहरे और होंठों पर लगे रस का पता भी नही चला की कहाँ चला गया...दोनो के चेहरे ऐसे चमक रहे थे जैसे किसी ब्यूटी पार्लर से होकर आई हो..

और उन दोनो के दमकते चेहरे देखकर केशव के लंड का खून दुगनी तेज़ी से दौड़ने लगा ..

और दोनो सहेलियो ने भी आँखो -2 में इशारा करके एक दूसरे का ध्यान केशव के हिनकते लंड की तरफ खींचा...

और फिर दोनो मुस्कुराती हुई सी केशव की तरफ चल दी..

ऐसे ही...

नंगियाँ ...

केशव समझ गया की अब वो पल आ गया है जिसका उसे कब से इंतजार था...यानी काजल की चुदाई का.

वो अपने लंड को मसल-2 कर काजल की लश्कारे मार रही चूत को देखे जा रहा था..वो फूल कर डबलरोटी जैसी हो गयी थी..और गोर से देखने पर पता चला की वो थिरक भी रही है...जैसे एक अलग से दिल धड़क रहा हो उसकी चूत के अंदर..

वो दोनो जैसे ही केशव के बेड के पास पहुँची, मैन गेट की घंटी ज़ोर से बजने लगी

टिंग टोंग ......................... टिंग टोंग ................... टिंग टोंग

कोई बाहर खड़ा होकर लगातार घंटी बजाए जा रहा था..और केशव की तो झाँटे सुलग उठी घंटी की आवाज़ सुनकर

''अब कौन आ मरा...अपनी माँ चुदवाने ....''

ये शायद पहली बार था जब ऐसी गाली केशव ने दी थी...काजल के सामने..

उसने काजल को इशारा करके खिड़की खोलकर बाहर झाँकने को कहा, जहाँ से देखा जा सकता था की बाहर कौन है..वो तो नंगी थी...फिर भी अपने भाई की बात मान कर उसने धीरे से खिड़की खोली और थोड़ा सा खोल कर बाहर झाँका, बाहर केशव का दोस्त बिल्लू था

काजल : "बिल्लू है बाहर...ये इस वक़्त क्या करने आ गया...''

इस बीच सारिका भी शायद समझ चुकी थी की अब ये खेल यहीं ख़त्म करना पड़ेगा..इसलिए उसने तो अपने कपड़े समेट कर पहनने भी शुरू कर दिए थे..

केशव झल्लाता हुआ उठा और अपनी टी शर्ट पहन कर उसने पूरी खिड़की खोल दी और बाहर झाँक कर बोला : "बोल बिल्लू .... क्या काम है ..''

बिल्लू ने उपर देखा और बोला : "केशव भाई...जल्दी से दरवाजा खोलो...एक बहुत ज़रूरी बात करनी है...''

केशव (गुस्से में ) : "यार...शाम को तो मिल ही रहे हैं ना...तभी कर लेंगे...अभी मुझे सोने दे...''

वो किसी भी तरह उसे टरका देना चाहता था...क्योंकि इस वक़्त तो उसके सामने अपनी बहन की कुँवारी चूत घूम रही थी..

बिल्लू : "नही भाई...शाम को नही...अभी...शाम को राणा भी होगा ना यहाँ ...उसके बारे में ही बात करनी है...''

अब केशव का भी दिमाग़ ठनका ...ये राणा के लिए क्या बात करना चाहता है...उसको लेकर तो वो खुद कल रात से कितने प्लान बना रहा था...उसके जैसे बंदे से जुआ जीतने में कितना मजा मिलेगा, वो सब स्कीमें बना रहा था वो कल से..

केशव : "अच्छा रुक जा...मैं अभी आता हू...''

और इतना कहकर उसने खिड़की बंद कर दी...सारिका अपने कपड़े पहन चुकी थी और वो काजल के सूट की जीप को पीछे से बंद करने मे उसकी हेल्प कर रही थी..
Reply
07-22-2017, 03:44 PM,
#35
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
काजल (नाराज़गी भरे स्वर मे) : "क्या केशव....तुम भी ना, उसको भगा नही सकते थे क्या...इतना सही सरूर बन चुका था ...साला एन टाइम पर आ टपका...''

केशव : "यार दीदी .... गुस्सा तो मुझे भी आ रहा है...पर अब मैं भी क्या करू...कोई ज़रूरी बात करनी है उसे...शाम के जुए के बारे में ...हम तो अब ये काम कभी भी कर लेंगे..''

काजल : "ओहो .... तब तो जाकर सुन ही लो .... शायद कोई काम की बात करने आया हो...और रही बात मेरी, तो मैने आज तक इतने साल वेट ही तो किया है...कुछ देर और सही...''

वो अपनी चूत को मसलते हुए बोली..

जुए के बारे मे दोनो भाई-बहन को ऐसे बात करते देखकर सारिका चोंक गयी और बोली : "जुआ .... इसका मतलब आजकल यहाँ जुआ चल रहा है....और ये काजल इसमे इतना इंटरस्ट क्यो ले रही है...''

केशव : "ये सिर्फ़ इंटरस्ट ही नही ले रही, बल्कि खेलती भी है...समझी....मैं नीचे चलता हू ,बाकी की कहानी तुम्हे दीदी सुना देगी.....''

और काजल वो सब सारिका को बताने लगी जिसे सुनकर सारिका हैरान होती चली गयी...और उन दोनो को वहीं बाते करता छोड़कर केशव नीचे आ गया और दरवाजा खोल दिया

बिल्लू अंदर आकर सोफे पर बैठ गया.

केशव : "बोल बिल्लू , क्या बोलना चाहता है...''

बिल्लू : "केशव भाई..ये राणा साला बड़ा चालू हो गया है आजकल...''

केशव : "कैसे ....''

बिल्लू : "भाई...आप तो जानते ही हो, उसके पास पैसे की कमी तो है नही...पर साले को खेलना भी नही आता, ये भी वो जान ही चुका है...इसलिए आजकल जब भी वो खेलता है तो अपने साथ जीवन को रखता है...और जीवन के बारे मे तो आप जानते ही हो भाई, वो साला एक नंबर का जुवारी है...बड़े-2 केसिनो में जाकर जुआ खेलता है और हमेशा जीत कर ही आता है...और इसलिए उसको कोई भी अपने अड्डे पर या केसिनो में आकर खेलने नही देता..क्योंकि कोई भी उसके साथ खेलना नही चाहता..''

जीवन के साथ भी केशव कई बार खेल चुका था...उसकी किस्मत कह लो या हाथ की सफाई, वो कभी भी हारकर गेम से नही उठता था..और अब राणा के साथ जीवन का रहना सच में मुसीबत वाली बात थी..

केशव : "पर ऐसे कोई अपने साथ किसी को लाकर खेल नही खेल सकता...''

बिल्लू : "भाई, मैने भी यही बोला था राणा को, की अगर आना है तो अकेले आना, किसी को साथ मे लेकर जुआ खेलने का कोई रूल नही है अपनी गेंग मे..पर भाई, काजल और आप भी तो ऐसे हो, इसलिए मैंने ज्यादा जोर नहीं दिया ''

केशव : "फिर, क्या बोला वो हरामी...''

बिल्लू : "बोलना क्या था भाई...सॉफ माना कर दिया...बोला, मेरे को चूतिया बना कर आजतक जीतने लोगो ने मेरा पैसा जीतना था वो जीत लिया...अब मेरे साथ खेलना है तो जीवन मेरे साथ रहेगा...जमता है तो बोलो...वरना रहने दो..''

केशव : "वो साला इतना अकलमंद लगता तो नही है....इसमे ज़रूर जीवन का कुछ किया धरा होगा...वरना उसे क्या पड़ी थी की अपने साथ जीवन को लेकर घूमता...''

बिल्लू : "भाई, आप समझे नही...राणा ने जीवन के साथ 50-50 की पार्टनरशिप कर रखी है...जो भी जीत का माल होगा, उसमे से दोनो मिलकर शेयर करेंगे...अब जीवन को जितना भी मिल रहा है, उसके लिए बहुत है...वैसे भी उसके साथ कोई जुआ नही खेलता..और दूसरी तरफ राणा के लिए भी फायदे का सौदा है...सुना है जब से उसने जीवन को साथ मे लिया है, वो हारा नही है अब तक...हमेशा जीतकर ही निकला है...अब पैसे जाने से अच्छा तो आने लगे है उसके पास...उसे भी ये पार्टनरशिप सही लग रही है...''

केशव गहरी सोच मे डूब गया..

केशव : "तो तू क्या चाहता है अब...''

बिल्लू (धीरे से) : "देखो भाई....मै यहाँ सिर्फ़ एक बात बोलने आया हू...अगर आप कहो तो राणा को हाँ बोल दू ..अगर ऐसा हो जाता है तो वो जीवन के साथ आएगा और वो दोनो मिलकर बैठेंगे..ऐसे मे अगर हम दोनो भी मिलकर खेले...मतलब दूसरो के लिए हम अलग ही होंगे...पर आपस मे हमारी भी पार्टनरशिप होगी...तो हम दोनो मिलकर उसे और गणेश को भी आसानी से हरा सकते हैं...''

केशव ने सोचा, ये साला मेरे साथ पार्टनरशिप की बातें कर रहा है..ये इतना भी नही जानता की उसके साथ काजल है, और उसकी किस्मत में तो हारना लिखा भी नही है..

पर अच्छी से अच्छी किस्मत भी साथ नही देती अगर जीवन हाथ की सफाई दिखाकर जुआ खेलने पर आ गया..ऐसे मे पार्टनरशिप करके कम से कम नुकसान झेलना पड़ेगा..

काफ़ी देर तक सोचने के बाद केशव बोला : "मुझे लगता है तू सही कह रहा है...हमे भी पार्टनरशिप कर लेनी चाहिए...''

इतना कहकर उसने बिल्लू से हाथ मिलाया और कुछ और बाते करके बिल्लू चला गया..

और जब बिल्लू बाहर जा रहा था तो उपर से सारिका और काजल नीचे उतर रही थी...उन दोनो को एक साथ देखकर उसके लंड में खुजली सी होने लगी..वो वहीं रुक गया और उपर से नीचे आ रही काजल और सारिका के उछलते हुए मुम्मे देखकर ठंडी आहें भरने लगा.

बिल्लू : "अरे वाह काजल ...लगता है पुरानी सहेलियो में फिर से दोस्ती हो गयी है...अच्छी जोड़ी लग रही है तुम दोनो की...''

उसकी ठरकी नज़रों को सारिका अच्छी तरह से पहचानती थी..क्योंकि वो बात तो काजल से कर रहा था पर उसकी नज़रें उसकी छातियों पर थी...और उसके उभरे हुए निप्पल्स देख कर वो उत्तेजित हो रहा था...शायद काजल जल्दबाज़ी मे बिना ब्रा के नीचे आ गयी थी..

अब सारिका को क्या पता था की बिना ब्रा के तो वो पिछले 2 दीनो से घूम रही है बिल्लू और गणेश के सामने..

काजल : "अब नज़र मत लगाओ हमारी दोस्ती को तुम....''

और इतना कहती हुई वो उसकी बगल से निकल कर अंदर की तरफ चल दी.

और जब सारिका बिल्लू के पास से निकलने लगी तो बिल्लू फुसफुसाकर बोला : "भर गयी हो पहले से ज़्यादा...''

ऐसी फब्तियाँ तो वो कई बार कस चुका था उसके उपर, जब भी वो गली से निकलती थी...पर वो तब भी उसको कुछ नही बोल पाती थी और ना ही अब बोल पाई..

इसका ये मतलब नही था की वो डरती थी..बल्कि अंदर ही अंदर उसको ये सब अच्छा लगता था..अब हर लड़की तो खुलकर नही बोल पाती ना की उसे भी ये छेड़छाड़ पसंद है...बस मुँह फिरा कर आगे निकल जाती...और अपने पीछे घूमने वाले छिछोरे लड़को में एक और नाम शामिल कर लेती..

बिल्लू के जाने के कुछ देर बाद सारिका भी चली गयी...वैसे भी उसको काफ़ी देर हो चुकी थी.
Reply
07-22-2017, 03:44 PM,
#36
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
काजल (नाराज़गी भरे स्वर मे) : "क्या केशव....तुम भी ना, उसको भगा नही सकते थे क्या...इतना सही सरूर बन चुका था ...साला एन टाइम पर आ टपका...''

केशव : "यार दीदी .... गुस्सा तो मुझे भी आ रहा है...पर अब मैं भी क्या करू...कोई ज़रूरी बात करनी है उसे...शाम के जुए के बारे में ...हम तो अब ये काम कभी भी कर लेंगे..''

काजल : "ओहो .... तब तो जाकर सुन ही लो .... शायद कोई काम की बात करने आया हो...और रही बात मेरी, तो मैने आज तक इतने साल वेट ही तो किया है...कुछ देर और सही...''

वो अपनी चूत को मसलते हुए बोली..

जुए के बारे मे दोनो भाई-बहन को ऐसे बात करते देखकर सारिका चोंक गयी और बोली : "जुआ .... इसका मतलब आजकल यहाँ जुआ चल रहा है....और ये काजल इसमे इतना इंटरस्ट क्यो ले रही है...''

केशव : "ये सिर्फ़ इंटरस्ट ही नही ले रही, बल्कि खेलती भी है...समझी....मैं नीचे चलता हू ,बाकी की कहानी तुम्हे दीदी सुना देगी.....''

और काजल वो सब सारिका को बताने लगी जिसे सुनकर सारिका हैरान होती चली गयी...और उन दोनो को वहीं बाते करता छोड़कर केशव नीचे आ गया और दरवाजा खोल दिया

बिल्लू अंदर आकर सोफे पर बैठ गया.

केशव : "बोल बिल्लू , क्या बोलना चाहता है...''

बिल्लू : "केशव भाई..ये राणा साला बड़ा चालू हो गया है आजकल...''

केशव : "कैसे ....''

बिल्लू : "भाई...आप तो जानते ही हो, उसके पास पैसे की कमी तो है नही...पर साले को खेलना भी नही आता, ये भी वो जान ही चुका है...इसलिए आजकल जब भी वो खेलता है तो अपने साथ जीवन को रखता है...और जीवन के बारे मे तो आप जानते ही हो भाई, वो साला एक नंबर का जुवारी है...बड़े-2 केसिनो में जाकर जुआ खेलता है और हमेशा जीत कर ही आता है...और इसलिए उसको कोई भी अपने अड्डे पर या केसिनो में आकर खेलने नही देता..क्योंकि कोई भी उसके साथ खेलना नही चाहता..''

जीवन के साथ भी केशव कई बार खेल चुका था...उसकी किस्मत कह लो या हाथ की सफाई, वो कभी भी हारकर गेम से नही उठता था..और अब राणा के साथ जीवन का रहना सच में मुसीबत वाली बात थी..

केशव : "पर ऐसे कोई अपने साथ किसी को लाकर खेल नही खेल सकता...''

बिल्लू : "भाई, मैने भी यही बोला था राणा को, की अगर आना है तो अकेले आना, किसी को साथ मे लेकर जुआ खेलने का कोई रूल नही है अपनी गेंग मे..पर भाई, काजल और आप भी तो ऐसे हो, इसलिए मैंने ज्यादा जोर नहीं दिया ''

केशव : "फिर, क्या बोला वो हरामी...''

बिल्लू : "बोलना क्या था भाई...सॉफ माना कर दिया...बोला, मेरे को चूतिया बना कर आजतक जीतने लोगो ने मेरा पैसा जीतना था वो जीत लिया...अब मेरे साथ खेलना है तो जीवन मेरे साथ रहेगा...जमता है तो बोलो...वरना रहने दो..''

केशव : "वो साला इतना अकलमंद लगता तो नही है....इसमे ज़रूर जीवन का कुछ किया धरा होगा...वरना उसे क्या पड़ी थी की अपने साथ जीवन को लेकर घूमता...''

बिल्लू : "भाई, आप समझे नही...राणा ने जीवन के साथ 50-50 की पार्टनरशिप कर रखी है...जो भी जीत का माल होगा, उसमे से दोनो मिलकर शेयर करेंगे...अब जीवन को जितना भी मिल रहा है, उसके लिए बहुत है...वैसे भी उसके साथ कोई जुआ नही खेलता..और दूसरी तरफ राणा के लिए भी फायदे का सौदा है...सुना है जब से उसने जीवन को साथ मे लिया है, वो हारा नही है अब तक...हमेशा जीतकर ही निकला है...अब पैसे जाने से अच्छा तो आने लगे है उसके पास...उसे भी ये पार्टनरशिप सही लग रही है...''

केशव गहरी सोच मे डूब गया..

केशव : "तो तू क्या चाहता है अब...''

बिल्लू (धीरे से) : "देखो भाई....मै यहाँ सिर्फ़ एक बात बोलने आया हू...अगर आप कहो तो राणा को हाँ बोल दू ..अगर ऐसा हो जाता है तो वो जीवन के साथ आएगा और वो दोनो मिलकर बैठेंगे..ऐसे मे अगर हम दोनो भी मिलकर खेले...मतलब दूसरो के लिए हम अलग ही होंगे...पर आपस मे हमारी भी पार्टनरशिप होगी...तो हम दोनो मिलकर उसे और गणेश को भी आसानी से हरा सकते हैं...''

केशव ने सोचा, ये साला मेरे साथ पार्टनरशिप की बातें कर रहा है..ये इतना भी नही जानता की उसके साथ काजल है, और उसकी किस्मत में तो हारना लिखा भी नही है..

पर अच्छी से अच्छी किस्मत भी साथ नही देती अगर जीवन हाथ की सफाई दिखाकर जुआ खेलने पर आ गया..ऐसे मे पार्टनरशिप करके कम से कम नुकसान झेलना पड़ेगा..

काफ़ी देर तक सोचने के बाद केशव बोला : "मुझे लगता है तू सही कह रहा है...हमे भी पार्टनरशिप कर लेनी चाहिए...''

इतना कहकर उसने बिल्लू से हाथ मिलाया और कुछ और बाते करके बिल्लू चला गया..

और जब बिल्लू बाहर जा रहा था तो उपर से सारिका और काजल नीचे उतर रही थी...उन दोनो को एक साथ देखकर उसके लंड में खुजली सी होने लगी..वो वहीं रुक गया और उपर से नीचे आ रही काजल और सारिका के उछलते हुए मुम्मे देखकर ठंडी आहें भरने लगा.

बिल्लू : "अरे वाह काजल ...लगता है पुरानी सहेलियो में फिर से दोस्ती हो गयी है...अच्छी जोड़ी लग रही है तुम दोनो की...''

उसकी ठरकी नज़रों को सारिका अच्छी तरह से पहचानती थी..क्योंकि वो बात तो काजल से कर रहा था पर उसकी नज़रें उसकी छातियों पर थी...और उसके उभरे हुए निप्पल्स देख कर वो उत्तेजित हो रहा था...शायद काजल जल्दबाज़ी मे बिना ब्रा के नीचे आ गयी थी..

अब सारिका को क्या पता था की बिना ब्रा के तो वो पिछले 2 दीनो से घूम रही है बिल्लू और गणेश के सामने..

काजल : "अब नज़र मत लगाओ हमारी दोस्ती को तुम....''

और इतना कहती हुई वो उसकी बगल से निकल कर अंदर की तरफ चल दी.

और जब सारिका बिल्लू के पास से निकलने लगी तो बिल्लू फुसफुसाकर बोला : "भर गयी हो पहले से ज़्यादा...''

ऐसी फब्तियाँ तो वो कई बार कस चुका था उसके उपर, जब भी वो गली से निकलती थी...पर वो तब भी उसको कुछ नही बोल पाती थी और ना ही अब बोल पाई..

इसका ये मतलब नही था की वो डरती थी..बल्कि अंदर ही अंदर उसको ये सब अच्छा लगता था..अब हर लड़की तो खुलकर नही बोल पाती ना की उसे भी ये छेड़छाड़ पसंद है...बस मुँह फिरा कर आगे निकल जाती...और अपने पीछे घूमने वाले छिछोरे लड़को में एक और नाम शामिल कर लेती..

बिल्लू के जाने के कुछ देर बाद सारिका भी चली गयी...वैसे भी उसको काफ़ी देर हो चुकी थी.
Reply
07-22-2017, 03:46 PM,
#37
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
***********
अब आगे
***********

अब फिर से एक बार दोनो भाई बहन अकेले थे..जैसे ही काजल ने दरवाजा बंद किया , केशव ने पीछे से आकर उसको एक बार फिर से जकड़ लिया..और अपने हाथ आगे लेजाकर उसके मुम्मो पर टीका दिए और उसकी उभरी हुई गांड पर अपना लंड रगड़ने लगा.

काजल : "ओहो .....छोड़ो ना केशव....तुम तो हर समय तैयार रहते हो...अभी थोड़ी देर पहले अपनी जी एफ की मारी है...अब मेरे पीछे लगकर खड़े हो गये हो...''

केशव : "तुम्हारी कसम दीदी...उसकी जब भी मारता था तो मेरी आँखो के सामने उस वक़्त भी सिर्फ़ और सिर्फ़ तुम्हारी तस्वीर रहती थी...अब मुझसे सब्र नही होगा ...''

केशव ने उसके बिना ब्रा के बूब्स को अपनी मुट्ठी मे जकड़ते हुए कहा.

काजल : "ओके .... ओके ..... मुझे सीधा तो होने दो ना पहले...''

बड़ी मुश्किल से केशव ने उसके जिस्म को अपनी गिरफ़्त से आज़ाद किया..मन तो नही कर रहा था उसकी मखमली गांड को छोड़ने का..

और जैसे ही काजल उसकी गिरफ़्त से छूटी वो भागकर उपर की सीडिया चड़ती चली गयी और जीभ निकाल कर उसने केशव को चिढ़ाया और बोली : "कुछ काम रात के लिए भी छोड़ दो...''

और देखते ही देखते वो भागकर अपनी माँ के कमरे मे घुस गयी..शायद वो भी तडप-2 कर उसे अपनी चूत देना चाहती थी..क्योंकि तड़पाने के बाद जब चुदाई होती है तो उसका मज़ा ही निराला होता है... ये बात उसको अभी - २ सारिका समझा कर गयी थी

केशव शाम की तैयारी में जुट गया...खाने पीने की चीज़े लेकर आया..आज वैसे भी छोटी दीवाली थी..पूरे मोहल्ले में रोशनी फेली हुई थी...दोनो भाई बहन ने मिलकर घर के बाहर लाइट लगाई और अपने घर को भी सॉफ सुथरा करके चमका दिया..फिर काजल खाना बनाने मे जुट गयी.

शाम को ठीक 8 बजे बिल्लू और गणेश आ गये...और कुछ देर के बाद राणा और जीवन भी पहुँच गये..

कुछ देर की बातो के बाद खेल शुरू हुआ..

तब तक काजल उपर ही थी...माँ को खाना खिला रही थी वो..

पहली बाजी लगी.

सबने बूट के 100 रुपय बीच मे डाल दिए..

और फिर सबने 3-3 ब्लाइंड चली...और फिर सबसे पहले राणा ने 500 बीच मे फेंक कर ब्लाइंड को उपर बढ़ाया ..

तब तक जीवन उसकी बगल मे ही बैठा हुआ था...ठीक वैसे ही जैसे खेलते हुए केशव और काजल साथ बैठते है.

गणेश ने ब्लाइंड नही चली और अपने पत्ते उठा कर देख लिए..उसने कुछ सोच समझ कर 1000 रूपए की चाल चल दी..चाल आते ही बिल्लू ने भी अपने पत्ते उठा लिए..पर उसके पत्ते इतने बेकार थे की उसने बुरा सा मुँह बनाते हुए उन्हे नीचे फेंक दिया.

अब बारी थी केशव की...उसने भी कुछ सोचने के बाद ब्लाइंड के 500 रूपए बीच मे फेंक दिए..

चाल आने के बाद कोई ऐसा नही करता...पर केशव ने कर दिया...शायद कल के जीते पैसे उसकी जेब मे गर्मी पैदा कर रहे थे.

राणा ने जीवन की तरफ देखा, जीवन ने भी ब्लाइंड चलने के लिए ही कहा..और राणा ने ब्लाइंड को बढ़ाकर 1000 कर दिया ..

अब एक बार फिर से गणेश की बारी थी...उसके पास कोई चारा नही था...उसे तो ब्लाइंड से डबल पैसे फेंकने थे बीच में ...उसने बड़ी मुश्किल से अपनी जेब से 2000 रूपए निकाले और बीच मे फेंक दिए..

हालाँकि उसके पास पेयर आया था, 2 का, पर फिर भी वो डर रहा था की कहीं दोनो में से किसी एक के पास अच्छे पत्ते आ गये तो वो बेकार में मारा जाएगा..

केशव ने भी अपनी दरियादिली एक बार और दिखाते हुए 1000 की ब्लाइंड चल दी...

अब एक बार फिर से राणा की बारी थी...उसने जीवन को देखा और जीवन ने राणा के आगे से 2000 रुपय उठा कर एक बार फिर से ब्लाइंड चल दी.

अब तो गणेश की फट गयी...सामने से ब्लाइंड पर ब्लाइंड चल रही थी और वो डबल करते हुए चाल पर चाल चल रहा था..ऐसे मे अगर उसके पत्ते पिट गये तो उसका तो डबल नुकसान होगा..उसने मन मारते हुए पेयर होने के बावजूद पैक कर दिया..क्योंकि अगली चाल के लिए वो 4000 रूपए की बलि नही चड़ा सकता था.

अब सिर्फ़ राणा और केशव बचे थे बीच में .

केशव भी जानता था की ब्लाइंड खेलकर जीवन शायद उनको डराना चाहता है...पर अभी के लिए वो कोई और रिस्क नही लेना चाहता था..क्योंकि उसका लक यानी काजल जो नही थी उसके साथ..

उसने अपने पत्ते उठा लिए..

उसके पास सबसे बड़ा पत्ता बेगम थी.

वो काफ़ी देर तक सोचता रहा और फिर उसने 4000 बीच मे फेंककर शो माँग लिया..
Reply
07-22-2017, 03:47 PM,
#38
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
राणा ने जीवन की तरफ देखा..और उसे पत्ते उठाने के लिए कहा..

जब वो पत्ते उठा रहा था तो केशव और बिल्ली बड़े गोर से उसे देख रहे थे, की कहीं वो बीच मे अपनी हाथ की सफाई दिखा कर पत्ते ना बदल डाले..पर ऐसा कुछ हुआ नही..क्योंकि पत्तो को अपने सामने खिसकाने के बाद जीवन ने एक-2 करते हुए अपने पत्ते सामने फेंकने शुरू कर दिए.

पहला पत्ता था 10 नंबर..

दूसरा था 3 नंबर..

ये दोनो पत्ते देखकर तो केशव को यकीन सा होने लगा की आज वो बिना काजल के भी जीत सकता है...क्योंकि बीच मे लगभग 10 हज़ार रुपय थे..

पर जैसे ही जीवन ने आख़िरी पत्ता फेंका, केशव का चेहरा उतार गया.

वो बादशाह था.

केशव ने भी बुरा सा मुँह बनाते हुए अपने पत्ते ज़ोर से पटक दिए..सिर्फ़ एक पत्ते से हारा था वो..गुस्सा आना तो लाजमी था.

और केशव से ज़्यादा गुस्सा तो गणेश को आ रहा था अपने उपर...क्योंकि उसके पास पेयर था और उसके बावजूद उसने पैक कर दिया था. अगर उसने पैक नहीं किया होता तो वो ये बाजी जीत चुका होता

पर अब कुछ नही हो सकता था..

अगली गेम की तैयारी होने लगी...

गणेश पत्तों को ज़ोर-2 से पीटने लगा , शायद अपना गुस्सा उनपर उतार रहा था वो.

और जैसे ही वो पत्ते बाँटने लगा, पीछे से काजल की सुरीली आवाज़ आई

''आज मेरे बिना ही खेल शुरू कर दिया आप लोगो ने..

बिल्लू और गणेश तो कब से उसका इंतजार कर रहे थे...पर राणा ने जब देखा की काजल भी वहाँ आकर खड़ी हो गयी है और वो भी अपनी नाइट ड्रेस में ...तो उसकी बाँछे खिल उठी...उसके बारे मे सोचकर वो कितनी मूठ मार चुका था..कितनी लड़कियों को उसके साथ कम्पेयर कर चुका था, पर उस जैसी लड़की उसे पुर मोहल्ले मे नही दिखी थी..

और जब उसे गोर से देखने के बाद राणा को ये एहसास हुआ की उसने ब्रा नही पहनी है तो उसका लंड जींस के अंदर बड़ी ज़ोर से कसमसाने लगा..

उसने सोच लिया की जब सामने से वो खुद चलकर आ रही है तो उसपर एक बार तो चांस लेना बनता ही है..

सभी ने काजल का स्वागत किया खड़े होकर..और काजल लचकति हुई सी आई और केशव की बगल मे आकर बैठ गयी.

बिल्लू ने राणा को समझा दिया की वो भी एक-दो दिनों से उनके साथ खेल रही है...अपने भाई के साथ या उसकी जगह पर..इस बात से भला राणा को क्या प्राब्लम हो सकती थी,क्योंकि वो तो खुद ही जीवन के भरोसे खेल रहा था..

पर राणा के दिमाग़ मे एक ही बात चल रही थी की कैसे काजल को शीशे मे उतार कर उसके साथ मज़ा लिया जाए..

अभी तो खेल शुरू ही हुआ था...अभी तो पूरी रात पड़ी थी उस काम के लिए..
Reply
07-22-2017, 03:47 PM,
#39
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
***********
अब आगे
***********

अब तो राणा किसी भी तरह काजल को इंप्रेस करना चाहता था...उसने जीवन के कान में बोल दिया की अब वो बिना उसकी हेल्प के खेलेगा...क्योंकि ये बात वो भी जानता था की जब जीवन उसकी हेल्प नही करता तो वो हारता ही है...और काजल के हाथो हारकर वो उसे खुश करना चाहता था और इंप्रेस भी..

जीवन समझ गया की राणा बावला हो गया है लोंडिया देखकर...पर वो कर भी क्या सकता था...उसके पैसे तो थे नही जो वो चिंता करता..वो आराम से पीछे होकर बैठ गया और खेल देखने लगा.

अगली गेम शुरू हुई.

सबने बूट के 100-100 रुपए बीच मे डाल दिए..सबसे पहली ब्लाइंड चलने की बारी राणा की ही आई, उसने ब्लाइंड के लिए सीधा 500 रुपय बीच मे फेंक दिए..

गणेश की तो पहले से ही फटी पड़ी थी..उसने अपने पत्ते उठा लिए, उसके पास 2,3,5 आया था...यानी सबसे छोटे और बेकार पत्ते..उसने अपना माथा पीट लिया और पत्ते नीचे फेंक दिए..

अब बिल्लू की बारी थी, उसने भी ब्लाइंड के 500 नीचे फेंक दिए..

काजल तो जैसे जानती ही थी की वो ही जीतेगी, उसने ब्लाइंड को डबल करते हुए 1000 रुपए बीच में फेंक दिए..इतनी दरियादिली तो जीवन ने भी किसी में नही देखी थी..राणा भी रैरान सा होकर रह गया, वो समझ रहे थे की वो अपनी नादानी मे ऐसे 1000 की ब्लाइंड खेल गयी...पर राणा भी पीछे रहने वालो से नही था...उसे तो काजल को वैसे भी इंप्रेस करना था..इसलिए उसने भी ब्लाइंड को .डबल करते हुए 2000 बीच में फेंक दिए..

और इन दोनो के बीच बेचारा बिल्लू फँस कर रह गया...2000 की ब्लाइंड चलने का उसे शोंक कोई नही था..उसने झट से पत्ते उठा लिए..और उन्हे देखते ही उसके दिल की धड़कन तेज हो गयी..उसके पास सीक़वेंस आया था..8,9,10.

उसने अपनी खुशी को चेहरे पर नही आने दिया, और कुछ सोचने के बाद 4000 की चाल चल दी.

बिल्ली जैसे बंदे की तरफ से चाल आती देखकर केशव समझ गया की उसके पास ज़रूर बढ़िया पत्ते ही आए होंगे..उसने काजल को पत्ते उठाने के लिए कहा..पहले तो काजल ने मना कर दिया, क्योंकि वो कल से एक भी गेम नही हारी थी..और उसे विश्वास था की ये गेम भी वही जीतेगी..पर केशव के ज़िद करने के बाद उसने पत्ते उठा लिए.

राणा की नज़रें गेम से ज़्यादा काजल का शरीर नापने मे लगी थी...वो उसके हर अंग को अपनी आँखों से चोद रहा था...अपने होंठों पर जीभ फिराता हुआ राणा भूखी नज़रों से काजल को घूरे जा रहा था..वो सोचने लगा की काश इस वक़्त काजल बिना कपड़ों के उसके सामने बैठी होती , वो तो अपनी सारी दौलत लुटा देता उसके उपर..

वैसे भी बिना ब्रा के वो लगभग नंगी हालत मे ही थी...क्योंकि काफ़ी गोर से देखने पर उसके उभारों के उपर हल्के-2 भूरे रंग के निप्पल सॉफ दिखाई दे रहे थे...पर शायद इस बात का काजल और केशव को एहसास नही था, क्योंकि पास से देखने मे कुछ नही दिख रहा था, दूर बैठे राणा को वो साफ़ दिख रहा था, शायद कपड़े के रंग की वजह से ऐसा था. वैसे एक बात और भी है, ऐसे ठरकी लोगों को अंदर तक का सामान दिख ही जाता है, लड़कियां कितना भी छुपाना चाहे, ठरकी लड़के उनके कपड़े भेदकर सब पता लगा लेते हैं, और यहाँ तो काजल खुल्लम खुला सब दिखती हुई सी बैठी थी , वो भला कैसे बच पाती रना की चुदासी भरी नजरों से

और इधर केशव और काजल भी अपनी खुशी कंट्रोल नही कर पा रहे थे...उनके पास पत्ते आए ही ऐसे थे..केशव तो पुराना खिलाड़ी था, इसलिए उसने खुशी के भाव चेहरे पर नही आने दिए, पर काजल के चेहरे की चमक बता रही थी की इस बार भी उसका जलवा चलने वाला है..

केशव ने भी 4000 की चाल चल दी..

अब राणा को भी पत्ते उठाने ही पड़े, क्योंकि जिसके लिए वो पैसे लूटा रहा था वो तो खुद ही चाल चल बैठी थी.

उसने अपने पत्ते देखे...और जीवन को भी दिखाए...भले ही उसने पहले उसकी हेल्प लेने से मना कर दिया था, पर २-२ चाल आने के बाद उसने जीवन की सलाह लेनी ही उचित समझी , पत्ते तो उनके पास अच्छे ही आए थे...कुछ देर सोचने के बाद जीवन ने उसे चाल चलने के लिए कहा...शायद ये सोचकर की काजल के पास कुछ खास नही होगा..और ना ही बिल्लू के पास...

यहाँ राणा एक बार फिर से काजल को इंप्रेस करने के चक्कर मे चाल को डबल करते हुए 8000 पर ले गया, अब बारी फिर से बिल्लू की थी...उसके पास पत्ते तो काफ़ी जबरदस्त थे, पर एक प्राब्लम भी थी...वो आज के लिए सिर्फ़ 30 हज़ार रुपय ही लाया था घर से...अगर ऐसी 2-3 चाले और चलनी पड़ी तो वो आगे खेल ही नही पाएगा..पर फिर भी एक चाल और चलनी तो बनती ही थी...ये सोचकर की शायद सामने से कोई पीछे हट जाए और वो दूसरे से शो माँग ले, ऐसे मे जितने भी आ जाएँ, वही बहुत है.

पर हर जुवारी यहीं ग़लती कर देता है और हारता चला जाता है.

काजल की बारी आते ही केशव ने बिना किसी झिझक के 8 हज़ार निकाल कर नीचे फेंक दिए.

और इस बार राणा ने चाल डबल नही की, पर चाल ज़रूर चल दी 8 हज़ार की..

अब तो बिल्लू का दिल धड़कने लगा...पत्ते तो उसके पास अच्छे ही थे...और जेब मे सिर्फ़ 16-17 हज़ार के आस पास बचे थे..

उसने मन को कड़ा करते हुए एक निर्णय लिया और 16000 बीच मे फेंकते हुए दोनो से शो माँग ली..

अब उसकी जेब मे कुछ भी नही बचा था...पर अंदर से उसे विश्वास था की वही जीतेगा..

अपने पत्ते बिल्लू ने नीचे फेंक दिए...और राणा की तरफ देखा...
Reply
07-22-2017, 03:47 PM,
#40
RE: XXX Kahani एक भाई ऐसा भी
राणा ने भी अपने पत्ते सामने रख दिए, उसके पास इक्के का कलर आया था...पर सीक्वेंस के आगे वो भी बेकार थे...बिल्लू खुश हो गया.

अब बारी थी काजल की..पर बिल्लू के पत्तो को देखने के बाद वो थोड़ी कन्फ्यूज़ थी..और वो किसलिए थी, वो भी जल्द ही पता चल गया..क्योंकि उसने जब अपने पत्ते सामने फेंके तो उसके पास भी सीक़वेंस था...और वो भी सेम टू सेम बिल्लू जैसा 8,9,10.

काजल तो ज़्यादा नही जानती थी खेल के बारे मे की ऐसी स्थिति मे क्या होता है..पर उन जुआरियों को वो पता था, और दोनो तरफ के पत्ते देखने के बाद जीवन एकदम से बोला : "ये बाजी काजल की हुई...उसके पास हुक्म का 10 है..''

और ये सही भी था...सेम पत्तो मे जब बाजी फँस जाती है तो सबसे बड़े पत्ते को देखा जाता है, जिसके पास हुक्म का आ जाए, वही जीत जाता है...

बिल्लू को तो विश्वास ही नही हो रहा था की उसकी किस्मत इतनी खराब भी हो सकती है, पहली बार ढंग के पत्ते आए और वो भी क्लैश कर गये काजल के साथ..और अंत मे वो जीत भी गयी...

करीब 45 हज़ार जीत गयी थी काजल एक ही झटके में .

वो तो खुशी से चिल्ला ही उठी...और सारे पैसे अपनी तरफ करते हुए उसके निप्पल्स भी पहले से ज़्यादा उभरकर बाहर आ चुके थे...और ये देखकर राणा बड़ा ही खुश हुआ..जैसे उसके सारे पैसे वसूल हो गये हो..राणा ने ये भी नोट किया की पैसे देखकर काजल कितनी खुश है..वो सोचने लगा की क्या पैसे देकर वो उसकी चूत भी ले सकता है..

पहली गेम ही इतनी मोटी हो गयी थी की आने वाली गेम्स मे क्या होगा ये सभी सोचने लगे..

पर बिल्लू की हालत खराब थी..वो अपने सारे पैसे हार चुका था, उसने केशव से कुछ पैसे उधार माँगे, क्योंकि उन दोनो मे पहले भी उधार चलता रहता था, और केशव वैसे भी काफ़ी माल जीत चुका था, इसलिए उसने बिल्लू को आगे खेलने के लिए 20 हज़ार रुपय उधार दे दिए.

एक बार फिर से गेम शुरू हुई...पर शुरू होने से पहले ही बिल्लू बोला : "देखो भाइयों, मेरे पास तो ज़्यादा पैसे है नही...इसलिए रिक्वेस्ट है की मोटी गेम मत खेलो...ब्लाइंड भी 500 से ज़्यादा नही और चाल भी 1000 से ज़्यादा नही...''

उसकी बात सुनकर गणेश भी बोल पड़ा : "सही कहा बिल्लू....मेरे पास भी ज़्यादा माल नही है...ऐसे तो हम आधे घंटे में ही खाली होकर बैठ जाएँगे..आज तो पूरी रात का प्रोग्राम है ना..''

केशव तो मोटा माल जीत चुका था, इसलिए उसने आपत्ति उठाई : "अरे नही, ऐसा कैसे होगा...जिसकी जितनी मर्ज़ी होगी, वो उतना खेलेगा...''

और राणा ने भी उसका साथ दिया..वो बोला : "सही कहा केशव....ऐसे छोटी गेम में मज़ा ही नही आता...

तभी काजल बीच मे बोल पड़ी : "मेरे पास एक प्लान है...जो बड़ी ग़मे खेलना चाहते हैं, वो अलग खेले और जो छोटी खेलना चाहते हैं, वो अलग...''

उसकी बात सभी को जाच गयी...अब बड़ी गेम खेलने वालो में सिर्फ़ काजल और राणा ही थे...और उनके निकल जाने के बाद पीछे सिर्फ़ गणेश और बिल्लू ही बचते थे..क्योंकि जीवन और केशव तो सिर्फ़ साथ देने के लिए बैठे थे..

पर केशव का दिमाग़ बड़ी तेज़ी से चल रहा था...वो अच्छी तरह से जानता था की उसकी बहन को तो कोई हरा ही नही सकता...एक पर्सेंट शायद हो भी सकता है की वो हार जाए अगर राणा के साथ जीवन रहा तो...इसलिए राणा और जीवन को अलग करना ज़रूरी था...पर ऐसा क्या किया जाए की दोनो अलग हो जाए... और वो ये अच्छी तरह से जानता था की अगर काजल और राणा अकेले खेलेंगे तो काजल ही जीतेगी..

केशव अचानक से बोला : "एक काम करते हैं, मैं भी इस छोटे वाले ग्रुप में खेलता हूँ ...और जीवन तुम भी आ जाओ यहीं पर, तुम भी अपना हाथ आजमाओ...''

अपने ग्रूप मे शामिल करके वो जीवन और राणा की जुगलबंदी को तोड़ना चाहता था..जीवन ने इसलिए कुछ नही बोला क्योंकि वो जानता था की जुआ खेलकर वो जीतगा ही...और राणा इसलिए नही बोला की काजल के साथ अकेले में खेलने का मौका जो मिल रहा था उसको..

वो दोनो केशव की बात सुनकर खुश हो गये..

पर बिल्लू और गणेश को ये सब सही नही लगा...वो भी तो काजल के साथ खेलना चाहते थे...पर वो भी कुछ नही बोल पाए, क्योंकि छोटी गेम खेलने की बात तो उन्होने ही शुरू की थी, काजल के साथ खेलना है तो जेब मे माल होना चाहिए..वरना केशव और जीवन के साथ ही खेलो..

राणा और काजल सोफे से उठ खड़े हुए...

केशव ने अब ऐसी बात बोली जिसे सुनकर राणा की तो बाँछे ही खिल उठी...और बिल्लू और गणेश की रही सही मुस्कान भी जाती रही ..

केशव : "काजल, तुम एक काम करो...यहाँ ज़्यादा जगह तो है नही...तुम और राणा उपर मेरे कमरे में चले जाओ...वहाँ आराम से खेलना...हम लोग नीचे खेलते हैं...''

काजल को भी विश्वास नही हुआ की उसका भाई ऐसे क्यों बोल रहा है...लेकिन बात तो सही थी, नीचे के छोटे से कमरे मे ज़्यादा जगह तो थी नही...सिर्फ़ एक फाइव सीटर सोफा ही बिछा था..और बाकी की जगह पर टीवी ट्रॉल्ली, अलमारी और एक बड़ा सा शो केस रखा था

पर केशव ने ये बात इसलिए भी बोली थी की उन सभी के सामने अगर वो दोनो खेलेंगे, और बीच-2 मे अगर जीवन ने राणा की मदद करने की कोशिश की तो प्राब्लम हो जाएगी...इसलिए केशव नही चाहता था की वो वहाँ बैठकर खेले...जबकि अपनी जवान बहन को राणा जैसे ठरकी के साथ उपर भेजना काफ़ी ख़तरनाक था..पर ये सोचकर की वो भला उनके नीचे रहते क्या कर पायेगा , उसने उन्हे उपर जाने का आदेश दे डाला ..

काजल को कोई प्राब्लम नही थी...वो तो इतने पैसे जीतने के बाद हवा मे उड़ रही थी...और काजल के साथ उपर अकेले में खेलने के बारे में सोचकर राणा भी उसी हवा मे उसकी बगल मे उड़ रहा था..

काजल अपनी गांड मटकाती हुई उपर की तरफ चल दी...

और उसकी महीन नाईटी में थरक रही नंगी गांड को देखते -2 राणा भी सम्मोहित सा होकर उसके पीछे उपर चल दिया..
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Free Sex Kahani काला इश्क़! kw8890 113 155,038 Yesterday, 08:02 PM
Last Post: kw8890
Star Maa Sex Kahani माँ को पाने की हसरत sexstories 358 127,187 12-09-2019, 03:24 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Kamukta kahani बर्बादी को निमंत्रण sexstories 32 37,864 12-09-2019, 12:22 PM
Last Post: sexstories
Information Hindi Porn Story हसीन गुनाह की लज्जत - 2 sexstories 29 18,885 12-09-2019, 12:11 PM
Last Post: sexstories
Star Incest Porn Kahani दीवानगी (इन्सेस्ट) sexstories 43 211,253 12-08-2019, 08:35 PM
Last Post: Didi ka chodu
Thumbs Up vasna story अंजाने में बहन ने ही चुदवाया पूरा परिवार sexstories 149 526,815 12-07-2019, 11:24 PM
Last Post: Didi ka chodu
  Sex kamukta मस्तानी ताई sexstories 23 147,512 12-01-2019, 04:50 PM
Last Post: hari5510
Star Maa Bete ki Sex Kahani मिस्टर & मिसेस पटेल sexstories 102 72,950 11-29-2019, 01:02 PM
Last Post: sexstories
Star Adult kahani पाप पुण्य sexstories 207 659,228 11-24-2019, 05:09 PM
Last Post: Didi ka chodu
Lightbulb non veg kahani एक नया संसार sexstories 252 223,050 11-24-2019, 01:20 PM
Last Post: sexstories



Users browsing this thread: 9 Guest(s)