Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
08-27-2019, 01:26 PM,
#21
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
कुछ देर बाद आरति अपने को ठीक करके सोनल के रूम में जाति है। वहा सोनल बहुत हताश और चिंतित दिखती है।
आरती--- बेटा, क्या हुआ कुछ प्रॉब्लम है क्या।
सोनल चोंकते हुए--नही मम्मी जी कुछ भी तो नही, वो न एग्जाम नजदीक आ रहे है बस उस्की टेंसन है।
आरती-- अरे तुमारे प्रेम सर् है ना वो तो कह रहे थे सोनल इस बार 80% लाएगी।
प्रेम सर का नामसुनकर सोनल मन मे-- वही तो टेंसन है।
मम्मी जी फिर भी एग्जाम की चिंता तो होगी ही।
आरती-- अच्छा ठीक है, और बताओ क्या चल रहा है आजकल।
सोनल-- कुछ नही मम्मी।
ऐसे ही दोनो मा बेटी अपनी अपनी धून में खोए बात करती रही।
आरति को ध्यान आया हाँ आज तो उसके पति तो लेट आने वाले थे चलो खाना खा लेते है फिर इंतजार करूँगी
वे नीचे आ गई और सोनल के साथ खाना खाने लगी पर अब सोनल तो बस बड बड किए ही जा रही थी उसका बिल्कुल मन नहीं था कोई भी बात का जबाब देने का पर क्या करे

सोनल--/मम्मीजी, कैसा रहा आज का आपका क्लास

आरती- बस बेटा
क्या बताती आरती की कैसा रहा

सोनल- क्यों कुछ सीखा की नहीं मम्मी।

आरती- खास कुछ नहीं बस थोड़ा सा

क्या बताती कि उसने क्या सीखा बताती कि उसने अपने जीवन का वो सुख पाया था जिसके बारे में उसने कभी सोचा भी नहीं था आज पहली बार किसी ने उसकी चुत को अपने होंठों से या फिर अपने जीब से चाटा था सोचते ही उसे शरीर में एक सिहरन सी दौड़ गई थी

सोनल- चलो शुरू तो किया आपने, अब किसी तरह से जल्दी से सीख जाएगें तब हम दोनों खूब घूमेंगे

आरती- हा

आरती का खाना कब का हो चुका था पर सोनल बक बक के आगे वो कुछ भी कह पा रही थी वो जानती थी कि सोनल भी कितनी अकेली है और उससे बातें नहीं करेंगी तो बेचारी तो मर ही जाएँगी वो बड़े ही हँस हँस कर आरती की ओर देखती हुई अपनी बातों में लगी थी और खाना भी खा रही थी जब खाना खतम हुआ तो दोनों उठे और बेसिन में हाथ मुँह धो कर आरती अपने कमरे की चल दी और सोनल अपने कमरे की ओर ऊपर जाते हुए आरती ने सोनल को कहते सुना

सोनल - अरे रामू दादा ध्यान रखना, पापा को आने में देर होगी।

रामू- जी बिटिया जी आप निश्चिंत रहे

तब तक आरती अपने कमरे में घुस चुकी थी उसकी थकान से बुरी हालत थी जैसे शरीर से सबकुछ निचुड चुका था वो जल्दी से चेंज करके अपने बिस्तर पर ढेर हो गई और पता ही नहीं चला कि कब सो गई और कब सुबह हो गई थी
सुबह जब नींद खुली तो रोज की तरह बाथरूम के अंदर से आवाजें आ रही थी मतलब रवि जाग चुका था और बाथरूम में था वो । आरती भी बिस्तर छोड़ कर उठी और बाथरूम में जाने की तैयारी करने लगी । रवी के निकलते ही वो बाथरूम की और लपकी

रवि- कैसा रहा कल का ड्राइविंग क्लास

आरती- जी कुछ खास नहीं थोड़ा बहुत

रवि- हाँ… तो क्या एक दिन में ही सीख लोगी क्या

आरती तब तक बाथरूम में घुस चुकी थी जब वो वापस निकली तो रवि नीचे जाने को तैयार था

और आरती के आते ही दोनों नीचे काफ़ी पीने के लिए चल दिए । रवि कुछ शांत था कुछ सोच रहा था पर क्या। और नहीं कुछ पूछा उसने कि कब आई थी कब गई थी क्या-क्या सीखा और क्या हुआ कुछ भी नहीं

आरती का मूड सुबह सुबह ही बिगड़ गया जब वो नीचे पहुँचे तो जया काकी चाय सर्व कर रही थी और सोनल पेपर पर नजर गढ़ाए बैठी थी , दोनों के आने की अहाट से जया काकी और सोनल सचेत हो गये ,
रवि-- बेटा कैसी चल रही है आपकी पढ़ाई।

सोनल- जी ठीक

रवि - ठीक से पढ़ने पर ध्यान दो। तुमारे प्रेम सर बहुत अच्छे टीचर है
सोनल- जी
वो जानती थी कि प्रेम सर कितने अच्छे टीचर है और कितनी अच्छी उसकी टीचिंग है उसके शरीर में एक लहर फिर से दौड़ गई वो अपने चाय की चुस्की लेती रही और सर के बारे में सोचने लगी कि कल उसने क्या किया एक दम से अपना लण्ड दिख दिया, कही आंटी आ जाती तो और कुछ अनहोनी हो जाती तो

उसके शरीर में एक सेक्स की लहर दौड़ गई वो चाय पी तो रही थी पर उसका पूरा ध्यान अपने साथ हुए हादसे या फिर कहिए कल की घटना पर दौड़ रही थी वो ना चाहते हुए भी अपने को रुक नहीं पा रही थी बार-बार उसके जेहन में कल की घटना की घूम रही थी और वो धीरे-धीरे अपनी उत्तेजना को छुपाती जा रही थी

चाय खतम होते होते सोनल की हालत बहुत ही खराब हो चुकी थी वो अब अपने कमरे में अकेली होना चाहती थी और उसके शरीर की आग को वो अब कंट्रोल नहीं कर पा रही थी तभी उसके होंठों से एक लंबी सी सांस निकली और सबका ध्यान उसकी ओर चला गया
रवि- क्या हुआ बेटा।

सोनल - (घबरा गई ) कुछ नहीं बस

सभी की चाय खतम हो गई थी सभी अपने कमरे की ओर चल दिए, रवि शोरुम जाने की तैयारी में थे चाय की टेबल पर रवि और आरती कल शाम की बातें ही करते रहे और सोनल भी अपने साथ हुई घटना के बारे में सोचते रही।
सोनल अपने कमरे में गुसी और एक दम बेड पर पसर गयी।

उधर जब रवि और आरति दोनों कमरे में आए तो रवि कल की घटना को अंजाम देने के लिए जल्दी बाजी में था और तैयार होकर शोरुम जाने को और आरती भी कल की घटना के बारे में सोचते हुए इतना गरम हो चुकी थी की वो भी उसको अंजाम देना चाहती थी पर जैसे ही कमरे में वो लोग घुसे

रवि- सुनो जल्दी से ड्रेस निकल दो आज से थोड़ा जल्दी ही जाना होगा शोरुम कभी भी बैंक वाले आ सकते है इनस्पेक्षन के लिए

आरती- जी पर रोज तो आप 10 30 बजे तक ही जाते है आज क्यों जल्दी

रवि- अरे कहा ना आज से थोड़ा सा जल्दी करना होगा
और कहता हुआ वो बाथरूम में घुस गया आरती का दिमाग खराब हो गया वो झल्ला कर अपने बिस्तर पर बैठ गई और गुस्से से अपने पैरों को पटकने लगी रवि को कोई सुध नहीं है मेरी हमेशा ही शोरुम और बिज़नेस के बारे में सोचता रहता है अगर कही जाना भी होता है तो अगर उसकी इच्छा हो तो नहीं तो मना।
और मनोज अंकल के बारे में सोचने लगी कि कल उसने क्या किया एक ग्राउंड में वो भी खुले में कोई देख लेता तो और कुछ अनहोनी हो जाती तो

पर कल तो मनोज अंकल ने कमाल ही कर दिया था जब उसके चुत पर उन्होंने अपना मुख दिया था तो वो तो जैसे पागल ही हो गई थी और अपना सबकुछ भूलकर वो अंकल का कैसे साथ दे रही थी वो सोचते ही आरती एक बार फिर से गरम होने लगी थी सुबह सुबह ही उसके शरीर में एक सेक्स की लहर दौड़ गई वो बेड पर रवि का इंतज़ार तो कर रही थी पर उसका पूरा ध्यान अपने साथ हुए हादसे या फिर कहिए कल की घटना पर दौड़ रही थी वो ना चाहते हुए भी अपने को रुक नहीं पा रही थी बार-बार उसके जेहन में कल की घटना की घूम रही थी और वो धीरे-धीरे अपनी उत्तेजना को छुपाती जा रही थी

इंतज़ार खतम होते होते आरती की हालत बहुत ही खराब हो चुकी थी वो अब अपने पति के साथ अपने कमरे में चुदना चाहती थी और अपने तन की भूख को मिटाना चाहती थी।
आरती को अपने ऊपर गुस्सा आरहा था वो अपने पैरों को झटकते हुए अपने शरीर में उठ रहे ज्वार को भी ठंडा कर रही थी वो जानती थी कि अब उसे किसी भी हालत में रवि की ज़रूरत है पर रवि को तो जैसे होश ही नहीं है उसकी पत्नी को क्या चाहिए और क्या उसकी तमन्ना है उसे जरा भी फिकर नहीं है

क्या करे वो कल की घटना उसे बार-बार याद आ रही थी मनोज अंकल की जीब की चुभन उसे अभी भी याद थी उसके शरीर में उठने वाले ज्वार को वो अब नजर अंदाज नहीं कर सकती थी वो रवि के आते ही लिपट जाएगी और, उसे मजबूर कर देगी कि वो उसके साथ वो सब करे वो सोच ही रही थी कि दरवाजे पर नोक हुई, आरति ने मन मारकर दरवाजा खोला, बाहर जया काकी खड़ी थी

जया - अरे बहूरानी ,

आरती- जी काकी,

जया काकी- रवि बाबू से कह देना कि अभी शोरूम से फ़ोन आया था।

आरती- बाथरूम में है आते ही बता देती हूँ



वो सोच ही रही थी की रवि बाथरूम से निकला और मिरर के सामने आकर खड़ा हो गया आरती ने सोचा था वो सब धरा का धरा रह गया ।
आरती--- अभी शो रूम से फ़ोन आया था नीचे।
रवि-- हां वो इनक्सपेक्सन वाले आ गये होंगे।

आरती के जैसे शरीर में एक बिजली सी दौड़ गई हो उसे बिल्कुल अच्छा नहीं लगा कि रवि उसको ऐसे ही छोड़ कर चला जायेगा।


आरती को अपने पति पर बहुत गुस्सा आ रहा था उनकी बातों में कही भी नहीं लगा था कि वो उसकी फीलिंग को समझ रहे है।

रवि- ऐसे ही कही घूम आना नहीं तो घर में बैठी बोर हो जाओगी और तुम थोड़ा बहुत घर से निकला भी करो बैठी बैठी मोटी हो जाओगी आंटियों की तरह

आरती- हाँ… अकेली अकेली जाऊ और जाऊ कहाँ बता दो तुम्हें तो काम से फुर्सत ही नहीं है

रवि- अरे काम नहीं करूँगा तो फिर यह शानो शौकत कहाँ से आएगी

आरती- नहीं चाहिए यह शानो शौकत

रवि- हाँ… तुम तो पता नहीं किस दुनियां में रहती हो कोई नहीं पूछेगा अगर घर में नौकार चाकर नहीं हो और खर्चा करने को जेब में पैसा ना हो समझी

और रवि मुँह बनाते हुए जल्दी से तैयार होने लगा फिर बाहर निकल गया।

आरती का दिमाग गुस्से से भर गया था कितना मतलबी है उसका पति सिर्फ़ अपनी ही सोचते रहते है पता नहीं क्या हुआ होगा पत्नी को और यह है की जब से सिरफ शोरूम की सोच रहे है आरती का चेहरा एकदम गुस्से से लाल था

पर रवी तो अपनी धुन में ही था और जल्दी से तैयार होकर नीचे चला गया


जैसे कुछ हुआ ही नहीं हो वो भी गुस्से से उठी और अपने पति के पीछे-पीछे नीचे डाइनिंग रूम में चली आई। आरती ने सुबह की ड्रेस ही पहने हुई थी और दिमाग खराब वो गुस्से में तो थी ही पर खाने के टेबल पर जया काकी और रामू काका के रहते उसने कुछ भी ऐसा नहीं दिखाया कि किसी को उसके बारे में कोई शक हो वो शांत थी और खाने को परोस कर दे रही थी

रवि भी किसी भूत की तरह जल्दी-जल्दी खाना खतम करके बाहर की ओर भागा जब रवि चला गया तो----


उसी समय सोनल बिस्तर पर लेटी हुई अपनी मम्मी की तरह कल की यादों में खोई हुई थी और उसकी आंख लग गयी और सो गई। सोते ही सपने में खो गईईईई----
एक झटके में पूरा लौड़ा अन्दर उसकी चूत में डाल दिया जोर से, वो चिल्ला उठी बोली सर बहुत दर्द हो रहा है बाहर निकालो, सर बोले 5 मिनट रुको और फिर देखना, वो दर्द से तड़प रही थी और सर अब अपना लंड अंदर बाहर उसकी चूत में डाल कर उसे मसल रहे थे। सर उसे जमके चोदते हुए बोले अब दर्द कैसा है सोनल,

सोनल बिल्कुल ठीक हो गई दर्द नहीं रहा और एकदम से सोनल सर से लिपट गई उनके होठों को चूमने लगी और बोली सर और डालो चोदो मुझे, चोदो सर बहुत मस्त मजा आ रहा है..…......................
Reply
08-27-2019, 01:26 PM,
#22
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
और आरती अपने कमरे की चली गई जाते हुए भी उसका मन कुछ भी नहीं सोच पा रहा था अपने पति की कही हुई बात उसे याद आ रही थी और अपने पति के स्वार्थी पन का अंदाज़ा वो लगा रही थी वो भी तो उसके लिए एक चीज ही बनकर रह गई थी जो उसका मन होता तो बहुत ही अच्छे से बात करते नहीं तो कोई फिकर ही नहीं जब मन में आया यूज़ किया और फिर भूल गये बस उनके दिमाग में जो बात हमेशा घर किए हुए रहती थी वो बस उनके दिमाग में जो बात हमेशा घर किए हुए रहती थी वो थी पैसा सिर्फ़ पैसा

आरती झल्लाती हुई अपने कमरे में घुसी और चिढ़ती हुई सी बिस्तर पर बैठ गई पर जल्दी ही उठी और बाथरूम में घुस गई वो नहीं चाहती थी कि सोनल को कुछ भी पता चले क्योंकी उसे मम्मी और पापा से कोई शिकायत नहीं होने चाहिए थी वो जल्दी से नहा दो कर तैयार होकर जल्दी से नीचे पहुँची ताकि सोनल को बुलाना न पड़े ।


पर नीचे जब वो पहुँची तो सोनल अब तक नहीं आई थी वो, अरे 10 बज गए मैं भी कहा खोई रहती हूं, और ये लड़की क्या स्कूल नही जाना सोनल को, या चली गयी है आरति सोचते हुए,
सोनल के रूम की तरफ चली गयी और रूम के दरवाजे को थपथपथपथपथप किया, और उधर सोनल सपने में,
तभी आरति रूम में जाकर बोल रही थी कि देख सुबह के 10:00 बज गए और अभी भी सो रही है उठ सोनल, स्कूल नही जाना था तुझे,
और सोनल को उठा दिया और सोनल का सपना वहीं टूट गया क्या मस्त सपना देख रही थी। उठते ही उसके दिमाग में वही सपना चलने लगा कि सपने में किस तरह से प्रेम सर ने उसे चोदा और सोच सोच कर उसकी पुसी गीली हो जा रही थी। उस्की हालत अब बिल्कुल मदहोश सी होने लगी।
सोनल-- मम्मी आज तबियत ठीक नही है, इसलिए नींद आ गयी थी फिर से ,
आरति -- क्या हुआ मेरी गुडिया को।
सोनल-- मम्मी सुबह सर दुख रहा था अब ठीक है।
आरती- ठीक है बेटा, जा जल्दी से नहाकर आ जा खाना खा लेते है

सोनल- जी मम्मी जी,
सोनल को मालूम था कि अगर आज स्कूल गयी तो सर उसके साथ कुछ न कुछ गलत जरूर करेंगे, इसलिए आज वो स्कूल नही गयी।
आरति वापिश अपने कमरे में चली गयी।
पर नीचे जब वो पहुँची तो सोनल अब तक नहीं आई थी वो जैसे ही डाइनिंग रूम में दाखिल हुई उसकी नजर रामू काका पर पड़ गई जो कि बहुत ही तरीके से टेबल को सजा रहे थे जैसे ही रूम में आवाज आई तो उसकी नजर भी आरती की ओर उठ गई थी और रामू और आरती की नजर एक बार फिर मिली और दोनों के शरीर में एक सनसनी सी दौड़ गई आरती जो की अब तक अपने पति के बारे में सोच रही थी एकदम से अपने को जिस स्थिति में पाया उसके लिए वो तैयार नहीं थी


पर रामु काका की नजर जैसे ही उससे टकराई वो सबकुछ भूल गई और अपने शरीर में उठ रही सनसनी को सभालने में लग गई वो वही खड़ी-खड़ी कुछ सोच भी नहीं पा रही थी की इस स्थिति से कैसे लडे पर ना जाने क्यों अपने होंठों पर एक मधुर सी मुस्कान लिए हुए वो आगे बढ़ी और सोनल के आने पहले ही अकेली डाइनिंग टेबल पर पहुँच गई

आरती- क्या बनाया है काका
और टेबल पर पड़े हुए बौल को खोलकर देखने लगी वो जिस तरह से झुक कर टेबल पर रखे हुए चीजो को देख रही थी उससे उसके सूट के गले से उसकी चुचियों को देख पाना बड़ा ही सरल था रामू ना चाहते हुए भी अपनी नजर उसपर से ना हटा सका वो अपना काम भूलकर आरती को एकटक देखता रहा कितनी सुंदर और कोमल सी आरती जिसके साथ उसने कुछ हसीन पल बिताए थे वो आज फिर से उसके सामने खड़ी हुई अपने शरीर का कुछ हिस्सा उसे दिखा रही थी जान भुज कर या अन जाने में पता नहीं पर हाँ… देख जरूर रहा था वो आरती कि चुचियों के आगे बढ़ा और उसकी पतली सी कमर तक पहुँचा ही था कि सोनल के आने की आहट ने सबकुछ बिगाड़ दिया और वो जल्दी से किचेन की ओर चला गया

सोनल - अरे मम्मी आपने जल्दी नहा लिया

आरति- सोचा तुमसे पहले ही आ जाऊ

सोनल- क्या बनाया है रामू दादा ने आज खाने में।
आरति-- तुम्हारी फेवरट आलू छोले और पूरी। जल्दी खा लो फिर बाहर चलेंगे।

पर सोनल का मन बिल्कुल नहीं था , अपनी मम्मीजी के साथ म जाने का पर कैसे मना करे सोचने लगी वो कही भी नहीं जाना चाहती थी पर

आरति - आज कुछ शॉपिंग करके आते है काफी दिन हो गए है तू भी चल क्या करेगी घर में

सोनल- जी पर

आरती- पर क्या थोड़ा बहुत घूम लेगी और क्या में कौन सा कह रही हूँ कि पहाड़ तोड़ना है

सोनल- जी तो फिर

आरती- अरे वहां आसपास्स गार्डेन है तू थोड़ा घूम लेना और में भी ज्यादा देर कौन सा रुकने वाली हूँ वो तो एक शादी आने वाली है अपने यहा इसलिए शॉपिंग करनी है ।

सोनल - जी
और दोनों खाना खाने लगे थे और बातों का दौर चलता रहा आरति और सोनल खाने के बाद उठे और हाथ मुँह दो कर वही थोड़ा सा बातें करते रहे और

आरति - रामू काका टेबल साफ कर दो
और फिर सोनल की ओर मुड़ गई

रामू किचेन से निकला और टेबल पड़े झुटे बर्तन उठाने लगा पर हल्की सी नजर आरती पर भी डाल ली आरती उसी की तरफ चेहरा किए हुए थी और सोनल की पीठ उसके त्तरफ थी

वो चोर नजर से आरती को देख रहा था और समान भी लपेट रहा था आरती की नजर भी कभी-कभी काका की हरकतों पर पड़ रही थी और उसके होंठों पर एक मुस्कान दौड़ गई थी जो कि रामू से नहीं छुप पाई और वो एकटक आरती की ओर देखता रहा पर जैसे ही आरती की नजर उस पड़ पड़ी तो दोनों ही अपनी नजरें झुका के आरती अपने कमरे की ओर और भीमा अपने किचेन की ओर चल दिए

आरती ने अपने कमरे की ओर जाते जाते
आरती- 1 बजे तक तैयार हो जाना टक्सी वाले को बोल दिया है

सोनल- जी, मम्मी
और मुड़कर सोनल की ओर देखती पर उसकी नजर रामू काका पर वापस टिक गई जो कि फिर से किचेन से निकल रहे थे रामू भी निकलते हुए सीढ़ियो पर जाती हुई आरती को देखना चाहता था इसलिए वो वापस जल्दी से पलटकर डाइनिंग स्पेस पर आ गया था वो तो आरती की मस्त चाल का दीवाना था जब वो अपने कूल्हे मटका मटकाकर सीढ़ी चढ़ती थी तो उसका दिल बैठ जाता था और वो उसी के दीदार को वापस आया था पर जैसे ही उसकी नजर आरती पर पड़ी तो वो भी झेप गया पर अपनी नजर को वो वहाँ से हटा नहीं पाया था

उसे आरती की नजर में एक अजीब सी कशिश देखी थी एक अजीब सा नशा था एक अजीब सा खिचाव था जोकि शायद वो पहले नहीं देख पाया था वो आरती को अपनी ओर देखते हुए अपने कमरे की जाते हुए देखता रहा जब तक वो उसकी नजरों से ओझल नहीं हो गई

एक लंबी सी सांस छोड़ कर वो फिर से काम में लग गया और उधर जब सोनल ने उसे पुकार कर कहा तब वो जबाब देते हुए पलटी तो काका को अपनी ओर देखते पाकर वो भी अपनी नजर काका की नजर से अलग नहीं कर पाई थी वो काका की नजर में एक भूख को आसानी से देख पा रही थी उसके प्रति एक भूख उसके प्रति एक लगाव या फिर उसके प्रति एक खिचाव को वो काका की नजर में देख रही थी उसके शरीर में एक आग फिर से आग लग गई थी जिसे उसने अपनी सांसों को कंट्रोल करके संभाला और एक तेज सांस छोड़ कर अपने कमरे की चली गई । आरती कमरे में घुसकर वापस बिस्तर पर ढेर हो गई और अपने बारे में सोचती रही उसे क्या हो गया है जब देखो उसे ऐसा क्यों लगता रहता है वो तो सेक्स की भूखी कभी नहीं थी पर आज कल तो जैसे उसके शरीर में जब देखो तब आग लगी रहती है क्या कारण है क्या वो इतनी कामुक हो गई है की पति के ना मिलने पर वो किसी के साथ भी सेक्स कर सकती है दो जनों के साथ तो वो सेक्स कर चुकी थी

वो भी इस घर के नौकर के साथ भी जिनकी हसियत ही क्या है उसके सामने पर आख़िर क्यों वो काका और मनोज अंकल को इतना मिस करती है क्यों उनके सामने जाते ही वो अपना सबकुछ भूल जाती है अभी भी तो काका उसकी तरफ जैसे देख रहे थे अगर सोनल ने देख लिया होता तो वो अपने आपको संभालने की कोशिश करने लगी थी नहीं यह गलत है उसे इस तरह की बातों पर ध्यान नहीं देना चाहिए वो एक घर की बहू है उसका पति है संपन्न घर है वो सिर्फ़ सेक्स की खातिर अपने घर को उजड़ नहीं सकती

उसने एक झटके से अपने दिमाग से रामू काका को और मनोज अंकल को निकाल बाहर किया और सूट चेंज करने के लिए वारड्रोब के सामने खड़ी हो गई उसने गाउन निकाला और जैसे ही पलटी उसकी नजर कल के ब्लाउस और पेटीकोट पर पड़ गई जो की उसने पहना था काका के लिए

वो चुपचाप उसपर अपनी नजर गढ़ाए खड़ी रही और धीरे से अपने हाथों से लेकर उनको सहलाने लगी पता नहीं क्यों उसने गाउन रखकर फिर से वो पेटीकोट और ब्लाउस उठा लिया और बाथरूम की चल दी चेंज करने को जब वो बाथरूम में चेंज कर रही थी तो जैसे-जैसे वो ड्रेस को अपने शरीर पर कस रही थी उसके शरीर में फिर से सेक्स की आग भड़कने लगी थी वो अपने सांसों को कंट्रोल नहीं कर पा रही थी उसकी सांसें अब बहुत तेज चलने लगी थी और उसकी चूचियां उसके कसे हुए ब्लाउज को फाड़कर बाहर आने को हो रही थी पेटीकोट और ब्लाउस पहनकर उसने अपने को मिरर में देखा तो वो किसी अप्सरा सी दिख रही थी।
वो अपने हाथों से एक बार अपने को सहलाते हुए अपने को मिरर में देखती रही और पलटकर जल्दी से कमरे में आ गई थी और बिस्तर पर धम्म से गिर गई उसका पूरा शरीर में आग लगी हुई थी पर उसने किसी तरह से अपने को कंट्रोल किया हुआ था उसने चद्दर खींचकर अपने को ढका और सबकुछ भूलकर सोने की कोशिश करने लगी उसने रवि के तकिए को भी चद्दर के अंदर खींच लिया और अपने आपको अपनी बाहों में भर कर सोने की कोशिश करने लगी थी

और उधर रामू अपने काम से फुर्सत हो गया था पर उसकी नजर बार-बार सीढ़ियों पर ही थी उसे आज भी उम्मीद थी कि आरती जरूर उसे बुला लेगी पर जब बहुत देर तक कोई आवाज नहीं आयी तो उसने कई बार बाहर आकर भी देखा । किचेन में ही खड़ा-खड़ा इंतजार करने लगा था पर कोई आवाज़ नहीं आयी वो अपने आपको उस हसीना के पास जाने को रोक नहीं पा रहा था पर अपनी हसियत और अपने छोटे पन का अहसास उसे रोके हुए था पर कभी वो निकलकर सीडियो की ओर देखता और वापस किचेन की ओर चला जाता वो अपने को रोकते हुए भी कब सीढ़ियो की ओर उसके पैर उठ गये वो नहीं जानता था

कहाँ से उसमें इतनी हिम्मत आ गई वो नहीं जानता था पर हाँ… वो अब सीढ़िया चढ़ रहा था बार-बार पीछे की ओर देखते हुए और बार अपने को रोकते हुए उसका एक कान किचेन में और दूसरा कान घर में होने वाली हर आहट पर भी था वो जब आरती के कमरे के पास पहुँचा तो घर में बिल्कुल शांति थी रामू की सांसें फूल रही थी जैसे की बहुत दूर से दौड़ कर आ रहा हो या फिर कुछ भारी काम करके आया हो रामू अपने कानों को आरती के दरवाजे पर रखकर अंदर की आहट को सुनने लगा पर कोई भी आहट नहिहुई थी अंदर


वो पलटकर वापस जाने लगा पर थोड़ी दूर जाके रुक गया क्या कर रही है आरती कही उसका इंतजार तो नहीं कर रही है अंदर। बुला नहीं पाई होगी शायद शरम से या फिर उसे लगता है कि कल ही तो उसने बुलाया था तो आज बुलाने की क्या जरूरत है हाँ शायद यही हो वो वापस मुड़ा और फिर से आरती के कमरे के बाहर आके खड़ा हो गया धीरे से बहुत ही धीरे से दरवाजे पर एक थपकी दी पर अंदर से कोई आवाज नहीं आई और नहीं कल जैसे दरवाजा ही खुला

पर रामू तो जैसे अपने दिल के हाथों मजबूर था उसका दिल नहीं मान रहा था वो देखना चाहता था कि आरती क्या कर रही है शायद उसका इंतेजार ही कर रही हो और वो अपने कारण इस चान्स को खो देगा वो हिम्मत करके धीरे से दरवाजे को धकेल ही दिया दरवाजा धीरे से अंदर की ओर खुल गया थोड़ा सा पर हाँ अंदर देख सकता था अंदर जब उसने नजर घुमाकर देखा तो पाया कि आरती तो बिस्तर पर सोई हुई है एक चद्दर ढँक कर तकिया पकड़कर एक टाँग जो कि चद्दर के अंदर से निकलकर बाहर से तकिये के ऊपर लिया था वो पूरी नंगी थी सफेद सफेद जाँघो के दर्शान उसे हुए उसकी हिम्मत बढ़ी और वो थोड़ा सा और आगे होके देखने की कोशिश करने लगा वो लगभग अंदर ही आ गया था और धीरे-धीरे
आरती के बिस्तर की ओर बढ़ने लगा था उसकी आखों में आरती की जांघे और फिर गोरी गोरी बाहें भी देखने लगी थी चादर ठीक से नहीं ओढ़ रखी थी आरती ने पर वो जो कुछ भी देख रहा था वो उसके शरीर में जो आग लगा रही थी और उसके अंदर एक ऐसी हिम्मत को जनम दे रही थी की अब तो चाहे जो हो जाए वो आरती को देखे बगैर बाहर नहीं जाएगा वो आरती के बिस्तर के और भी पास आ गया था आरती अब तक सो रही थी पर उसकी चद्दर के अंदर से उसके शरीर का हर उतार चढ़ाव उसे दिख रहा था वो थोड़ा सा झुका और अपने हाथों को आरती की जाँघो पर ले गया वो धीरे-धीरे उसकी जाँघो को अपनी हथेली से महसूस करने लगा उसके हाथो में जैसे कोई नरम सी और चिकनी सी चीज आ गई हो वो बड़ी ही तल्लीनता से आरती की जाँघो को उसके पैरों तक और फिर ऊपर बहुत ऊपर तक उसकी कमर तक ले जाने लगा था पर बहुत ही आराम से जैसे
उसे डर था कही आरती उठ ना जाए पर नहीं आरती के शरीर पर कोई हरकत नहीं हुई थी उसकी हिम्मत और बढ़ी और वो धीरे से आरती के ऊपर से चद्दर को हटाने लगा आरती की पीठ उसकी तरफ थी पर वो आरती की सांसों के साथ उसके शरीर के उठने बैठने के तरीके से समझ गया था कि वो सो रही थी उसने हिम्मत करके आरती के ऊपर से चद्दर को धीरे से हटा दिया

उूुुुउउफफफफफफफफफफ्फ़ क्या शरीर था चद्दर के अंदर गजब का दिख रहा था, सफेद ब्लाउस और पेटीकोट था पहने हाँ… वही तो था कल वाला तो क्या आरती उसके लिए ही तैयार हुए थी आआआआअह्ह
रामू के मुख से अचानक ही एक आह निकली और उसके हाथ आरती की पीठ पर धीरे-धीरे घूमने लगे थे उसकी मानो स्थिति उस समय ऐसी थी कि वो चाह कर भी अपने पैरों को वापस नहीं लेजा सकता था वो अब आरती के रूप और रंग का दीवाना था और किसी भी हालत में उसे फिर से हासिल करना चाहता था वो दीवानों की तरह अपने हाथों को आरती के शरीर पर घुमा रहा था और ऊपर वाले की रचना को को अपने हाथों से महसूस कर रहा था उसके मन में बहुत सी बातें भी चल रही थी वो अपने चेहरे को थोड़ा सा आगे करके आरती को देख भी लेता था और उसके स्थिति का जायजा भी लेता जा रहा था सोते हुए आरती कितनी सुंदर लगती थी बिल्कुल किसी मासूम बच्चे की तरह कितना सुंदर चेहरा है और कितनी सुंदर उसकी काया है उसके हाथ अब आरती कि जाँघो को बहुत ऊपर तक सहला रहे थे।
Reply
08-27-2019, 01:26 PM,
#23
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
और लगभग उसकी कमर तक वो पहुँच चुका था वो धीरे से आरती के बिस्तर पर बैठ गया और आरती कि दोनों टांगों को अपने दोनों खुरदुरे हाथों से
सहलाने लगा था कितना मजा आ रहा था रामू को यह वो किसी को भी बता नहीं सकता था उसके पास शब्द नहीं थे उस एहसास का वर्णन करने को उसके हाथ धीरे-धीरे ऊपर की ओर उठ-ते और फिर आरती की जाँघो की कोमलता का एहसास करते हुए नीचे उसकी टांगों पर आकर रुक जाते थे वो अपने को रोक नहीं पाया और उस सुंदरता को चखने के लिए वो धीरे से नीचे झुका और अपने होंठों को आरती के टांगों पर रख दिया और उन्हें चूमने लगा बहुत धीरे से और अपने हाथों को भी उन पर घुमाते हुए धीरे-धीरे ऊपर की ओर उठने लगा वो अपने जीवन का वो लम्हा सबकुछ भूलकर आरती की जाँघो को समर्पित कर चुका था उसे नहीं पता था कि इस तरह से वो आरती को जगा भी सकता था पर वो मजबूर था और अपने को ना रोक पाकर ही वो इस हरकत पर उतर आया था उसकी जीब भी अब आरती की जाँघो को चाट चाट कर गीलाकर रहे थे और होंठों पर इतनी कोमल और चिकनी काया का स्पर्श उसे जन्नत का वो सुख दे रही थी जिसकी कि उसने कभी भी कल्पना भी नहीं की थी वो अपने मन से आरती की तारीफ करते हुए धीरे-धीरे अपने काम में लगा था और अपने हाथों की उंगलियों को ऊपर-नीचे करते हुए आरती की जाँघो पर घुमा रहा था

उसके उंगलियां आरती की जाँघो के बीच में भी कभी-कभी चली जाती थी वो अपने काम में लगा था कि अचानक ही उसे महसूस हुआ कि आरती की जाँघो और टांगों पर जब वो अपने हाथ फेर रहा था तो उनपर थोड़ा सा खिंचाव भी होता था और आरती के मुख से सांसों का जोर थोड़ा सा बढ़ गया था वो चौंक कर थोड़ा सा रुका कही आरती जाग तो नहीं गई और अगर जाग गई थी तो कही वो चिल्ला ना पड़े वो थोड़ा सा रुका पर आरती के शरीर पर कोई हरकत ना देख कर वो धीरे से उठा और आरती की कमर के पास आ गया और अपने हाथों को उसने उसकी कमर के चारो ओर घुमाने लगा था और एक हाथ से वो आरती की पीठ को भी सहलाने लगा था वो आज अच्छे से आरती को देखना चाहता था और उसके हर उसे भाग को छूकर भी देखना चाहता था जिसे वो अब तक तरीके से देख नहीं पाया था शायद हर पुरुष की यही इच्छा होती है जिस चीज को भोग भी चुका हो उसे फिर से देखने की और महसूस करने की इच्छा हमेशा ही उसके अंदर पनपती रहती है


वही हाल रामू का भी था उसके हाथ अब आरती की पीठ और, कमर पर घूम रहे थे और हल्के-हल्के वो उसकी चुचियो की ओर भी चले जाते थे पर आरती जिस तरह से सोई हुई थी वो अपने हाथों को उसकी चूची तक अच्छी तरह से नहीं पहुँचा पा रहा था पर फिर भी साइड से ही वो उनकी नर्मी का एहसास अपने हाथों को दे रहा था लेकिन एक डर अब भी उसके जेहन में थी कि कही आरती उठ ना जाए पर अपने को रोक ना पाने की वजह से वो आगे और आगे चलता जा रहा था


और उधर आरती जो कि अब पूरी तरह से जागी हुई थी जैसे ही रामू काका उसके कमरे में घुसे थे तभी वो जाग गई थी और बिल्कुल बिना हीले डुले वैसे ही लेटी रही उसके तन में जो आग लगी थी रामू काका के कमरे में घुसते ही वो चार गुना हो गई थी वो अपनी सांसों को कंट्रोल करके किसी तरह से लेटी हुई थी और आगे के होने वाले घटना क्रम को झेलने की तैयारी कर रही थी वो सुनने की कोशिश कर रही थी कि रामु काका कहाँ है पर उनके पदछाप उसे नहीं सुनाई दिए हाँ… उसके नथुनो में जब एक महक ने जगह ली तो वो समझ गई थी कि रामू काका अब उसके बिल्कुल पास है वो उस मर्दाना महक को पहचानती थी उसने उस पसीने की खुशबू को अपने अंदर इससे पहले भी महसूस किया था उसके शरीर में उठने वाली तरंगे अब एक विकराल रूप ले चुकी थी वो चाहते हुए भी अपने को उस हालत से निकालने में आसमर्थ थी वो उस सागर में गोते लगाने के लिए तैयार थी बल्कि कहिए वो तो चाह ही रही थी कि आज उसके शरीर को कोई इतना रौंदे कि उसकी जान ही निकल जाए पर वो अपने आपसे नहीं जीत पाई थी इसलिए वो चुपचाप सोने की कोशिश करने लगी थी पर जैसे ही रामू काका आए वो सबकुछ भूल गई थी और अपने शरीर को सेक्स की आग में धकेल दिया था


वो अपने शरीर में उठ रही लहर को किसी तरह रोके हुए रामू काका की हर हरकत को महसूस कर रही थी और अपने अंदर उठ रही सेक्स की आग में डूबती जा रही थी उसे रामू काका के छूने का अंदाज बहुत अच्छा लग रहा था वो अपने को समेटे हुए उन हरकतों का मजा लूट रही थी उसे कोई चिंता नहीं थी वो अपने को एक सुखद अनुभूति के दलदल में धकेलती हुई अपने जीवन का आनंद लेती जा रही थी जब भी काका का हाथ उसके पैरों से उठते हुए जाँघो तक आता था उसकी चुत में ढेर सारा चिपचिपापन सा हो जाता था और चुचियाँ अपने ब्लाउज के अंदर जगह बनाने की कोशिश कर रही थी आरती अपने को किसी तरह से अपने शरीर में उठ रहे ज्वार को संभाले हुए थी पर धीरे-धीरे वो अपना नियंत्रण खोती जा रही थी

रामू काका अब उसकी कमर के पास बहुत पास बैठे हुए थे और और उनके शरीर की गर्मी को वो महसूस कर रही थी उसका पूरा शरीर गरम था और पूरा ध्यान रमु काका के हाथों पर था रामू काका उसकी पीठ को सहलाते हुए जब उसकी चुचियों की तरफ आते थे तो वो अपने को तकिये से अलग करके उनके हाथ को भर देना चाहती थी पर कर ना पाई रामु अब उसके पेट से लेकर पीठ और फिर से जब वो उसकी चुचियों तक पहुँचने की कोशिश की
तो आरती से नहीं रहा गया उसने थोड़ा सा अपने तकिये को ढीला छोड़ दिया और रामू काका के हाथों को अपने चुचियों तक पहुँचने में मदद की और रामू का हाथ जैसे ही आरती की चुचियों तक पहुँचे वो थोड़ा सा चौंका अपने हाथों को अपनी जगह पर ही रोके हुए उसने एक बार फिर से आहट लेने की कोशिश की पर आरती की ओर से कोई गतिविधि होते ना देखकर वो निश्चिंत हो गया और अपने आपको उस खेल में धकेल दिया जहां सिर्फ़ मज ही मजा है और कुछ नहीं वो अपने हाथों से आरती की चुचियों को धीरे दबाते हुए उसकी पीठ को भी सहला रहा था और अपने हाथों को उसके नितंबों तक ले जाता था वो आरती के नथुनो से निकलने वाली सांसों को भी गिन रहा था जो कि अब धीरे-धीरे कुछ तेज हो रही थी पर उसका ध्यान इस तरफ कम और अपने हाथों की अनुभूति की ओर ज्यादा था वो अपने को कही भी रोकने की कोशिश नहीं कर रहा था वो अपने मन से और दिल के हाथों मजबूर था वो अपने हाथ में आई उस सुंदर चीज को कही से भी छोड़ने को तैयार नहीं था।
अब धीरे-धीरे रामु काका की हरकतों में तेजी भी आती जा रही थी उसके हाथों का दबाब भी बढ़ने लगा था उसके हाथों पर आई आरती की चूची अब धीरे-धीरे दबाते हुए उसके हाथ कब उन्हें मसलने लगे थे उसे पता नहीं चला था पर हाँ… आरती के मुख से निकलते हुए आअह्ह ने उसे फिर से वास्तविकता में ले आया था वो थोड़ा सा ढीला पड़ा पर आरती की ओर से कोई हरकत नहीं होते देखकर उसके हाथ अब तो जैसे पागल हो गये थे वो अब आरती के ब्लाउज के हुक की ओर बढ़ चले थे वो अब जल्दी से उन्हे आजाद कंराना चाहता था पर बहुत ही धीरे-धीरे से वो बढ़ रहा था पर उसे आरती के होंठों से निकलने वाली सिसकारी भी अब ज्यादा तेज सुनाई दे रही थी जब तक वो आरती के ब्लाउसको खोलता तब तक आरती के होंठों पर से आआअह्ह और भी तेज हो चुकी थी वो अब समझ चुका था कि आरती जाग गई है पर वो कहाँ रुकने वाला था उसके हाथों में जो चीज आई थी वो तो उसे मसलने में लग गया था और पीछे से हाथ लेजाकर उसने आरती की चुचियों को भी उसके ब्रा से आजाद कर दिया था वो अपने हाथों का जोर उसकी चुचियों पर बढ़ाता ही जा रहा था और दूसरे हाथ से उसकी पीठ को भी सहलाता जा रहा था वो आरती के मुख से सिसकारी सुनकर और भी पागल हो रहा था उसे पता था कि आरती के जागने के बाद भी जब उसने कोई हरकत नहीं की तो उसे यह सब अच्छा लग रहा था वो और भी निडर हो गया और धीरे से आरती को अपनी ओर पलटा लिया और अपने होंठों को आरती की चुचियों पर रख दिया और जोर-जोर से चूसने लगा उसके हाथों पर आई आरती की दोनों चूचियां अब रामू के रहमो करम पर थी वो अपने होंठों को उसकी एक चुचि पर रखे हुए उन्हें चूस रहा था और दूसरे हाथों से उसकी एक चुची को जोर-जोर से मसल रहे थे इतना कि आरती के मुख से एक लंबी सी सिसकारी निकली और निरंतर निकलने लगी थी आरती के हाथों ने अब रामू के सिर को कस कर पकड़ लिया था और अपनी चुचियों की ओर जोर लगाकर खींचने लगी थी




वो अब और सह नहीं पाई थी और अपने आपको रामू काका की चाहत के सामने समर्पित कर दिया था वो अपने आपको रामू काका के पास और पास ले जाने को लालायित थी वो अपने शरीर को रामू काका के शरीर से सटाने को लालायित थी वो अपनी जाँघो को ऊपर करके और अपना पूरा दम लगाके रमु काका को अपने ऊपर खींचने लगी थी और रामू जो की अब तक आरती की चुचियों को अपने मुख में लिए हुए उन्हें चूस रहा था अचानक ही अपने सिर पर आरती के हाथों के दबाब को पाते ही और जंगली हो गया वो अब उनपर जैसे टूट पड़ा था वो दोनों हाथों से एक चुचि को दबाता और होंठों से उसे चूसता और कभी दूसरे पर मुख रखता और दूसरे को दबाता वो अपने हाथो को भी आरती के शरीर पर घुमाता जा रहा था और नीचे फँसे हुए पेटीकोट को खींचने लगा था जब उससे नाड़ा खुल गया तो एक ही झटके में उसने उसे उतार दिया पैंटी और, पेटीकोट भी और देखकर आश्चर्य भी हुआ की आरती ने अपनी कमर को उठाकर उसका साथ दिया था वो जान गया था की आरती को कोई आपत्ति नहीं है वो भी अपने एक हाथ से अपने कपड़ों से लड़ने लगा था और अपने एक हाथ और होंठों से आरती को एंगेज किए हुए था आरती जो की अब एक जल बिन मछली की भाँति बिस्तर पर पड़ी हुई तड़प रही थी वो अब उसे शांत करना चाहता था वो धीरे से अपने कपड़ों से बाहर आया और आरती के ऊपर लेट गया अब भी उसके होंठों पर आरती के निप्पल थे और हाथों को उसके पूरे शरीर पर घुमाकर हर उचाई और घराई को नाप रहा था तभी उसने अपने होंठों को उसके चूचियां से आलग किया और आरती की और देखने लगा जो की पूरी तरह से नंगी उसके नीचे पड़ी हुई थी वो आरती की सुंदरता को अपने दिल में या कहिए अपने जेहन में उतारने में लगा था पर तभी आरती को जो सुना पन लगा तो उसने अपनी आखें खोल ली और दोनों की आखें चार हुई .
रामू आरती की सुंदर और गहरी आखों में खो गया और धीरे से नीचे होता हुआ उसके होंठों को अपने होंठों से दबा लिया। आरती को अचानक ही कुछ मिल गया था तो वो भी अपने दोनों हाथो को रामू काका की कमर के चारो ओर घेरते हुए अपने होंठों को रामू काका के रहमो करम पर छोड़ दिया और अपने जीब को भी उनसे मिलाने की कोशिश करने लगी थी उसके हाथ भी अब रामू काका के बालिस्त शरीर का पूरा जाएजा लेने में लगे थे खुरदुरे और बहुत से उतार चढ़ाव लिए हुए बालों से भरे हुए उसके शरीर की गंध अब आरती के शरीर का एक हिस्सा सा बन गई थी उसके नथुनो में उनकी गंध ने एक अजीब सा नशा भर दिया था जो कि एक मर्द के शरीर से ही निकल सकती थी वो अपने को भूलकर रामू काका से कस कर लिपट गई और अपनी जाँघो को पूरा खोलकर काका को उसके बीच में फँसा लिया


उसके चुत में आग लगी हुई थी और वो अपनी कमर को उठाकर रामू काका के लण्ड पर अपने आपको घिसने लगी थी उसके जाँघो के बीच में आ के लण्ड की गर्मी इतनी थी कि लगभग झड़ने की स्थिति में पहुँच चुकी थी पर काका तो बस अब तक उसके होंठो और उसकी चुचियों के पीछे ही पड़े हुए थे वो लगातार अपनी चुत को उसके लण्ड पर घिसते हुए अपने होंठों को और जीब को भी काका के अंदर तक उतार देती थी उसकी पकड़ जो कि अब काका की कमर के चारो तरफ थी अचानक ही ढीली पड़ी और एक हाथ काका के सिर पर पहुँच गया और एक हाथ उनके लण्ड तक ले जाने की चेष्टा करने लगी बड़ी मुश्किल से उसने अपने और काका के बीच में जगह बनाई और और लण्ड को पकड़कर अपनी चुत पर रखा और वैसे ही एक झटका उसने नीचे से लगा दिया। रामू काका इस हरकत को जब तक पहचानते तब तक तो आरती के अंदर थे और आरती की जाँघो ने उन्हें कस आकर जकड़ लिया था रामू अपने को एक इतनी सुंदर स्त्री के साथ इस तरह की अपेक्षा करते वो तो जिंदगी में नहीं सोच पाए थे पर जैसे ही वो आरती के अंदर हुए उसका शरीर भी अपने आप आरती के साथ ऊपर-नीचे होने लगा था वो अब भी आरती के होंठों को चूस रहे थे और अपने हाथों से आरती की चुचियों को निचोड़ रहे थे उनकी हर हरकत पर आरती की चीख उनके गले में ही अटक जाती थी हर चीख के साथ रामू और भी जंगली हो जाता था और उसके हाथों का दबाब भी बड जाता था वो पागलो की तरह से आरती को किस करता हुआ अपने आपको गति देता जा रहा था वो जैसे ही आरती के होंठों को छोड़ता आरती की सिसकियां पूरे कमरे में गूंजने लगती तो वो फ़ौरन अपने होंठों से उन्हें सील करदेता और अपनी गति को ऑर भी तेज कर देता पूरे कमरे में आचनक ही एक तूफान सा आ गया था जो कि पूरे जोर पर था कमरे में जिस बिस्तर पर रामू आरती को भोग रहा था वो भी झटको के साथ अब हिलने लगा था
Reply
08-27-2019, 01:26 PM,
#24
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
और आरती की जिंदगी का यह एहसास जोकि अभी भी चल रहा था एक ऐसा अहसास था जिसे कि वो पूरी तरह से भोगना चाहती थी वो आज इतनी गरम हो चुकी थी कि रामू के दो तीन झटको में ही वो झड चुकी थी पर रामू के लगातार झटको में वो अपने को फिर से जागते हुए पाया और अपनी जाँघो की पकड़ और भी मजबूत करते हुए रामू काका से लिपट गई और हर धक्के के साथ अपने मुँह से एक जोर दार चीत्कार निकलती जा रही थी वो उन झटकों को बिना चीत्कार के झेल भी नहीं पा रही थी पता नहीं कहाँ जाकर टकराते थे रामू काका के लण्ड के वो ऊपर की ओर सरक जाती थी और एक चीख उसके मुख से निकल जाती थी पर हर बार रामू काका उसे अपने होंठों से दबाकर खा जाते थे उसको रामू काका का यह अंदाज बहुत पसंद आया और वो खुलकर उनका साथ दे रही थी शायद ही उसने अपने पति का इस तरह से साथ दिया हो वहां तो शरम और हया का परदा जो रहता है पर यहां तो सेक्स और सिर्फ़ सेक्स का ही रिस्ता था वो खुलकर अपने शरीर की उठने वाली हर तरंग का मज़ा अभी ले रही थी और अपने आपको पूरी तरह से रामू काका के सुपुर्द भी कर दिया था और जम कर सेक्स का मजा भी लूट रही थी उसके पति का तिरस्कार अब उसे नहीं सता रहा था ना उनकी अप्पेक्षा वो तो जिस समुंदर में डुबकी ले रही थी वहां तो बस मज ही मजा था वो रामू काका को अपनी जाँघो से जकड़ते हुए हर धक्के के साथ उठती और हर धक्के के साथ नीचे गिरती थी और रामू तो जैसे, जानवर हो गया था अपने होंठों को आरती के होंठों से जोड़े हुए लगातार गति देते हुए अपनी चरम सीमा की ओर बढ़ता जा रहा था उसे कोई डर नहीं था और नहीं कोई शिकायत थी

वो लगातार अपने नीचे आरती को अपने तरीके से चोद रहा था और धीरे धीरे अपने शिखर पर पहुँच गया हर एक धक्के के साथ वो अपने को खाली करता जा रहा था और हर बार नीचे से मिल रहे साथ का पूरा मजा ले रहा था वो अपने को और नहीं संभाल पाया और धम्म से नीचे पड़े हुए आरती के ऊपर ढेर हो गया नीचे आरती भी झड़ चुकी थी और वो भी निश्चल सी उसके नीचे पड़ी हुई गॉंगों करके सांसें ले रही थी उसकी खासी से भी कभी-कभी कमरा गूँज उठा था पर थोड़ी देर में सबकुछ शांत हो गया था बिल कुल शांत। लेकिन
बाहर कमरे के दरवाजे पे भूकम्प आ गया था, जितनी स्पीड से वो दोनों जड़े थे उतनी तेज़ी से एक शक्स और भी जड़ा।
लेकिन उसकी आँखों मे नफरत थी उनदोनो के लिए। हालांकि उनकी चुदाई देख रुक नही पाया समुंदर पर एक नफरत ने भी अपना जन्म लिया।
एक हल्की सी चीख सोनल को अपने कमरे में सुनाई दी थी अपनी मम्मी की । जिसको सुनकर वो ऊपर आ गयी अपनी मम्मी के कमरे के दरवाजे पर , वहा उसने अकल्पनीय नजारा देखा, उनके घर का बुडडा नॉकर जिसको वो दादा कहती है उसकी मम्मी को चोद रहा है और मम्मी भी उसका भरपूर सहयोग कर रही है, हालांकि वो खुद आज उनको देख कर अपनी चुत रगड़ ली थी लेकिन उनको माफ भी नही कर पाई।
उसके पापा जोकि उसके लिए हीरो थे हालांकि वो अंतर्मुखी थे लेकिन उसको बहुत प्यार करते थे, और उसकी मम्मी उन्ही के साथ धोखा कर रही थी।
उसने एक फैसला किया मन ही मन, लेकिन क्या ये तो आने वाला वक़्त ही बताएगा, उसने अपने को संभाला और दरवाजे को जोर से पटक कर चली गईईईई---
जिसको सुनकर आरति और रामू काका दोनो हड़बड़ा गए। और चोंकते हुए दरवाजे को देखा, लेकिन वहा उन्हें कोई नही दिखा। उन्होंने झटफ्ट अपने अपने कपड़े पहने और पहले रामू कमरे से बाहर निकल गया और नीचे पहुचा, वहा भी कोई नही था हर तरफ सन्नाटा था।
तभी आरति भी नीचे आ गयी और इशारे से पूछा, रामु काका से उन्होंने कंधे उचका के जवाब दिया कि कुछ नही पता चला। आरती सोनल के कमरे की तरफ गयी और हल्का सा दरवाजा सरका कर देखा, डोर खुला था और सोनल बिस्तर पर लेटी हुई थी जैसे गहरी नींद में हो।
आरति मुड़कर उप्पेर चली गयी सोचते हुए आखिर कौन हो सकता है सोनल,जया काकी या फिर मोनिका।
आरति जोकि अभी सदमे में थी , अब शांत थी उस खड़के के बाद थोड़ा सा हिली पर ना जाने क्यों वो वैसे ही पड़ी रही बिस्तर पर और धीरे धीरे नींद के आगोश में चली गई

दोपहर को ठीक 1:45 पर दरवाजे पर फिर खटखटा हुआ तो वो हड़बड़ा कर उठी और
आरती- हाँ…
रामू काका-- जी वो आपको सोनल के साथ बाजार जाना था इसलिए और रवि साहब का फ़ोन आया था कि शाम को आज मनोज जी नहि आएँगे आज।

कामया ने झट से उठ बैठी कि रामू काका ने क्यो जगाया। अरे वो चिंतित थे कि कही वो सोती रह जाती तो सोनल के साथ वो कैसे बाजार जाती उसके चेहरे पर शिकन थी कि मनोज अंकल आज नही आएंगे वो जल्दी से उठी और बाथरूम की ओर भागी ताकि नहा धो कर जल्दी से तैयार हो सके

लगभग 2बजे वो बिल्कुल तैयार थी साड़ी और मचिंग ब्लाउज के साथ सोनल के साथ जाना था इसलिए थोड़ा सलीके की ब्लाउस और साड़ी पहनी थी पर था तो फिर भी बहुत कुछ दिखाने वाला टाइट और बिल्कुल नाप का साड़ी वही कमर के बहुत नीचे और ब्लाउस भी डीप नेस्क आगे और पीछे से


थोड़ी देर में ही बाहर एक गाड़ी आके रुकी तो वो समझ गई थी कि टक्सी आ गई है वो फ़ौरन बाहर की ओर लपकी ताकि सोनल के साथ ही वो नीचे मिल सके सोनल को बुलाना न पड़े नीचे आते ही सोनल ने एक बार आरती को ऊपर से नीचे तक देखा और हल्की सी रहस्यमयी मुस्कान के साथ
सोनल---मम्मीजी,चले
आरती- हां
और बाहर जहां गाड़ी खड़ी थी आके बैठ गये
गाड़ी में आरती ने बड़े ही हिम्मत करके सोनल को कहा
आरति- सोनल बेटा
- हाँ…
कामया- वो आज दोपहर तुम कमरे में आई थी क्या
सोनल- मम्मी क्या हुआ ऐसे क्यो पूछ रही हो आयी भी हु तो ऐसा क्या हुआ।
आरति - वो असल में मुझे ना ऐसा लगा कि जब मैं सो रही थी तो कोई कमरे में आया था।
सोनल अजीब सी नजरो से आरती को देखती है तो आरति घबरा कर टॉपिक चेंज कर देती है
आरति- अरे ंमुझे न वहा कुछ टाइम लगेगा ही और इतनी भीड़ भाड़ में तुम क्या करोगी , बेटा तू एक काम करना वहां पार्क है तू थोड़ा घूम आना में वहां थोड़ी देर शॉपिंग करूंगी और फिर दोनों घर आ जाएँगे ।
सोनल--- ठीक है मम्मी जी।
कार शॉपिंग मॉल के पार्किंग में रुकी और आरति और सोनल दोनो कार से उतरी। कार से उतरते ही सोनल पार्क की तरफ चली गयी बिना कुछ बोले।
आरती की जान में जान आई वो लोगों की तरफ देखती हुई थोड़ा सा मुस्कुराती हुई सिर पर पल्ला लिए हुए धीरे से आगे बढ़ी और बाहर की ओर चलने लगी बहुत सी आखें उसपर थी

पर एक आखों जो कि दूर से उसे देख रही थी आरती की नजर उसपर जम गई थी वो भीड़ में खड़ा दूर से उसे ही निहार रहा था वो घूमकर उसे देखती पर अपने को उस भीड़ से बच कर जब वो बाहर निकली तो वो आखें गायब थी वो शॉपिंग मॉल के बाहर सीढ़ियो पर आ के फिर से इधार उधर नजरें घुमाने लगी थी पर कोई नहीं दिखा उसे



पर वो ढूँढ़ क्या रही थी और किसे शायद वो उस नजर का पीछा कर रही थी जो उसे भीड़ में दिखी थी पर वो था कौन उसे वो नजर कुछ पहचानी हुई सी लगी थी पर एक झटके से उसने अपने सिर को हिलाकर अपने जेहन से उस बात को निकाल दिया की उसे यहां कौन पहचानेगा वो आज से पहले कभी इस शॉपिंग मॉल में आई ही नहीं वो शॉपिंग की सीढ़िया उतर कर अंदर बने हुए छोटे से कॉम्प्लेक्स में आ गई थी और धीरे-धीरे चहल कदमी करते हुए बार-बारइधर-उधर देखती जा रही थी लोग सभी दुकानों की और जाते हुए दिख रहे थे कुछ उसे देखते हुए तो कुछ नजर अंदाज करते हुए पर तभी उसकी नजर एक शॉप के पास खड़े हुए उस इंसान पर पड़ी जिसे देखते ही उसके रोंगटे खड़े हो गये वो बिल्कुल उप्पेर की सीढ़ियों के पास दीवाल से टिका हुआ खड़ा था वो उसे ही देख रहा था पर बहुत दूर था आरती ने जैसे ही उसे देखा तो वो थोड़ी देर के लिए वही ठिटक गई और, फिर से उसे देखने लगी थी

वो दूर था पर उसे पता चल गया था कि आरती की नजर उसे पर पड़ चुकी थी वो धीरे-धीरे शॉप के पीछे कॉर्डियर की ओर जाने लगा था।
Reply
08-27-2019, 01:26 PM,
#25
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
आरती अब भी वही खड़ी हुई उसे जाते हुए देखती रही पर पीछे की ओर जाते हुए वो थोड़ा सा अंधेरे में ठिटका और पीछे मुड़कर एक बार फिर से आरती की ओर देखा और अंधेरे में गुम हो गया आरती अपने जगह पर खड़ी हुई उस अंधेरे में देखती रही और उस नजर वाले को तौलती रही वो अपने चारो ओर एक नजर दौड़ाई और धीरे से उस ओर चल दी जहां वो इंसान गायब हुआ था उसके शरीर में एक अजीब सी उमंग उठ रही थी

वो चलते-चलते अपने पीछे और आस-पास का जायजा भी लेती जा रही थी पर सब अपने में ही मस्त थे सभी का ध्यान अपनी अपनी शॉपिंग की ओर ही था और जल्दी से अपनी जगह लेने की कोशिश में थे कामया बहुत ही संतुलित कदमो से उस ओर जा रही थी

वो अब कॉरिडोर के साइड में आ गई थी पर उसे वो इंसान कही भी नहीं दिख रहा था वो थोड़ा और आगे की ओर चली पर वो नहीं दिखा वो अब बिल्कुल अंधेरे में थी और उसकी नजर उस नजर का पीछा कर रही थी जिसके लिए वो यहां तक आ गई थी पर वहां कोई नहीं था वो थोड़ा और आगे की ओर बढ़ी पर अंधेरा ही हाथ लगा वो कुछ और आगे बढ़ी तो उसे एक हल्की सी लाइट दिखी जो की शायद किसी के शॉप कम आफिस के अंदर से आ रही थी वो जिग्याशा बश थोड़ा और आगे की ओर हुई तो उसे वही इंसान एक दरवाजा खोलकर अंदर जाते हुए दिखा वो थोड़ी सी ठिटकि पर जाने क्यों वो पीछे की ओर देखते हुए आगे की ओर बढ़ती ही गई वो उस दरवाजे पर पहुँची ही थी कि अंदर से लाइट आफ हो गई और घुप अंधेरा छा गया

वो वही खड़ी रही और बहुत ही सधे हुए कदमो से आफिस डोर की चौखट को अपने हाथों से टटोल कर पकड़ा और थोड़ा सा आगे बढ़ी अंदर उसे वही आकृति अंधेरे में खड़ी दिखाई दी आरति ने एक बार फिर से अपने चारो ओर देखा कोई नहीं था वहां पर वो वही खड़ी रही शायद अंदर जाने की हिम्मत नहीं थी तभी वो आकृति अंधेरे से बाहर की ओर आती दिखाई दी वो धीरे-धीरे आरती की ओर बढ़ा रही थी और आरती की सांसें बहुत तेज चलने लगी थी वो अपनी जगह पर ही खड़ी-खड़ी अपनी सांसों को तेज होते और अपने शरीर को कपड़ों के अंदर टाइट होते महसुसू करती रही


अचानक ही वो आकृति उसके पास आ गई और उसका हाथ पकड़कर उसे अंदर खींचने लगी धीमे से बहुत ही धीमे से आरती उस हाथ के खिन्चाव के साथ अंदर चली गई और वही अंदर उस इंसान के बहुत ही नजदीक खड़ी हो गई वो इंसान उसके बहुत की करीब खड़ा था और अपने घर में आए मेहमान की उपस्थित को नजर अंदाज नहीं कर रहा था वो खड़े-खड़े आरती की नंगी बाहों को अपने हाथों से सहला रहा था और उसके शरीर की गंध को अपने जेहन में बसा रहा था वो थोड़ी देर तो वैसे ही खड़ा-खड़ा आरती को सहलाता रहा और उसकी नजदीकिया महसूस करता रहा


आरती भी बिल्कुल निश्चल सी उस आकृति के पास खड़ी रही और उसकी हर हरकत को अपने में समेटने की कोशिश करती रही कि वो आकृति उसे छोड़ कर आरती के पीछे चली गई और डोर को अंदर से बंद कर दिया कमरे में एकदम से घुप अंधेरा हो गया हाथों हाथ नहीं सूझ रहा था पर आरती वही खड़ी रही और उस इंसान का इंतजार करती रही उसकी नाक में एक अजीब तरह की गंध ने जगह ले ली थी कुछ सिडन की जैसे की कोई पुराना ओफिस में होती है पानी और साफ सफाई की अनदेखी होने से पर आरती को वो गंध भी अभी अच्छी लग रही थी वो खड़ी-खड़ी काप रही थी ठंड के मारे नहीं सेक्स की आग में उस इंसान के हाथों के स्पर्श के साथ ही उसने अपने सोचने की शक्ति को खो दिया था

और वो सेक्स की आग में जल उठी थी कि तभी उस इंसान ने उसे पीछे से आके जकड़ लिया और ताबड तोड उसके गले और पीठ पर अपने होंठों के छाप छोड़ने लगा था वो बहुत ही उतावला था और जल्दी से अपने हाथों में आई चीज का इश्तेमाल कर लेना चाहता था उसे इस बात की कोई फिकर नहीं थी कि साड़ी कहाँ बँधी है या पेटिकोट कहाँ लगा था वो तो बस एक कामुक इंसान था और अपने हाथों में आए उस सुंदर शरीर को जल्दी से जल्दी भोगना चाहता था वो जल्दी में था और उसके हाथ और होंठ इस बात का प्रमाण दे रहे थे उसने आरती के शरीर से एक ही झटके में साड़ी और पेटीकोट का नाड़ा खोलकर उन्हे उतार दिया और जल्दी में उसके शरीर से ब्लाउज के बटनो को भी खोलने लगा था आरती जो की उसके हर हरकत को अपने अंदर उठ रही उत्तेजना की लहर के साथ ही अपने काम अग्नि को
जनम दे रही थी वो भी उस इंसान का हर संभव साथ देने की कोशिश करती जा रही थी उसे कोई चिंता नहीं थी और वो भी उस इंसान का हर तरीके से साथ देती जा रही थी वो भी घूमकर, उस इंसान के गले लग गई थी अंधेरे में उसे कोई चिंता नहीं थी कि कोई उसे देखेगा या फिर क्या सोचेगा वो तो अपने आप में ही
नहीं थी वो तो सेक्स की भेट चढ़ चुकी थी और उस
इंसान का पूरा साथ दे रही थी उसके कपड़े उसके शरीर से अलग हो चके थे और वो पूरी तरह से नग्न अवस्था में उस इंसान की बाहों में थी और वो इंसान उसे अपनी बाहों में लेके जोर-जोर से किस कर रहा था और अपने हाथों को उसके पूरे शरीर में घुमा रहा था पर थोड़ी देर में ही उसकी उत्तेजना चरम सीमा पर पहुँच चुकी थी और उसके एक ही झटके में आरती को अपनी गोद में उठा लिया और साइड में पड़ी हुई जमीन में रखी हुई चटाइ पर पटक दिया और अपने कपड़ों से जूझने लगा
वो भी अपने कपड़ों से आजाद हुआ और फिर आरती के होंठों को अंधेरे में ढूँढ़ कर उन्हें चूमने लगा था और आरती की चुचियों को अपने हाथों से जोर-जोर से दबाने लगा था आरती नीचे पड़ी हुई कसमसा रही थी और उसकी हर हरकत को सहने की कोशिश कर रही थी पर उसके दबाब के कारण उसके शरीर का हर हिस्सा आग में घी डाल रहा था आरती ने किसी तरह से अपने को उससे अलग करने की कोशिश की पर कहाँ वो तो जैसे जानवर बन गया था और आरती को निचोड़ता जा रहा था आरती की टांगों को भी एक ही झटके से उसने अपने पैरों से खोला और अपने लण्ड को उसकी चुत के द्वार पर रखकर एक जोरदार धक्का लगा दिया

आरती का पूरा शरीर ही उस धक्के से हिल गया और वो सिहर उठी पर जैसे ही उसने थोड़ी सांस लेने की कोशिश की कि एक ओर झटका और फिर एक ओर धीरे-धीरे झटके पर झटके और आरती भी अब तैयार हो गई थी उसे हर धक्के में नया आनंद मिलता जा रहा था और वो अपने सफर को चलने लगी थी ऊपर पड़े हुए इंसान ने तो जैसे गति पकड़ी थी उससे लगता था कि जल्दी में था और जल्दी-जल्दी अपने मुकाम पर पहुँचना चाहता था आरती भी अपनी दोनों जाँघो को खोलकर उस इंसान का पूरा साथ दे रही थी और अपने शरीर को उससे जोड़े रखा था वो बहुत ही नजदीक पहुँच चुकी थी अपने चरम सीमा को लगने ही वाली थी उस इंसान के हर धक्के में वो बात थी कि वो कब झड जाए उसे पता ही नहीं चलता वो धक्के के साथ ही अपने होंठों को उसके साथ जोड़े रखी थी पर जैसे ही धक्का पड़ता उसका मुख खुल जाता और एक लंबी सी सिसकारी उसके मुख से निकल जाती वो नीचे पड़ी हुई हर धक्के का जबाब अपनी कमर उठाकर देती जा रही थी


पर जैसे ही वो अपने चरम सीमा की ओर जाने लगी थी उसका पूरा शरीर अकड़ने लगा था और वो उस इंसान से और भी सटने लगी थी और अपने मुख से निकलने वाली सिसकारी और भी तेज और उत्तेजना से भरी हुई होती जा रही थी
कि तभी उस इंसान का बहुत सा वीर्य उसके चुत में छूटा और वो दो 4 जबरदस्त धक्कों के बाद वो उसके ऊपर गिर गया और नीचे जब आरती ने देखा कि वो इंसान उसके अंदर छूट चुका है तो वो उससे और भी चिपक गई और अपनी कमर को उठा कर हर एक धक्के पर अपनी चुत के अंदर एक धार सी निकलते महसूस करने लगी उसके होंठों को उसने भिच कर, उस इंसान के कंधो पर नाख़ून गढ़ा दिए थे और अपने हाथों को कस कर जकड़कर उस इंसान को अपने अंदर और अंदर ले जाना चाहती थी उसके मुख से के लंबी सी आहह निकली और
- कल से आप रोज आना प्लीज
- जी
आरती नीचे पड़े हुए अपनी सांसों को नियंत्रित करती हुई बोली
आरती- आज क्यों नहीं आए थे
- जी वो कुछ जवाब नही आगे।
कल से रोज आना मुझे ड्राइविंग सिखाने

वो इंसान और कोई नहीं मनोज अंकल ही थे वो मॉल में भी उसका आफिस था और आज वो जानबूझ कर नहीं गया था क्योंकी उसे डर था कि कही आरती ने शिकायत कर दी तो पर जैसे ही उसने आरती को मॉल में देखा तो वो अपनी सारी गलती भूल गया और आरती को अपने बंध आफिस के अंदर ले आया और आगे तो अपने ऊपर पढ़ ही लिया होगा

तो खेर दोनो अपने आपको शांत करके अब बिल्कुल निश्चल से पड़े हुए थे की मनोज ने अपने आपको उठाया और अंधेरे में ही टटोलते हुए अपने कपड़े और आरति के कपड़ों को उठा लिया और दोनों ही अंधेरे में तैयारी करने लगे जब वो कपड़े पहनकर तैयार हुए तो उसे अपनी परिस्थिति का ध्यान आया वो कहाँ है और कैसी स्थिति में है उसके मन में एक डर घर कर गया था आरती ने जल्दी से अपने कपड़े ठीक किए और अंधेरे में ही बाहर की ओर जाने लगी थी


पर मनोज ने उसे रोक लिया वो पहले बाहर की ओर बढ़ा और दरवाजा खोलकर बाहर एक नजर डाली वहां किसी को ना देखकर वो संतुष्ट हो गया पर जिसको जो देखना था देख कर जा चुकी थी और इशारे से आरती को बुलाया और बाहर को जाने को इशारा किया। आरती भी नजर झुकाए तुरंत बाहर निकल गई और जल्दी से गार्डेन की ओर दौड़ पड़ी जब वो
गार्डेन तक आई तो वहां सबकुछ नार्मल था किसी को भी उसका ध्यान नहीं था वो वही खड़ी हुई अपने बाल और चेहरे को ठीक करने लगी थी कि उसने सोनल को पार्क की सीढ़ियाँ उतरते देखा वो भी थोड़ा सा आगे होकर सोनल के पास चली गई। सोनल टक्सी के अंदर बैठ गई और आरति भी और टक्सी उनके घर की ओर चल दी
पर आरती का
ध्यान अपने आज के अनुभव की ओर ज्यादा था वो बहुत खुश थी और अपने सुख की चिंता अब वो करने लगी थी उसके तन की आग बुझ चुकी थी।
अब उसके पास दो ऐसे लोग थे जो की सिर्फ़ और सिर्फ़ उसके तन के लिए कुछ भी कर सकते थे उसकी सुंदरता की पूजाकरने वाले और उसके रूप के दीवाने

अब उसे कोई फरक नहीं पड़ता कि उसका पति उसे इंपार्टेन्स देता है कि नहीं उसे इंपार्टेन्स देने वाला उसे मिल गया था सोचते सोचते वो कब घर पहुँच गई पताही नहीं चला पर घर पहुँचकर वो अब एक बिंदास टाइप की हो गई थी

उसके चाल में एक लचक थी और बेफिक्री भी वो जल्दी से अपने कमरे में गई और बाथरूम में घुस गई

चेंज करते-करते उसके पति भी आ गये थे सभी अपने अपने काम से लगे हुए खाने की टेबल पर भी पहुँच गये और फिर अपने कमरे में भी

रवि का कोई इंटेरेस्ट नहीं था सेक्स के लिए और वो कुछ पेपर्स लिए हुए उन्हें पढ़ रहा था आरती भी रवि के पास आकर लेट गई थोड़ा सा मुस्कुराता हुआ
रवि- सो जाओ थोड़ी देर मैं में सोता हूँ

आरती- हाँ…
और पलटकर वो सो गई उसे कोई फरक नहीं पड़ा कि रवि उससे प्यार करता है कि नहीं या फिर उसके लिए उसके पास टाइम है कि नहीं

सुबह भी वैसे ही टाइम टेबल रहा पर हाँ… आरती में चेंज आया था वो सिर्फ़ आरती ही जानती थी आरती अब बेफिक्र थी अपने पति की ओर से वो जानती थी कि उसका पति सिर्फ़ और सिर्फ़ पैसे के पीछे भागने वाला है और उसके जीवन में कुछ और नहीं है तो वो भी अपने सुख को अपने तरीके से ढूँढ कर अपने जीवन में लाने की कोशिश करने लगी थी

रवि के जाने के बाद सोनल को लेने आज बस आयी। अब वो खुश थी कि शाम को अंकल के साथ वो ड्राइविंग करने जा सकती है और अभी भी वो रामू को अपने कमरे में बुला सकती है वो अब सेक्स की चिता में बैठ चुकी थी उसे अब उस आग में जलने से कोई नहीं रोक सकता था और वो अपने को तैयार भी कर चूकी थी। लेकिन उसे नही मालूम था कि घर मे एक और इंसान में चेंज आ चुका था । वो थी सोनल।
उसने फैसला किया कि जैसे उसकी मम्मी पापा को धोखा दे रही है वैसे वो भी अब मम्मी को धोखा देकर अपने पापा से नजदीकियां बढ़ाई गी। और सोनल अपने पापा के साथ ही यह मज़ा लेने की सोचने लगी और सोचने लगी कि कैसे पापा के साथ मज़ा लिया जाए?

आज जैसे तैसे करके में स्कूल जाने के लिए तैयार हुई और ड्रेस पहनकर बाहर आई तो नाश्ते की टेबल पर पापा से सामना हुआ, सोनल रोज सुबह पापा को गुड मॉर्निंग किस करके विश करती थी. तो तब उस दिन भी पापा को किस करके ही विश किया, लेकिन इस बार सोनल ने कुछ ज़्यादा ही गहरा किस किया और थोड़ा अपनी जीभ से उनके गाल को थोड़ा चाट लिया, जिससे उसके पापा पर कुछ असर तो हुआ, लेकिन उन्होंने आरति सामने ज़ाहिर नहीं किया था.

अब सोनल उनके ठीक सामने जाकर कुर्सी पर बैठकर नाश्ता करने लगी थी और फिर नाश्ता करने के बाद सोनल स्कूल की बस पकड़ने के लिए बाहर जाने लगी, लेकिन उसका मन पापा को छोड़कर जाने का नहीं हो रहा था, तो तब सोनल बाहर तो गयी, लेकिन कुछ देर के बाद वापस आकर सोनल ने बहाना बनाया की मेरी बस निकल चुकी है.

अब ऐसी स्थिति में रवि स्कूल छोड़कर आया करते थे, तो तब आरती बोली कि जा पापा से कह दे, वो तुझे स्कूल छोड़ आएँगे. फिर सोनल खुशी-खुशी पापा के कमरे में गयी. अब पापा सिर्फ़ अपने पजामे में थे. फिर सोनल ने पापा से कहा तो रवि सोनल को स्कूल छोड़ने के लिए राज़ी हो गये. अब रवि अपनी पेंट पहनने लगे थे. फिर सोनल ने उनके हाथ से पेंट लेते हुए कहा कि पापा पजामा ही रहने दीजिए, में लेट हो रही हूँ. तो तब रवि बोले कि ठीक है, में टी-शर्ट तो पहन लूँ, तू मेरा बाहर इन्तजार कर, तो सोनल बाहर आकर इन्तजार करने लगी.

रवि सोनल को स्कूल कार में ही छोड़ते थे,

सोनल का स्कूल घर से लगभग 10 किलोमीटर दूर था, रास्ता लंबा था और सुबह का वक़्त था, तो रोड सुनसान थी. फिर जब दोनो घर से 2 किलोमीटर दूर आ गये, तो तब सोनल ने रवि से कहा कि गाड़ी में चलाऊँगी. तो तब रवि बोले कि बेटी तुझसे गाड़ी नहीं चलेगी, तो सोनल तो ज़िद्द करने लगी. तो तब रवि परेशान होकर बोले कि ठीक है, लेकिन स्टेरिंग में ही पकडूँगा. अब सोनल को अपना प्लान कामयाब होता दिख रहा था.

फिर तब सोनल ने कहा कि ठीक है और रवि ने गाड़ी साईड में रोककर सोनल को अपने आगे बैठाया और सोनल की बगल में से अपने दोनों हाथ डालकर स्टेरिंग पकड़ा और धीरे-धीरे चलाने लगे. लेकिन अब गाड़ी चलाने में किसका ध्यान था? अब सोनल का ध्यान तो रवि के पजामे में लटके उनके लंड पर था. तो तभी गाड़ी जैसे ही खड्डे में गयी, तो सोनल ने हिलने का बहाना करके उनका लंड ठीक अपनी गांड के नीचे दबा लिया.

अब रवि कुछ अच्छा महसूस नहीं कर रहे थे. अब सोनल अपनी गांड को उनके लंड पर रगड़ने लगी थी. अब गर्मी पाकर उनका लंड धीरे-धीरे खड़ा होने लगा था, जिससे सोनल को भी मस्ती आने लगी थी. अब रवि को भी मज़ा आ रहा था और फिर इस तरह मस्ती करते हुए सोनल स्कूल पहुँच गयी.

रवि को जाते वक़्त सोनल ने एक बार फिर से किस किया. अब रवि शायद सोनल को लेकर कुछ परेशान हो गये थे और सोनल की तो पूछो मत, उसकी हालत तो इतना करने में ही बहुत खराब हो गयी थी और उसकी पेंटी इतनी गीली हो चुकी थी कि उसे लग रहा था उसकी स्कर्ट खराब ना हो जाए.उसने पहले स्कूल के टॉइलेट में जाकर अपनी चुत साफ की फिर क्लास में गयी।
फिर पूरे दिन स्कूल में उसके दिमाग में अपने पापा का लंड ही घूमता रहा और अब उसका दिल कर रहा था कि वो पापा के लंड पर ही बैठी रहै. अब पता नहीं उसे क्या हो गया था? ऐसा कौन सा वासना का तूफान मेरे अंदर था कि सोनल अपने पापा से चुदने के लिए ही सोचने लगी थी. तभी क्लास में पियून आता है और सोनल को कहता है कि प्रिंसीपल सर ने बुलाया है।
Reply
08-27-2019, 01:27 PM,
#26
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
सोनल प्रिंसिपल आफिस जाती है।
सोनल--- may I come in sir,
Sir__- yes coming
Sonal--- yes sir आपने बुलाया था मुझे।
P.s--++ हां मैने तुम्हे कल सीधे घर बुलाया था आयी क्यो नही।
सोनल--- सर् अब मैं आपसे ट्यूशन नही पदूगी।
सर-- क्यो सोनल बेटी।
सर उसके कंधे को सहलाते हुए उसे छूने लगे।
सोनल उनके हाथ को छटक कर एक दम खड़ी हो गयी और बोली--- सर मैं क्यो का जवाब देना जरूरी नही समझती और हाँ आज तक जैसे अभी आपने मुझे छुआ या यूज़ किया मैने सहन किया, अगर आगे ऐसी कोई भी हरकत की तो अच्छा नही होगा। और इसे लास्ट वॉर्निंग समझना। हल्के में मत लेना।
सोनल का रौद्र रूप देख कर प्रिंसिपल भी डर गया आज तक डरी सहमी डब्बू सोनल आज कुछ और ही रंग में थी। वो उसे क्लास में जाते हुए देखते रह गए।
फिर सोनल क्लास में आ गयी लेकिन उसके दिमाग मे चुदाई गुसी हुई थी।
खैर आगे बढ़ते है, फिर सोनल चुदाई की इच्छा और गीली पेंटी लेकर घर पहुँची. अब उस वक़्त लगभग 3 बज रहे थे. अब घर में रामु दादा, जया दादी के अलावा कोई नहीं था, आरती कहीं गयी हुई थी और रवि अपने शोरूम पे थे.

में बाथरूम में गयी और गंदे कपड़ो में से रवि की अंडरवेयर ढूंढकर अपनी चूत पर रगड़ते हुए हस्तमैथुन किया. अब उसे बहुत मज़ा आया था और फिर सोनल सो गयी. फिर सोनल की आँख खुली तो शाम के 5 बज रहे थे. फिर सोनल नहा धोकर कपड़े पहने और उसने कपड़े भी उस दिन कुछ सेक्सी दिखने वाले पहने थे, उसने एक शॉर्ट स्कर्ट और फिटिंग टी-शर्ट पहनी थी.
सोनल ने चाय के लिए आरति को बुलाया। आरती सोनल की ड्रेस देख कर अचंभित हो गयी। एक लड़की जो अभी तक बिल्कुल सदारण रहती थी,आज सेक्स बम लग रही थी। दोनो डाइनिंग टेबल पर बैठ गए और च्याय पीने लगे। आज रमु भी सोनल का ये रूप देख कर उसे आंखे फाडे देख रहा था।
सोनल--- दादा क्या देख रहै है।
रामू झेंपते हुए--- कुछ नही बिटिया।
और खिसक गया वहा से। आरति को अच्छा नही लगा कि सोनल ने रामू काका से ऐसे बात की।
वैसे भी आरती का मूड ऑफ था पिछले तीन दिन से मनोज अंकल नही आ रहे थे। और न ही कुछ सूचना थी उनकी। उस दिन मॉल में उन्होंने कहा था कि वो आएंगे फिर भी नही आये।
Reply
08-27-2019, 01:27 PM,
#27
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
रात को डिनर के बाद आरती अपने कमरे में चली गयी।
लेकिन सोनल वही टीवी देखती रही। जब रामू काका आये तो उनको बोल दिया कि वो सोने जा सकते है, जब रवि आएंगे तो उनको खाना वो खुद दे देगी।
रामू बहुत हैरान हुआ कि आज पहली बार सोनल कैसे अपने पापा के लिए जगी है। लकीन कुछ कह नही सकता था तो वापिश चला गया अपने क्वाटर पर।
क्वाटर पर जया और मोनिका दोनो अपने आपने बिस्तर पर सोने जा चुकी थी।
रामु जब क्वाटर का डोर खोलता है तो दोनों उठ बैठती है, रामु सीधा जया के पास जाकर बिस्तर पर बैठ जाता है।
जया--- क्या हुआ जी आज कुछ परेशान से लग रहे हो।
रामू--- नही कुछ नही हुआ, तुम सो जाओ।
जया---- क्या बात है आजकल हमसे सीधे मुह बात भी नही करते हो जी।
रामू-- सो जाओ फालतू की बात में क्यो माथा पची करती हो।
रामु अपने बिस्तर पर लेट जाता है और सोचता है कि इन तीन चार दिनों में क्या क्या हो गया, कही सोनल का बदला रूप इसलिए तो नही उस दिन दिन में डोर पर सोनल ही थी। और अपनी मम्मी की चुदाई देख कर उसने अपना नेचर चेंज किया हो।
कही सोनल में भी चुदाई की आग लग गयी हो जैसे बहु रानी में लगी है मोनिका की चुदाई देख कर , क्या सोनल भी मुझसे चुद सकति है?
कहते है ना बंदर के हाथ अगर अदरक लग जाये तो वो पंसारी बन जाता है,
वही हाल रामू का हो रहा था। अब उसकी नजर सोनल पर थी।
रामु अपनी उदेडबुन में था कि जया काकी उनके लण्ड को मसलने लगती है, रामु झुंझला जाता है और उसका हाथ झटक देता है और काकी को डपट देता है, ऐसा नही था कि रामू काका शक्तिमान थे जो एक साथ तीन ओरतो को संतुष्ट कर सके। वो तो पहली बार उसको एक बड़े घर की महिला मिली थी तो बुढ़ापे में जवान हो गया था लेकिन दिन में आरति के साथ करने के बाद रात को जया या मोनिका को चोदने की इच्छा नही होती थी लेकिन मोनिका कोसिस जरूर करती थी अपनी माँ के सोने के बाद।
उसे डाउट होने लगा था कि जहाँ पहले उस्का बापू उसको मौका मिलते ही चोद देता था अब हाथ भी नही लगा रहा है।
रात को जया के सोते ही मोनिका अपने बापू पर टूट पड़ी। रामू न चाहते हुए भी मोनिका की चुदाई करता है।
उधर फिर रात के 10 बजे रवि ने घंटी बजाई तो सोनल दौड़ती हुई गयी और दरवाजा खोला. फिर रवि उसे देखकर थोड़े चकित हुए और सोनल को गले लगाकर उसके गालों पर किस करते हुए बोले कि बेटा आज तो बहुत स्मार्ट लग रही हो. अब सोनल को इतनी खुशी हुई थी कि वो पापा को फंसाने में धीरे-धीरे सफल होती जा रही थी.

अंदर आकर रवि ने कहा कि रामू काका को बोलो की एक कप चाय बना कर लाये तो सोनल खुद किचन में जाकर चाय बनाने लगी.
पहले अभी तक आरती जगी रहती थी लेकिन अब दिन में रामू से चुदने के बाद खाना खा कर जल्दी सो जाती थी, अब भी बेफिक्र सो रही थी इस बात से अनजान की एक नॉकर कि चुदाई के चक्कर मे जिस पति को वो भूल बैठी है अब उस पति को उसकी अपनी बेटी उससे बहुत दूर ले जाएगी। रवि कमरे में पहुचता है और आरति को सोते हुए पाता है। फिर रवि भी फ्रेश होकर नीचे आ गये। नीचे सोनल को किचन में च्याय बनाते देखता है तो रामु काका का पूछता हैं।
सोनल--- मैने उन्हें सोने भेज दिया है, अबसे मैं अपने पापा का ख्याल रखूंगी
और दोनो इधर उधर की बातें करने लगे थे, किचन में खड़े होकर। रवि को सुबह की बात याद आने लगती है,
और उसकी नजर सोनल पर पड़ती है, उसको सोनल की गोरी गोरी न्नगी टांगे दिखती है, थोड़ी देर में रवि सोनल की गोरी जांघो देखकर गर्म हो गये और सोनल के पीछे खड़े होकर अपना लंड उसकी गांड से सटाने की कोशिश करने लगे थे. तब सोनल भी अपनी गांड को उनके लंड पर रगड़ने लगी. अब सोनल को तो ऐसा लग रहा था कि जैसे वो जन्नत में है और बस ऐसे ही खड़ी रहै।
ख़ैर अब चाय बन चुकी थी और फिर उसने रवि से डाइनिंग रूम में जाकर बैठने को कहा और चाय वहाँ सर्व करके बाथरूम में जाकर फिर से उंगली करने लगी थी. फिर में झड़ने के बाद बाहर आई, तो तब तक आरती भी नीचे आ चुकी थी.

उसे मम्मी पर बहुत गुस्सा आया, क्योंकि सोनल को अपने पापा से अभी और मज़ा लेना था और मम्मी के सामने में कुछ नहीं कर सकती थी. अब रवि भी आरती के आने से थोड़े दुखी हो गये थे, क्योंकि आरती वैसे भी अब उससे दूर जा चुकी थी. अब रवि सोनल को देखकर बार-बार अपना लंड पजामे के ऊपर से ही सहला रहे थे और सोनल को भी उन्हें सताने में बहुत मज़ा मिल रहा था.
आरती---- सोनल बेटा, तुम क्यो जग रही हो, रामू काका है ना वो च्याय बना देते।
सोनल को गुस्सा आ रहा था, पहले तो आरती नीचे आकर उसके मंसूबो पर पानी फेर चुकी थी,और अब रामू काका का जिक्र कर रही थी।
सोनल(तंजिया अंदाज में)------ मम्मी, रामू काका बेचारे अब बुड्ढे हो गए है और अब वैसे भी ज्यादा काम नही कर सकते, और आप वैसे भी दिन भर उनसे काफी काम लेती है तो मैंने सोचा कि थक जाते होंगे इसलिए मैंने उन्हें आराम के लिए भेज दिया। वैसे भी पापा की नोकरो के भरोशे नही रहने दूँगी मैं, अब उनकी बेटी बड़ी हो गयी है क्यो पापा।
रवि-- हा क्यो नही बेटा
आरति सोनल की बात सुनकर झेप जाती है,जिस अंदाज में देखते हुए सोनल ने आरति को ये बात कही वो अंदर से कांप जाती है, उसको यही लग रहा कि जैसे सोनल कह रही है कि वो बुड्ढे को चुदाई करवाके थका देती है।
रवि फिर खाना खाता है और फिर तीनो सोने चले जाते है।
अगले दिन सब अपने अपने रूटीन से उठते है और सोनल स्कूल और रवि आफिस चले जाते है।
सोनल स्कूल में पहुचकर कुछ कमजोरी महसूस करती है और वापिश घर आ जाती है, स्कूल peon उसके लिए एक ओटो कर देते है। जब वो घर पहुचती है तो घर का डोर खुला मिलता है, वो अंदर जाकर रामू काका को आवाज देती है पानी के लिए।
लेकिन रामु नही आता है, वो उठकर किचन में देखती है लेकिन रामु नही मिलता वो दौड़कर आरती के रूम की तरफ जाती है लेकिन ये क्या आरती भी कमरे में नही थी वो पूरा घर देखती है दोनो कहि नही मिलते। वो दौड़कर गार्डन में क्वाटर की तरफ जाती है लेकिन वहा सिरफ़ जया काकी और मोनिका दिखती है, वो मयूश हो कर वापिश आ रही है तो उसको थर्ड फूलोर पर कुछ मूवमेंट दिखती है, थर्ड फ़्लोर पर भी एक सर्वेंट र्रोम था, वो फुर्ती से घर मे घुसती है और उप्पेर दौड़ती है, उप्पेर फ्लोर पर अपनी रफ्तार कम करती है और सर्वेंट रूम के पास पहुचती है, रूम का दरवाजा सिरफ़ दलका हुआ था क्लोज नही था, सोनल ने अंदर झांकर देखा तो आंखों के सामने रामू काका आरती को चूमते हुए जैसे ही ऊपर उठे तो फिर से आरती के होंठों को अपने होंठों से दबाकर चूमते रहे, और अपने कपड़ों से अपने को आजाद कर लिया वो आरती को कसकर पकड़े हुए उसके होंठों का रस पान करते जा रहे थे और अपने हाथों का दबाब भी उसके कंधे पर बढ़ाते जा रहे थे ताकि आरती नीचे की ओर बैठ जाए

आरती भी उनके इशारे को समझ कर धीरे से अपने घुटनों को पकड़ कर बैठी जा रही थी और अपने होंठों को रामू काका के होंठों से आजाद करते ही उसके गालों और गर्दन से होते हुए नीचे उनके सीना से होते हुए और भी नीचे ले गई और उनकी कमर के आते ही वो बैठने लगी पर रामू काका की तो कुछ और ही इच्छा थी उन्होंने कस कर आरती के सिर को अपने एक हाथ से पकड़ा और नीचे अपने लण्ड की ओर ले जाने लगा उसके हाथों में इतना जोर था कि आरती अपने सिर को नहीं छुड़ा पाई और दोनों हाथों से रामू काका की जाँघो का सहारा लेके ऊपर काका की ओर बड़ी ही दयनीय तरीके से एक बार देखा
पर रामू काका की आँखों में जो जंगली पन था उसे देखकर वो सिहर उठी, साथ ही उसकी दयनीय हालत को देखकर सोनल भी हैरान थी कि उसकी मम्मी एक नोकर के सामने इतनी मजबूर दिख रही थी।

आरती- नही प्लीज नहीं

रामू - चूस और अपने लण्ड को आरती के चेहरे पर घिसने लगे और अपनी पकड़ को और भी ज्यादा मजबूत कर लिया था
आरती को उबकाई आ रही थी, और सोनल को घिन। रामू काका के लण्ड के आस-पास बहुत गंद थी और बालों का अंबार लगा था पर वो अपने आप को छुड़ा नहीं पा रही थी अब तो रामू अपने लण्ड को उसके चेहरे पर भी घिसने लगे थे और वो इतना गरम था कि उसका सारा शरीर फिर से एक बार काम अग्नि में जलने लगा था तभी उसके कानों में रामू काका की आवाज टकराई और वो सुन्न हो गई

रामू- चूस इसे चूस (उनकी आवाज में एक गुस्सा था
और सोनल भी गुस्से से काँपने लगी

आरती- प्लीज़्ज़ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज नहीं
और अपना हाथ लेजाकर धीरे से उनके लण्ड को अपने कोमल हाथों से पकड़ लिया ताकि वो अपने लण्ड को उसके मुख में डालने से रुक जाए

आरती की हथेली में जैसे ही रामू का लण्ड आया वो थोड़ा सा रुके और अपनी कमर को आरती के हाथों में ही आगे पीछे करने लगे। आरती भी खुश और बहुत ही सलीके से उसने रामू के लण्ड को सहलाते हुए अपने चेहरे पर मलने लगी थी

रामू- चूस इसे अभी आआआआअह्ह

आरती- प्लीज़्ज़ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज काका आआआआअह्ह सस्स्स्स्स्स्स्स्स्शह ऐसे ही कर देती हूँ प्लीज़्ज़ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज
अपनी मम्मी को ऐसे गिड़गिड़ाते देख सोनल को बहुत ही गुस्सा आ रहा था लेकिन अभी वो आगे नही बढी थी,वो देखना चाह रही थी उसकी मम्मी कितना गिरती हैं। तभी फिर रामू की आवाज आई।

रामु- चूस ले थोड़ा बड़ा मजा आएगा कर्दे रण्डी,

आरती के कानों पर जैसे ही यह बात टकराई वो सुन्न हो गई थी तो क्या अब काका उसे रण्डी समझने लगे हैं।
आरती- उूुुुुुुउउम्म्म्ममममममममममम आआआआआआआअह्ह

धीरे से रामु ने अपने लण्ड को उसके होंठों पर रख दिया था और उसके नरम नरम होंठों के अंदर धकेलने लगता

रामू- चूस ले तुझे भी तो मजा आता है उसका तो बहुत मजे में चूसा था मेरा क्यों नहीं
और धीरे धीरे वो अपने लण्ड को आरती के मुख में आगे पीछे करने लगा था

आरती के जेहन में बहुत सी बातें चल रही थी पर उसका पूरा ध्यान अपने मुख में लिए हुए रामू काका के लण्ड पर था वो थोड़ा सा भी इधर-उधर ध्यान देती थी तो, रामू काका के धक्के से लण्ड उसके गले तक चला जाता था इसलिए वो बाकी चीजो को ध्यान हटाकर बस रामू काका के लण्ड पर ही अपना ध्यान देने लगी थी अब उसे वो इतना बुरा नहीं लग रहा था
उनका लण्ड थोड़ा मोटा था और बहुत ही गरम था आरती रामु काका के लण्ड को अपने गले तक जाने से रोकने के लिए कभी-कभी अपने जीब से भी उसे रोकती पर रामू काका उसपर और भी जोर लगाते।
अब आरती की बाँहे रामू काका के कमर के चारो ओर थी और सिर पर काका के हाथ थे जो कि आरती के सिर को आगे पीछे कर रहे थे पर जैसे ही रामू ने देखा कि अब उन्हें जोर नहीं लगाना पड़ रहा है तो वो थोड़ा सा अपने हाथ को ढीला छोड़ दिया और आरती के गालों से खेलने लगे थे ।
सोनल भी अब देख कर हैरान थी कि इतनी आसानी से उस्की मम्मी उस गनदे लण्ड को मुह में लेकर चूसने लगी है।

आरती को भी थोड़ी सी राहत मिली जैसे ही उसके सिर पर से काका का हाथ हटा वो भी थोड़ा सा रुकी

रामु- रुक मत बहू करती जा देख कितना मजा आरहा है

आरती भी फिर से अपने मुख को उनके लण्ड पर चलाने लगी और अब तो उसे भी मजा आने लगा था इतनी गरम और नाजुक सी चीज को वो अपने मुख के साथ-साथ अपने जीब से भी प्यार करने लगी थी और अब तो वो खुद ही अपने चेहरे को आगे पीछे करके ऊपर की ओर देखने लगी थी ताकि जो वो कर रही है उससे काका को मजा आ रहा है कि नहीं
पर काका तो बस आखें बंद किए मज़े में सिसकारियाँ ले रहे थे
रामू- आआह्ह बहू तेरे मुँह का जबाब नहीं कितनी अच्छी है तू
Reply
08-27-2019, 01:27 PM,
#28
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
आरती को तो जैसे सुध बुध ही नहीं थी वो अपने को पूरी तरह से काका के लण्ड पर झुकाए हुई थी और अब तो खूब तेजी से उनके लण्ड को चूस रही थी आचनक ही उसे लगा कि रामू काका की पकड़ उसके माथे पर जोर से होने लगी है वो अपने सिर को किसी तरह से उसके लण्ड से हटाने की कोशिश करने लगी पर उनकी पकड़ इतनी मजबूत थी कि वो अपना सिर नहीं हटा पाई और रामु काका के लण्ड से एक पिचकारी ने निकलकर उसके गले तक भर दिया

वो खाँसते हुए अपने मुख को खोलदिया और ढेर सारा वीर्य उसके मुख से बाहर की ओर गिरने लगा रामु काका अब भी उसके सिर को पकड़े उसके मुख में आगे पीछे हो रहे थे पर आरती तो जैसे मरी हुई किसी चीज की तरह से रामू काका से अपने आपको छुड़ाने की कोशिश करती रही जब रामू पूरा झड गया तो उसकी पकड़ ढीली हुई तो आरती धम्म से पीछे गिर पड़ी और खाँसते हुए अपने मुख में आए वीर्य को वही जमीन पर थूकने लगी रामू काका खड़े हुए आरती की ओर ही देख रहे थे और अपने लण्ड को हिला-हिलाकर अपने वीर्य को जमीन पर गिरा रहे थे


अचानक ही वो अपनी धोती ले के आए और आरती के चेहरे को पकड़कर अपनी ओर मोड़ा और उसका मुँह पोछने लगे
आरती की नजर में डर था वो भीमा चाचा की ओर देखती रही पर कुछ ना कह सकी

जैसे ही रामू ने उसका मुख पोंछा तो पास के टेबल से एक गंदी सी बोतल उठा लाया
रामू- ले थोड़ा पानी पीले

आरती ने उस गंदी सी बोतल की ओर देखा पर कह ना पाई कुछ और बोतल से पानी पीने लगी।
तभी सोनल तालिया बजाते हुए कमरे में अंदर दाखिल होती है
सोनल--- वाह मम्मी वाह क्या बात है क्या खूब काम कर रही हो।
आरति सोनल को देख कर सून हो जाती है, उसको कुछ कहते नही बन रहा था, रामू काका बगल में न्नगे खड़े थे, अपने दोनों हाथों से अपना लण्ड छुपके खड़ा था। उसने नजर झुका ली और हल्का हल्का कंम्पकम्पा रहा था।
आरती--- सोनलल्लल मेरी बात सुन बेटा, वो में तुम्हे समझाती हु।
मम्मी , तुम दो कौड़ी की रंडी बन गयी… मेरी माँ ऐसी होगी सात जन्म में भी सोच भी नही सकती थी… तू तो वो छीनाल निकली है, जिसने ना जाने कितनी ज़िंदगियाँ बरबाद की हैं… अपने पति की, उसके पूरे परिवार की, मेरी, … चुड़ेल,
फिर आरती सोनल के पैर पकड़ कर, कहने लगी – मुझे माफ़ कर दो… प्लीज़, मुझे माफ कर दो बेटी,
सोनल---- माफ कर दु मैं कौन होती हू माफ तो अब पापा करेंगे। क्यों मम्मी यहाँ चकला चला रही है क्या मेरा बाप तुझे कम पड़ रहा है, तूम मुझे ज्ञान दे रही थी देर से घर आने का। रुक आने दे पापा को तेरी असलियत बताती हूँ, कि तूम यहाँ नंगा नाच कर रही है ?
आरती--- नही बेटा मेरी बात तो सुन एक बार, देख गलती हो गयी मुझसे।
सोनल--- गलती इसे गलती कहती हो तुम, अपने बाप की उम्र के इंसान, वो भी एक नॉकर और ये घिनोना काम, छि अपने मुह में , मुझे उलटी आ रही है सोचक्र भी।
आरति सुबकते हुए रामू काका को देखती है, तभी सोनल एक दम से वहा से निकल कर नीचे दौड़ लगाती है, आरती उसे भागती देख समझ जाती है कि ये नीचे जाकर फ़ोन करेगी रवि को, वो भी अपने कपड़े समेटते हुए नीचे जाती है और पीछे पीछे रामु काका।
नीचे सोनल सोफे पे बैठी tv देख रही थी। आरती नीचे आकर देखती है तो उसके पास पहुचती है,
सोनल उसकी तरफ देखती भी नही है,
तभी सोनल रामु को आवाज देती है,
रामू कहा है बोल उसको चाय बनाये एक कप,
आजतक सोनल ने रामू काका को दादा के बिना नही बोली थी आज पहली बार उसने डायरेक्ट रामु कहा था।
आरती--- सोनल ऐसे कैसे बोल रही है , बस यही तमीज रह गयी है,
सोनल--- आप तो तमीज की बात करो ही मत, और क्या बोल दिया मैने आजतक इतना सम्मान दिया इस बुड्ढे को तो कोनसा इसने महानता दिखा दी। ये नोकर है और नॉकर ही रहेगा। मेरी मम्मी को चोद कर मेरा बाप नही बन गया है।
आरति चीखते हुए---- सोनलल्ललल्लल..........
सोनल---- मिर्ची लग गयी मम्मी, सच सुनकर, मम्मी सोच ये अभी तक इस घर मे है मैंने इसको धक्के मारकर नही निकाला , ये ही बहुत है, औऱ अब से मुझे धमकाने की कोसिस भी मत करना , अब से अगर मुझे कुछ समझाने या कहने की कोशिस भी की तो ये बुडडा ही नही तुम भी इस घर से बाहर जाने की तैयारी कर लेना, पापा के साथ साथ नाना और मामा को भी जवाब देने को रेडी रहना।
आरति अपने बाप और भाई का नाम सुनते ही सहम गयी। जिस्म की भूख इतनी जल्दी उसे यहा तक ले आएगी, अभी भी आरति ये नही सोच रही थी कि उसने गलत किया वो ये सोच रही थी कि उसने बहुत कम समय मे ही बिना ध्यान रखे सेक्स करती रही। आगे ध्यान रखेगी बस अभी एक बार सोनल को मनाना है,
उधर सोनल मन मे सोच लेती है कि वो अपनी मम्मी को सजा देगी अपने हिसाब से , वो दिखाएगी की रवि को खोकर आरती ने कितनी बड़ी गलती की है, रामू उसे चुदाई से खुश कर सकता है लेकिन उसकी दूसरी जरूरते नही, सेक्स कम हो चल जाता है लेकिन जिंगदी की दूसरी जरूरते पूरी होनी ही चाहिए, सोनल को ये दुख नही था कि उसकी मम्मी ने सेक्स किया, उसे दुख सिर्फ इतना था कि उसकी मम्मी ने अपने स्टेटस को ध्यान में नही रखा, एक बुड्ढे नोकर के साथ और आज तो उसने अपने जीवन का सबसे घृणित काम भी देख लिया। उसका मन अभी भी सोचक्र उल्टी का हो रहा था, अभी तक सोनल ने ठीक से सिर्फ अपने सर का लण्ड देखा था जोकि साफ सुथरा था जिसको देखकर खुद मुह में लेने का मन कर जाए लेकिन यहा उसने एक बुड्ढे नॉकर का लण्ड बदबूदार गनदे बालो से भरे लन्ड को आपनि मम्मी को चूसते हुए देखा था और फिर लण्ड का पानी अपने मुह में लेते हुए, जो लड़की कभी भी सेक्स की abc नही जानती हो और वो डायरेक्ट ये सब देख ले तो उसकी मन के हालात क्या होंगे सोच सकते है।
सोनल ने सर झटक कर उन खयालो से बाहर निकली और
चाय बनी की नही, रामू या अभी भी कुछ रहा गया है,, सोनल ने आवाज लगाई।
रामू---- जी बिटिया जी अभी लाया बस तैयार है।
आरती का खून खोल रहा था लेकिन कर कुछ नही सकती थी।,
रामू काका चाय ले आये और टेबल पर रख कर जाने लगे, बाकी दिनों चाय या खाना घर मे खुद या आरती ही सर्व करती थी,
लेकिन आज सोनल कुछ ओर मूड में थी,
चाय डालने के लिए कोई ओर नोकर रखु क्या,
सोनल की आवाज सुनते ही रामू काका और आरती दोनो सकपका गए।
रामु समझ गया कि उसे बहु की चुदाई के बदले अब सोनल की जिल्लत सहनि होगी और कुछ कह भी नही सकता।
रामू काका वापिश आकर च्याय कप में डाल कर सोनल को पकड़ा दी।
सोनल ने चाय पीकर अपने पापा को फ़ोन कर दिया कि आज उसकी तबियत ठीक नही है और वो आज स्कूल से जल्दी घर आ गयी है,
वैसे तो रवि अपने काम को छोड़ कर कभी नही आता है लेकिन एक दो दिन से सोनल जो जलवे उसको दिखा रही थी, उसमे उसको कुँवारी चुत की खुसबु आ रही थी तो रवि 20 मिनट बाद ही घर आ पहुँचा था।
रवि-- क्या हुआ मेरी गुड़िया को,
आरती जैसे ही रवि को देखती है वो आश्चर्य चकित रह जाती है और साथ ही घबरा भी जाति है कि कही सोनल कुछ बता न दे।
आश्चर्य चकित इसलिए कि आजतक रवि कभी उसके बुलाने पर भी घर नही आया था और आज बिन बुलाए आ गया।
सोनल और रवि इधर उधर की बातों में लग जाते है और आरती रामू को खाना लगाने को बोलती है।
Reply
08-27-2019, 01:27 PM,
#29
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
खाना खाने के बाद सोनल रवि को बाहर घूमने को बोलती है। रवि सोनल को लेकर घर के बाहर आ गया। फिर बाहर आकर उनका मूड चेंज हुआ और रवि सोनल से बोले कि चल बेटा पिक्चर देखने चलते है.

तब सोनल को रवि पर इतना प्यार आया कि पापा मेरे साथ अकेला रहने की कितनी कोशिश कर रहे है? खैर फिर दोनो कार में पर होकर एक सिनिमा में पहुँच गये और रास्ते में ही आरती को फोन कर दिया कि हम पिक्चर देखने जा रहे है. जब सिनिमा में कोई पुरानी मूवी लगी होने की वजह से ज़्यादा भीड़ नहीं थी, पूरे हॉल में लगभग 30-40 लोग ही होंगे.

अब सोनल रवि की समझदारी पर बहुत खुशी हुई थी, वो चाहते तो सोनल को किसी बढ़िया पिक्चर दिखाने ले जाते, लेकिन उन्हें शायद कुछ ज़्यादा मज़े लेने थे. फिर उन्होने सबसे महेंगे टिकट लिए और फिर दोनो लोग बालकनी में जाकर बैठ गये. उनका नसीब इतना बढ़िया चल रहा था की बालकनी में सिर्फ़ दोनो के अलावा सिर्फ़ एक ही लड़का था, जिसकी उम्र लगभग 18 साल थी और वो भी आगे की सीट पर बैठ गया था. अब तो दोनों को और भी आराम हो गया था.

पिक्चर चालू हुई, लेकिन पिक्चर पर तो किसका ध्यान था? अब सोनल का दिमाग तो उसके पापा के लंड की तरफ था और रवि भी तिरछी नजर से उसकी छोटी-छोटी चूचीयों की तरफ देख रहे थे. अब बस शुरुआत करने की देर थी कि कौन करे? अब सोनल तो पापा का स्पर्श पाने के लिए वैसे ही मरी जा रही थी और फिर उसी वक़्त जैसे बिल्ली के भागों छिका टूटा हो, सोनल के पैर पर किसी जानवर ने काटा हो, में उउउइई करती हुई खड़ी हो गयी.

फिर तब रवि ने घबराते हुए पूछा कि क्या हुआ? तो तब सोनल ने बताया कि उसके पैर पर किसी कीड़े ने काटा है. तो तब रवि बोले कि बैठ जा और अब काटे तो तुम मेरी सीट पर आ जाना. तो सोनल बैठ गयी और फिर 5 मिनट के बाद फिर से उछलती हुई खड़ी हो गयी, लेकिन इस बार उसे किसी ने काटा नहीं था बल्कि वो जानबूझकर खड़ी हुई थी. खैर फिर रवि हंसते हुए बोले कि तू मेरी सीट पर आ जा.

तब सोनल बोली कि पापा कोई बात नहीं जैसे उस कीड़े ने मुझे काटा है, ऐसे ही आपको भी काट लेगा. तो तब रवि बोले कि तू एक काम कर मेरी गोद में बैठ जा. अब सोनल तो पहले से ही तैयार थी तो रवि के बोलते ही में उनकी गोद में बैठ गयी और पर्दे की तरफ देखने लगी थी. अब सोनल उनकी गोद में बैठी हुई बिल्कुल छोटी सी लग रही थी, उस्की उम्र उस वक़्त 18 साल ही तो थी.

अब रवि उसकी गर्मी पाकर गर्म होने लगे थे. अब उसका लंड फिर से खड़ा होने लगा था. अब सोनल को भी उनके लंड पर बैठना बहुत अच्छा लग रहा था, वैसे तो उनकी नजर पर्दे की तरफ थी, लेकिन ध्यान सिर्फ़ अपनी-अपनी टाँगो के बीच में था. अब सोनल का बदन तो जैसे किसी भट्टी की तरह तप रहा था. अब सोनल की स्कर्ट में उसकी चड्डी बिल्कुल गीली हो रही थी.

रवि का लंड ठीक उसकी गांड के छेद पर था और रवि धीरे-धीरे सोनल का पेट सहला रहे थे. अब सोनल का मन कर रहा था कि उसके पापा अपना लंड ज़ोर-ज़ोर से उसकी चूत पर रगड़ दे, लेकिन ऐसा नहीं हो सकता था, क्योंकि वो दोनों ही एक दूसरे से शर्मा रहे थे.

कुछ देर तक ऐसे ही बैठे रहने के बाद सोनल अपने हाथ में पानी की बोतल थी वो नीचे गिरा दी और फिर उसको उठाने के लिए झुकी तो अपने पापा का लंड बहाने से अपनी चूत पर सेट किया और फिर सीधी बैठकर मज़े लेने लगी. अब 1 घंटा 30 मिनट निकल गये थे और उन्हें पता ही नहीं चला कि कब इंटरवेल हुआ?

फिर रवि सोनल को पैसे देते हुए बोले कि कैंटीन से जाकर कुछ ले आओ तो सोनल बाहर गयी और कैंटीन से कुछ खाने की चीज़े खरीदी और फिर टॉयलेट में चली गयी और फिर जब तक वापस आई तो पिक्चर चालू हो चुकी थी.

सोनल रवि की गोद में बैठते हुए कहा कि पापा मुझे आपकी गोद में बैठने में ज़्यादा मज़ा आ रहा है. फिर तब रवि बोले कि तो फिर 1 मिनट रुक और बैठे हुए ही अपने लंड को सेट करने लगे थे.
सोनल को अंधेरे में कुछ नहीं दिख रहा था और फिर जब रवि ने उसे बैठने को कहा, तो उन्होंने अपना हाथ कुछ इस तरह से उसकी स्कर्ट पर लगाया कि उसकी स्कर्ट ऊपर हो गयी और सोनल उनकी गोद में फिर से बैठ गयी. फिर थोड़ी देर के बाद सोनल को अहसास हुआ कि रवि ने अपना लंड अपनी पेंट में से बाहर निकाल रखा है और इस अहसास के साथ ही जैसे उसके बदन ने एक तगड़ा झटका लिया और अब सोनल का भी मन अपनी चड्डी उतारकर पापा का लंड अपनी चूत से चिपकाने का करने लगा था.

फिर उसके लिए उसने फिर से एक प्लान बनाया और उसके हाथ में कोल्डड्रिंक का जो गिलास था, उसे अपनी जांघों पर उल्टा दिया तो सारी कोल्डड्रिंक उसके पैरो और चड्डी पर गिर गयी, तो तब रवि चौंकते हुए बोले कि यह क्या किया?

तब सोनल ने कहा कि सॉरी पापा गलती से हो गया, मैं तो पूरी गीली हो गयी और मेरे कपड़े भी गीले हो गये. तो तब कपड़ो का मतलब समझते हुए रवि बोले कि जा और टॉयलेट में जाकर साफ कर आ और कपड़े ज़्यादा गीले हो तो उतारकर आ जाना, जल्दी सूख जाएँगे. अब सोनल का मन रवि को छोड़ने का नहीँ था, तो सोनल ने वहीं खड़े होकर अपनी चड्डी उतारी और दूसरी सीट पर रखी और फिर से अपने पापा के लंड पर बैठकर पापा के लंड को अपनी दोनों टाँगों के बीच में ले लिया.

अब उनका लंड बिल्कुल उसकी चूत पर था. अब उसे ऐसा लग रहा था कि जैसे कोई गर्म लोहे की रोड उसकी जांघों में दबी पड़ी है. अब तो उसका मन कर रहा था कि जल्दी से रवि अपना लंड उसकी चूत में डालकर ज़ोर से रगड़ दे, लेकिन अभी दोनो ऐसा नहीं कर सकते थे.

अब सोनल की बारी थी. फिर सोनल का मन अपनी चूत को उनके लंड पर रगड़ने का हुआ तो तब सोनल अपनी चड्डी उठाने के लिए झुकी और ज़ोर से अपनी चूत आपने पापा के लंड पर रगड़ दी और फिर ऐसे ही 3-4 बार ज़ोर से रगड़ी, तो तब उसे ऐसा लगा कि जैसे उसका पानी निकल जाएगा. अब वो कभी किस बहाने से तो कभी किस बहाने से हिलती और अपनी चूत अपने पापा के लंड पर रगड़ देती थी. अब रवि समझ गया था कि सोनल का मन रगड़ने का हो रहा है.

तब रवि ने उसके पेट पर अपना एक हाथ रखकर दबाया और अपना जूता खोलने के बहाने से कभी खुजाने के बहाने से अपना लंड रगड़ने लगे थे. फिर कुछ ही देर में सोनल को लगा कि जैसे उसके जिस्म में से सारा खून फटकर उसकी चूत में से निकलने वाला है और फिर इसी के साथ उसका पानी झड़ गया. अब सोनल बिल्कुल ठंडी हो चुकी थी, लेकिन रवि ने 2-3 बार और अपना लंड रगड़ा और फिर रवि भी जैसे अकड़ सा गया और उनका भी पानी निकलकर सोनल की चूत और उसके पेट पर फैल गया.

अब दोनों बिल्कुल शांत थे और बहुत थक गये थे. फिर 5 मिनट के बाद ही पिक्चर ख़त्म हो गयी और लाईट जलती इससे पहले ही सोनल ने अपनी चड्डी यह कहते हुए पहन ली कि अब वो सूख चुकी है. अब दोनों पिक्चर ख़त्म हो चुकी थी एक जो पर्दे पर चल रही थी और एक जो बाप बेटी के बीच में चल रही थी. फिर थोड़ी देर के बाद लाईट जली और फिर दोनों हॉल से बाहर निकले.

बाहर आकर रवि मुस्कुराते हुए बोले कि पिक्चर कैसी लगी? तो तब सोनल ने जवाब दिया कि इससे बढ़िया पिक्चर मैंने आज तक नहीं देखी, तो तब रवि बोले कि मेरे साथ घूमा करेगी तो और भी बढ़िया चीज़े देखने को मिलेंगी और फिर सोनल मस्कुराती हुई गाड़ी में बैठ गयी और फिर दोनो घर की तरफ चल पड़े.
Reply
08-27-2019, 01:27 PM,
#30
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
सोनल और रवि दोनो घर पहुच गए हंसी मजाक करते हुए, जैसे दो नए प्रेमी जोडा करता है।
घर मे आरती डाइनिंग रूम में ही बैठी थी, जैसे ही दोनो वहा पहुचे तो आरति ने नाराजगी जाहिर करते हुए तो बोली---- मुझे तो नही लेकर जाते सिनेमा,
रवि जवाब दे उससे पहले सोनल बोल पड़ती है,
अरे मम्मी आप दिन में रामू काका के साथ कुछ प्लान कर रही थी न ऊप्पर।
अब आरती तो काटो तो खून नही की हालत में थी।
रवि--- अरे रामू काका के साथ क्या प्लानिंग कर रही थी।
आरती--वो मैं मैंमममममम।
सोनल--- रामू काका को कह रही थी कि ये दोनों आम का आचार डालेंगे। इएलिये मैने सोचा कि मम्मी नही जाएगी।
सोनल ने बात बदल दी तो आरती की सांस में सांस आयी।
अब ऐसे ही तीनो बात करते रहे और सोनल बीच बीच मे आरती को बातो में उलझा देती और खुद ही निकाल देती। दोनो में चूहे बिल्ली का खेल चल रहा था। रात को डिनर का समय हो गया आरति का मूड ही नही था लेकिन फिर भी खाने की टेबल पर बैठ गयी।
खाना खाने के बाद कामया का मूड ही नहीं था पर रवि को कोई फरक नहीं पड़ता था वो तो खाना खाने के बाद उठा और चला गया और सोनल भी और रह गई आकेली आरती वो अब भी डाइनिंग टेबल पर बैठी हुई अपने बारे में और रवि के बारे ही सोच रही थी कि उसे पदचाप की आवाज सुनाई दी उसने मुड़कर देखा रामू काका थे वो टेबल पर पड़े हुए झूठे बर्तन उठाने को आ रहे थे

वो एक बार रामू काका की ओर देखकर हल्का सा मुस्करायी और उठकर अपने हाथ धोने को सिंक पर चली गई
उसके दिमाग में अब भी बहुत कुछ चल रहा था और गुस्सा भी बहुत आ रहा था न जाने क्या सोचते हुए आरती सीढ़िया चढ़ती जा रही थी, पीछे उसे रामू काका के काम करने की आवाजें भी आ रही थी अचानक ही वो रुकी और पलटकर रामू काका की ओर देखते हुए
आरती- काका जल्दी सो जाते है आप

रामू- जी ?

आरती- जी कुछ नहीं बस आज उप्पेर सोना कमरे में ।

और अपने होंठों पर हँसी को दबाती हुई जल्दी से सीढ़िया चढ़ती हुई अपने कमरे में पहुँच गई

कमरे में रवि बिस्तर पर लेट चुका था शायद सो भी चुका था आरती बाथरूम की ओर अपने कपड़े चेंज करने को जाने लगी थी उसके हाथों में एक गाउन था जो कि रवि को बहुत पसंद था दो स्टीप से ही टंगा रहता था वो गाउन उसके कंधे पर और ए-लाइन टाइप की थी उसके ऊपर बहुत सुंदर और कसा हुआ सा लगता था
जब वो बाथरूम से बाहर आते ही सबसे पहले

आरती- क्यों सो गये क्या

रवि- हाँ… क्यों

आरती- इतनी जल्दी सो जाते हो बातें करनी है

रवि- अरे बहुत थका हुआ हूँ कल सुबह बातें करेंगे

आरती- उठिए ना प्लीज

रवि-- हाँ हाँ… करता हुआ पलटकर सो गया पर आरती तो गुस्से में थी दिन में सोनल ने बीच मे ही उनको रोक दिया था वो आज रवि को कहाँ छोड़ने वाली थी वो लपक कर बेड पर चढ़ि और रवि से सट कर लेट गई और अपने हाथों को उसकी बाहों पर चलाते हुए
आरती- प्लीज ना ,सोइए मत आपसे तो बातें ही नहीं हो पाती

रवि थोड़ा सा पलटकर आरती को अपनी बाहों में भिचता हुआ
रवि- क्या बातें करनी है
और अपने हाथों को आरती की चूचियां पर रखता हुआ उन्हें छेड़ने लगा था

रवि के हाथों में अपनी चूचियां के आते ही आरती के मुख से एक लंबी सी आह निकली और वो रवि से और भी सट गई थी रवि के छूते ही वो अपने आप पर काबू नहीं रख पाती थी यह बात उसे पता थी वो रवि के चेहरे को अपने होंठों से चूमती जा रही थी और उसे और भी उत्तेजित करने की कोशिश करती जा रही थी

रवि तो बेसूध सिर्फ़ आरती के कहने पर ही पलटा था और एक दो बार उसकी चुचियों को दबाने के बाद फिर से नींद के आगोश में चला गया था उसे आरती को अपने चेहरे को चूमते हुए देखना और भी अच्छा लग रहा था पर उसकी थकान उसपर ज्यादा हावी थी

पर आरती तो अपनी उत्तेजना कोठंडा करना चाहती थी वो रवि के लगभग ऊपर चढ़ि जा रही थी और उसे और भी उकसा रही थी पर रवि के ठंडे पन ने उसे एकदम से निराश कर दिया और वो अपने होंठों को उसके चेहरे पर से आजाद करते हुए रवी को एकटक देखती जा रही थी पर रवि तो कही का कही पहुँच गया था

आरती ने गुस्से में आके एक धक्का रवि को दिया और पलटकर सो गई

धक्के से रवि फिर से जागा और आरती की कमर को खींचकर अपने से भिच लिया और फिर से अपने दोनों हाथों को उसके गोल गोल चुचियों पर रखते हुए फिर से नींद के आगोश में चला गया

आरती को नींद कहाँ उसकी चूचियां अब भी रवि की दोनों हथेली में थी और वो आरती को अपने से चिपका कर सो गया था उसके कंधों पर रवि की सांसें पड़ रही थी जो कि लगभग बिल्कुल समान्तर थी वो सो चुके थे गहरी नींद उनके शरीर की गर्मी वो महसूस करसकती थी जो कि उस पतले से गाउनको भेदती हुई उसके शरीर के अंदर तक जा रही थी
आरती फिर सेक्स की भूख की भेट चढ़ती जा रही थी वो अपने को उस आग में जलने से नहीं बचा पा रही थी उसका शरीर अब रवि की बाहों में ही कस मसाने लगा था वो ना चाहते हुए भी रवि के सीने से सटी जा रही थी और अपनी कमर को जितना पीछे ले सके ले जा रही थी पर रवि पर कोई भी असर होते हुए वो नहीं देख रही थी

वो अब भी सो रहा था और आरती के कसमसाने के साथ ही उसकी पकड़ आरती पर से ढीली पड़ने लगी थी वो भी अब चित लेट गया था और थोड़ी देर बाद दूसरी ओर पलट गया था आरती भी चित लेटी हुई थी और सीलिंग की ओर देखती हुई सोच रही थी

आखिर क्यों रवि उसे अवाय्ड कर रहा है अगर वो उसे अवाय्ड ना करे तो और अगर पहले जैसा ही रोज प्यार करे तो कितना मजा है जीने में कितना अच्छा और कितना प्यारा है उसका पति कही से कोई कमी नहीं है रुपया पैसा हो या शानो शौकत हो या फिर दिखने में हो या फिर स्टाइल में हो सब में अच्छा है वो पर क्यों नहीं उसे समझ में आता की आरती को क्या चाहिए

क्यों नहीं रोज उसपर टूट पड़ता वो चाहे सुबह हो या शाम हो या दिन हो या रात हो वो तो कभी भी रवि को सेक्स के लिए मना नही किया था और रवि को भी तो कितना इंटेरेस्ट था लेकिन अब अचानक क्या हो गया क्यों वो रुपये पैसे के चक्कर में पड़ गया और उसे भूल सा गया क्या रुपया पैसा ही उसके जीवन का उद्देश् है और क्या आरती कुछ भी नहीं
पर कभी-कभी तो वो उसके लिए क्या नहीं करता और तो और उसके नाम से जमीन और साइन प्लेक्ष भी बनवा रहा था और उसे पता भी नहीं दूसरे कोई होते तो शायद अपनी दादी या फिर मम्मी या फिर बेटी या फिर कोई देवी देवता के नाम से पर यहां तो मामला ही उल्टा था ना उसे किसी ने बताया ना ही उसे बताने की ही जरूरत समझी और नाम करण भी हो जाता और कोई एहसान भी नहीं जताया किसी ने

क्या यार सबकुछ तो ठीक ठाक है पर रवि ऐसा क्यों हो गया वो क्यों नहीं उसे छेड़ता या फिर उसे प्यार करता वो तो रोज उसका इंतजार करती है उसे भी तो किसी चीज की जरूरत होती है बाजार में मिलने वाली चीजो से तो कोई भी अपना मन भर ले पर जो चीज घर की है वो ही उसे नजर अंदाज करती जा रही है यह तो गलत है पर क्या करे आरती क्या वो रोज रवि से झगड़ा करे या फिर उसे उकसाए या फिर सब कुछ छोड़दे

या फिर जो कर रही है वो ठीक है क्यों अपने पति को उस चीज के लिए जिसके लिए उसके पास टाइम नहीं है क्यों वो उस चीज का इंतजार करे जिस चीज का उसके पास आने का समय वो बाँध नहीं सकती या फिर क्यों वो उस गाड़ी की सवारी करे जो गाड़ी उसके इशारे पर नहीं चले

नहीं बाकी सब तो ठीक है वो जेसे चल रही है वो ही ठीक है उससे उसे भी परेशानी नहीं और नहीं रवि को और नहीं घर में किसी को किसी की भी टाइम को खोटी नहीं करना पड़ेगा और नहीं ही किसी को किसी की चिंता ही करनी पड़ेगी हाँ अब वो वही करेगी जो वो चाहती है और क्या सभी तो इस घर में वैसा ही कर रहे है कोई बंदिश नहीं और नहीं कोई चिंता

क्यों वो आख़िर कार सभी की तरफ देखती रहती है कि कोई उसकी सुने या फिर कोई उसकी इच्छा के अनुसार चले चाहे वो उसका पति हो या फिर सोनल।

वो एकदम से उठ गई बिस्तर से और घूमकर रवि की ओर देखा जो कि गहरी नींद में था और उसकी सांसों को देखकर लगता था कि बहूत थी गहरी नींद में था आरती बेड से उतरी और सेंडल पैर में पहनते हुए धीरे से मिरर के सामने खड़ी हो गई कोई आहट नहीं की उसने और नहीं कोई फिक्र नहीं कोई सोच थी उसके मन में थी तो बस एक ही इच्छा उसके शरीर की उसके अंदर जो आग लगी हुई थी उसे बुझाने की

अपने को मिरर में देखते ही आरती के शरीर में एक फूरफुरी सी दौड़ गई और एक मुश्कान उसके होंठों में वो जानती थी रामु काका उसके इस शरीर के साथ क्या करेंगे वो चाहती भी थी कि उसके इस शरीर के साथ कोई खेले और खूब खेले प्यार करे और उसके पूरे जिस्म को चाटे चूमे और अपनी मजबूत हथेलियो से रगडे और खूब प्यार करे वो खड़ी-खड़ी मिरर में अपने को देखती रही और धीरे से मुस्कुराती हुई अपने कंधे पर से एक स्ट्रॅप को थोड़ा सा नीचे खिसका दिया और मुस्कुराती हुई मूडी और धीरे-धीरे कमरे के बाहर जाने लगी

आरती जब, अपने कमरे से बाहर निकली तो पूरा घर बिल्कुल शांत था और कही भी कोई आवाज नहीं थी वो थोड़ी देर रुकी और अंदर की ओर देखा रवि चुपचाप सोया हुआ था आरती ने धीरे से डोर बंद किया और सीढ़ियो पर से ऊपर चढ़ने लगी वो एक बार फिर से रामु काका के कमरे में जा रही थी। अब खुद से जा रही थी, दिन में तो काका उसे उठा ले गये थे पर अब वो खुद ही जा रही थी उसके पैर काप रहे थे पर अंदर की इच्छा को वो रोक नहीं पा रही थी वो धीरे-धीरे चलते हुए पूरे घर को देखते हुए और हर पद चाप के साथ अपने को संभालती हुई वो रामू काका के कमरे के सामने पहुँच गई थी इस बात से अनजान की दो जोड़ी कदम और उसके पिछे वहा तक पहुच गए है,

अंदर बिल्कुल शांत था शायद काका भी सो गये थे पर अंदर एक डिम लाइट जल रही थी और उसकी रोशनी बाहर डोर के गप से आ रही थी

आरती ने डरते हुए धीरे से डोर को धकेला जो कि खुला हुआ था शायद रामू को कोई दिक्कत नहीं थी तो डोर बंद क्यों करे इसलिए वो खुला रखकर ही सोता था सो डोर को धकेलने से वो थोड़ा सा खुला अंदर रामू काका नीचे बिस्तर पर सोए हुए थे और एक हाथ उनके अपने माथे के ऊपर था पूरा शरीर नंगा था और कमर से नीचे तक एक चदडार से ढँका हुआ था आरती ने दरवाजे को थोड़ा सा और खोला तो डोर धीरे से खुल गया अंदर की डिम लाइट बाहर कारिडोर में फेल गई आरती ने अपने कदम आगे बढ़ाया और अंदर काका के कमरे में घुस गई

कमरे में घुसते ही उसने रामू काका के शरीर में एक हल्की सी हलचल देखी वो वही रुक गई और डिम लाइट में काका की ओर देखने लगी
रामू- दरवाजा बंद कर्दे बहू
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Desi Sex Kahani दिल दोस्ती और दारू sexstories 156 70,041 09-21-2019, 10:04 PM
Last Post: girish1994
Star Hindi Porn Kahani पडोसन की मोहब्बत sexstories 52 32,659 09-20-2019, 02:05 PM
Last Post: sexstories
Exclamation Desi Porn Kahani अनोखा सफर sexstories 18 10,209 09-20-2019, 01:54 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna kahani नजर का खोट sexstories 119 268,750 09-18-2019, 08:21 PM
Last Post: yoursalok
Thumbs Up Hindi Sex Kahaniya अनौखी दुनियाँ चूत लंड की sexstories 80 101,745 09-14-2019, 03:03 PM
Last Post: sexstories
Star Bollywood Sex बॉलीवुड की मस्त सेक्सी कहानियाँ sexstories 21 26,889 09-11-2019, 01:24 PM
Last Post: sexstories
Star Hindi Adult Kahani कामाग्नि sexstories 84 78,290 09-08-2019, 02:12 PM
Last Post: sexstories
  चूतो का समुंदर sexstories 660 1,180,486 09-08-2019, 03:38 AM
Last Post: Rahul0
Thumbs Up vasna story अंजाने में बहन ने ही चुदवाया पूरा परिवार sexstories 144 229,129 09-06-2019, 09:48 PM
Last Post: Mr.X796
Lightbulb Chudai Kahani मेरी कमसिन जवानी की आग sexstories 88 51,780 09-05-2019, 02:28 PM
Last Post: sexstories

Forum Jump:


Users browsing this thread: 5 Guest(s)