Kamukta Story परिवार की लाड़ली
04-20-2019, 02:30 PM,
#91
RE: Kamukta Story परिवार की लाड़ली
और फिर मयूरी ने अपनी माँ और अपने बीच हुई चुदाई से लेकर उनके दोनों बेटों से चुदाई की पूरी दास्ताँ सुना दी. पूरी बात सुनने में अशोक शुरू में तो थोड़ा अजीब लगा फिर मजा आने लगा… फिर भी उसको विश्वास नहीं हुआ और उसने पूछा- मुझे तुम्हारी इन बातों पर यकीन नहीं हो रहा.
मयूरी- अच्छा… अगर आपको आपकी बीवी को आपके बेटों से चुदवाते हुए दिखा दूँ तो? तो कर लोगे यकीन?
अशोक- हाँ…
मयूरी- ठीक है.. चलो फिर?
अशोक- कहाँ?
मयूरी- बाहर… वो अभी भी चुदाई कर रहे हैं.
अशोक- मतलब?
मयूरी- पापा? आपको क्या लगता है हम बाप-बेटी यहाँ आराम से चुदाई करेंगे और घर में लोग काम कर रहे होंगे. वो भी चुदाई कर रहे है इसीलिए किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता…
अशोक- अभी?
मयूरी- हाँ.. आप चलो मैं दिखाती हूँ.
अशोक- कपड़े पहन लूँ?
मयूरी- जरूरत नहीं है? हम उनको बताएँगे नहीं कि हम उनको देख रहे हैं.
अशोक- मतलब?
मयूरी- मतलब हम उनको चुपके से देखेंगे.
अशोक- पर मुझे ऐसे नंगे बाहर जाने में अजीब लग रहा है?
मयूरी- पापा, आपने अभी अपने बेटी जी जबरदस्त चुदाई की है और कल से घर में सब लोग नंगे ही रहने वाले हैं… अब वक्त बदलने वाला है… आप शर्माना छोड़िये… चलिए बाहर…
अशोक- ठीक है…

और दोनों बाप-बेटी घर में बेशर्मों की तरह नंगे ही दरवाजा खोलकर बाहर निकले और मयूरी की कमरे की तरफ बढ़े. फिर उस कमरे की खिड़की के पास जाते ही अंदर का सुहाना दृश्य दिखाई देने लगा. अंदर विक्रम अपनी माँ की चूत में और रजत अपनी माँ की गांड में लंड डालकर जोरदार चुदाई कर रहा था.

शीतल को अपने दोनों बेटों से एकसाथ चुदवाते हुए बड़ा मजा आ रहा था. रजत ने शीतल की एक टाँग को उठाया हुआ था और विक्रम उसकी चुदाई के साथ-साथ उसकी चूचियों को जोर-जोर से मसल भी रहा था.

अशोक को अपने आँखों पर यकीन नहीं हुआ. वो एकटक उनको देखता ही रह गया. पर थोड़ी ही देर में उसको अपने बेटों को मादरचोद बनते हुए देखकर बड़ा आनन्द आने लगा और उसका लंड खड़ा हो गया.
यह दृश्य देखकर मयूरी की कामाग्नि भी जाग उठी, उसने वहीं पर खड़े अपने पिता के लंड की ओर देखा जो किसी वृक्ष के तने की भांति तना हुआ था. वो झट से बैठी और अशोक के लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.

अशोक के मन में ख्याल आया कि वो अभी उनके कमरे में जाए और उनको रंगे हाथ पकड़ ले … फिर वहीं पर सब के साथ जोरदार चुदाई करे.
वो मयूरी से बोला- मयूरी, अंदर चलें बेटा?
मयूरी- क्यूँ पापा?
अशोक- इनको रंगे हाथ पकड़ते हैं और फिर जोरदार चुदाई करेंगे… खुले में… सबके साथ…
मयूरी- आज नहीं पापा… कल… यही तो मेरे जन्मदिन का तोहफा होगा… भूल गए?
अशोक- अच्छा, चलो फिर कमरे में… तुम्हें तो चोद लूँ जी भर के… ये सब देखकर मेरा लंड उफान मार रहा है.
मयूरी- अवश्य पापा… चलिए.
Reply
04-20-2019, 02:30 PM,
#92
RE: Kamukta Story परिवार की लाड़ली
और फिर अशोक ने मयूरी को अपनी बाँहों में उठाया और उसको उठाकर अपने कमरे में लाकर अपने बिस्तर पर पटक दिया. और फिर अपना लंड झटाक से मयूरी की चूत में पेल दिया.
मयूरी- आह… पापा…
अशोक- मेरी रंडी बेटी… ले अपने बाप का लंड… और ले… हुह… और ले… आह…
मयूरी- जोर से चोदो पापा अपनी बेटी को… उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह… और जोर से…

और फिर दोनों लगभग 15 मिनट तक जोरदार चुदाई करने के बाद एक-दूसरे चिपके हुए बिस्तर पर गिर गए और जोर जोर से हांफने लगे.

चुदाई के बाद मयूरी बोली- पापा?
अशोक- हाँ बेटा?
मयूरी- मैं आपसे चुदवाती हूँ, अपने भाइयों से भी चुदवाती हूँ और अपनी माँ के साथ लेस्बियन सेक्स भी किया है पर मैं रंडी नहीं हूँ पापा… मैं तो इस घर की लाड़ली हूँ… अगर मुझे सिर्फ अपनी चूत मरवाने का ख्याल होता तो मैं घर के बाहर किसी को भी पता सकती थी. दुनिया का कोई भी इंसान मेरे हुस्न को दीदार करने के बाद मुझे चुदाई के लिए मन नहीं कर सकता था. पर मुझे लगा कि अगर मुझे अपना हुस्न लुटाना ही है तो अपने घर के बाहर क्यूँ, अपने घर ले लोगों में ही बाँट देती हूँ… मैंने तो बस सारे घर वालों के बारे में सोचा पापा…

अशोक- अ… अरे… मैं… तो वो बस जोश-जोश में बोल गया मेरी जान… मेरा वैसा कोई मतलब नहीं था. मुझे माफ़ कर दो… तुम रंडी नहीं हो… तुम तो मेरी लाड़ली हो… और तुम्हारा इस घर के लोगों के बारे में इतना सोचना मेरे हिसाब से काफी सराहनीय है. तुम्हें बहुत बहुत धन्यवाद… नहीं तो तुम्हारा ये मखमली जिस्म मुझे भोगने और चोदने को कैसे मिलता.
मयूरी- अच्छा ये सब छोड़ो… एक और जरूरी बात!
अशोक- हाँ बोलो?

मयूरी- घर में सबको सबकी चुदाई के बारे में नहीं पता…
अशोक- मतलब?
मयूरी- मतलब कि देखो… माँ यह जानती है कि आप मुझे चोद रहे हो… इसलिए वो सुकून से अपने घर में आपकी मौजूदगी में अपने बेटों से चुदवा रही है.
अशोक- है… ठीक है.
मयूरी- पर, माँ को पूरी बात नहीं पता?
अशोक- कौन सी बात नहीं पता शीतल को?
मयूरी मुस्कुराते हुए- माँ को ये नहीं पता की मैंने अपने भाइयों से पहले से चुदवाया हुआ है.
अशोक- अच्छा.

मयूरी- हाँ, और मेरे भोले भाइयों को तो कुछ भी नहीं पता.
अशोक- मतलब?
मयूरी- मतलब कि उनको ना ये पता है कि मैंने अपनी माँ से लेस्बियन सम्बन्ध स्थापित किया है और ना ही ये कि मेरे ही कहने पर आज उनकी माँ उनसे चुदवा रही है… और तो और, उनको ये भी नहीं पता कि आप भी मुझे चोदते हैं.
अशोक- कमाल है बेटा… तुमने तो पूरे घर को अपनी मुट्ठी में ले रखा है.

मयूरी- पर आपको सबके बारे में सब कुछ पता है पापा.
अशोक- मैं तुम्हें इसके लिए और हर चीज़ के लिए धन्यवाद देता हूँ… क्योंकि तुम्हारी वजह से ही घर के हर सदस्य को आज चोदने और चुदाने के लिए किस्मत से बहुत ज्यादा मिल पाया है. जैसे कि तुम मेरी बांहों में अभी नंगी लेटी हो और मैं अब तुम्हारी चूत चाटूँगा.
मयूरी- जैसी आपकी मर्ज़ी पापा…

और फिर थोड़ी देर तक रंगरलियां मनाने के बाद बाप-बेटी ने अपने कपड़े पहन लिए. फिर कुछ ही देर में शीतल भी अंदर आई और सबको खाने के लिए बुलाने लगी. सब खाना खाकर सो गये.

अब कल इस घर में जश्न होने वाला था- पूरे परिवार के बीच सामूहिक चुदाई का जश्न…!!
Reply
04-20-2019, 02:30 PM,
#93
RE: Kamukta Story परिवार की लाड़ली
जन्मदिन का जश्न

अगले दिन सबको यह पता था कि घर की लाड़ली बेटी का जन्मदिन है तो सबने अपने-अपने काम से छुट्टी ले ली थी. सुबह सुबह ही सबने मयूरी की जन्मदिन की बहुत सारी बधाइयाँ दी.
नाश्ते के वक्त अशोक ने यह एलान कर दिया कि आज शाम को जो मयूरी के जन्मदिन का जश्न होगा, उसमें सिर्फ घर के लोग होंगे और बाहर का कोई भी व्यक्ति नहीं होना चाहिए.
इस बात पर सबने अपनी सहमति जताई।

फिर नाश्ते के बाद सब लोग शॉपिंग के लिए निकल गए और मयूरी के लिए बहुत सारे कपड़े-वगैरह ले आये. जन्मदिन वाला केक घर के फ्रिज में रख दिया गया.

करीब 8 बजे सब लोग घर के हॉल में इकठे हुए. रजत फ्रिज से केक ले आया और डाइनिंग टेबल पर रख दिया. घर को बहुत अच्छे से पहले ही सजाया जा चुका था. सब लोग बहुत खुश और उत्साहित लग रहे थे. डाइनिंग टेबल के आस-पास से सारी कुर्सियों को हटा दिया गया था. लम्बे से डाइनिंग टेबल के एक तरफ मयूरी खड़ी थी और उसके बगल में उसके पापा और बाकी सारे लोग टेबल के दूसरी तरफ खड़े थे मयूरी के एकदम सामने.

मयूरी ने एक लाल रंग का टॉप और नील रंग का जींस के कपड़े वाला शॉर्ट्स पहना हुआ था और उसके इस पहनावे में उसका गदराया हुआ शरीर एकदम क़यामत लग रहा था. उसने लाल रंग की गहरी लिपस्टिक लगायी हुई थी, मेक-अप की उसको कोई जरूरत नहीं थी क्योंकि वो प्राकृतिक रूप से की बला की खूबसूरत थी, और वो इस वक्त एकदम माल लग रही थी.

घर के सब लोग मयूरी के केक काटने का इंतजार कर रहे थे कि मयूरी ने मुस्कुराते हुए अपने पापा की ओर देखकर अपनी आँखों से कुछ इशारा किया.

अशोक समझ गया और मयूरी के ठीक बगल में आ खड़ा हुआ. खड़ा होते ही उसने बोलना शुरू किया- आज हमारी लाड़ली का जन्मदिन है और इस शुभ मौके पर मैं कुछ कहना चाहता हूँ.
रजत- हाँ.. पापा… बिल्कुल.
अशोक- देखो… इस घर में कुल पांच लोग हैं… तीन मर्द और दो औरत.
विक्रम- हाँ…
अशोक- और सब के सब वयस्क हैं… मतलब 18 साल या उस से ऊपर की उम्र के…
विक्रम- जी पापा…

अशोक ने गहरी सांस ली और मयूरी की तरफ देखा जैसे इजाजत मांग रहा हो… मयूरी ने जैसे आँखों से इशारो-इशारों में अपनी सहमति दी.
अशोक अपनी बात जारी रखता है- तो अब जो मैं बात बोलने जा रहा हूँ… उस से इस घर की किस्मत बदलने वाली है… और इसके बाद सब कुछ हमेशा के लिए बदल जायेगा… जिसे चाहकर भी कभी वापिस नहीं लाया जा सकेगा.
विक्रम उत्सुकता से- ऐसी क्या बात है पापा?
अशोक- बता रहा हूँ… सुनो.

और अशोक धीरे से मयूरी के पीछे जा खड़ा हुआ और अपने दोनों हाथ उसने उसकी कमर पर रख दिए और धीरे-धीरे अपने हाथों को वो ऊपर ले जाने लगा मयूरी की चूचियों की तरफ. पर उसने ऐसा झटके में नहीं किया वक्त लिया… और उसने बातचीत जारी रखी- मेरी बेटी… जितनी खूबसूरत है… उतनी ही हसीन भी है और उसका शरीर कमाल का है… इतना कमाल का है कि अगर किसी की नजर इसकी इन भारी-भारी चूचियों पर एक बार पड़ जाए तो वो अपनी नजर हटा नहीं सकता.
ऐसा कहते हुए अशोक ने अपने दोनों हाथों से मयूरी की दोनों चूचियों को जोर से जकड़ लिया और दबाने लगा.
मयूरी के मुँह से सुख वाली आहें निकल गयी- आ… ह… आह… पापा.
Reply
04-20-2019, 02:30 PM,
#94
RE: Kamukta Story परिवार की लाड़ली
और अशोक ने घर में सब के सामने उसकी चूचियों को दबाना चालू रखा. घर के बाकी सारे लोगों की हालत गंभीर हो रही थी और वो इस स्थिति को समझ नहीं पा रहे थे. हो तो सबकुछ वैसे ही रहा था जैसे वो कई दिनों से चाहते थे पर अचानक से होने से सब के सब अवाक् रहे गए.
शीतल को तो वैसे भी पता था कि अशोक मयूरी को चोद रहा है पर सब के सामने ऐसे व्यव्हार से वो भी विचलित हो रही थी.

विक्रम- प… प्… पापा…
अशोक- विक्रम, तुम्हारे लिए तो यह नया नहीं है ना? तुमने ही तो सबसे पहले मयूरी की चूचियों के दर्शन किये थे. क्यूँ?
विक्रम- पा… पा… वो… आपको पता है?
शीतल- क्या?
शीतल इस बात से अनजान थी और उसके लिए ये बात एकदम नयी थी.

अशोक ने शीतल को जवाब दिया- हाँ मेरी जान… तुम्हारे बड़े बेटे ने सब से पहले मेरी इस फूल जैसी लड़की की कच्छी उतारी… उसकी चूचियों को चूसा, दबाया… उसकी चूत भी चाटी… वो भी इसी घर में…
शीतल- क्या?
अशोक- हाँ… और तो और… उसने अपना लंड भी चुसवाया अपनी छोटी बहन से…
शीतल- म… मतलब…?
अशोक- अरे इतना ही नहीं… अगले ही दिन… तुम्हरे इस बड़े बेटे ने मयूरी की चूत की सील भी तोड़ी और खूब चोदा… वो भी तुम्हारे छोटे बेटे के साथ… मिलकर… जैसे वो दोनों तुम्हें चोदते हैं.

शीतल जैसे पकड़ी गयी हो… वो घबरा गयी यह जानकर कि उसके पति को पता चल चुका है कि वो अपने दोनों बेटों से चुदवा रही है- म… मै.. मैं… वो…
अशोक- रुको… नहीं… तुम्हारे जैसे नहीं चोदते हैं ये दोनों इसको… क्योंकि तुम तो दोनों एक ही वक्त पर अपनी गांड और चूत भी मरवाती हो ना… पर मयूरी की गांड तो एकदम कोरी थी.. वो तो मैंने तोड़ी है कल.
रजत- क्या… आपने दीदी की गांड…
अशोक- अरे हाँ… तुम्हें तो अपनी दीदी की गांड बहुत पसंद है ना… अब तुम चाटने के बाद अपना लंड भी पेल सकते हो इसकी मखमली गांड में मेरे बेटे.

अशोक द्वारा घर के सभी लोगों के आपसी चुदाई के रिश्तों का पर्दाफाश करने के बाद सब सदमे में थे. सब चुप थे पर अशोक अब अपना एक हाथ मयूरी की चूची पर से हटाकर उसकी पैंटी में डाल चुका था और अब वो उसकी चूत में उंगली कर रहा था.

मयूरी घर के हर सदस्य के चेहरे के भाव को पढ़ रही थी और वो बहुत ही ज्यादा आनन्दित हो रही थी…
Reply
04-20-2019, 02:30 PM,
#95
RE: Kamukta Story परिवार की लाड़ली
सबको सदमे में चुप देखकर अशोक ने माहौल को सामान्य करने की सोची और बोला- घर के तीनों लंड घर की दोनों चुतों को चोद रहे हैं… मगर… छुप-छुप कर… क्यूँ … जब सब चोद ही रहे हैं तो सबके साथ करो और खूब मजे लो… देखो, मैं यहाँ किसी को गलत नहीं कह रहा… तो तुम लोग बुरा मत सोचो किसी बात के बारे में… मैं खुद भी मयूरी को चोदता हूँ… यहाँ तक कि मैंने इसकी गांड की सील भी तोड़ दी है… तो अब चुदाई पुरे घर में अच्छे से होनी चाहिए… किसी से छुपने या डरने की जरूरत नहीं है… क्यूँ रजत?
रजत ख़ुशी से- हाँ पापा… मुझे तो ये सोचकर ही मजा आ रहा है आप अब मेरे साथ दीदी और माँ को चोदेंगे.

अशोक- हाँ बिल्कुल… मैं भी यही चाहता हूँ… पूरा परिवार आराम से सबकी चुदाई करे और खुश रहे… शीतल, तुम्हें डरने की कोई जरूरत नहीं है… अपने बेटों से जितना चुदना चाहो, चुदो… मुझे को दिक्कत नहीं है.
शीतल- वाह… क्या बात है… अब आएगा असली मजा चुदाई का.
अशोक- पर एक बात है.
शीतल- हमें कुछ नियम तय करने होंगे… क्योंकि ये हम जो भी कर रहे हैं, वो समाज के नियमों की खिलाफ है… इसलिए…
विक्रम- क्या नियम पापा?

अशोक- हम, जितना चाहें अपने परिवार में चुदाई करें, कोई दिक्कत नहीं… पर ये बातें, कभी भी, गलती से भी घर के बाहर नहीं जानी चाहिए.
विक्रम- ठीक है.
अशोक- अगर घर में कोई भी व्यक्ति बाहर का आता है, तो हमें हमेशा सामान्य परिवार की तरह व्यवहार करना होगा.
रजत- ठीक है.
अशोक- बढ़िया… फिर आज मयूरी का जन्मदिन का जश्न शुरू करें?
शीतल- केक काट कर?
अशोक- नहीं… हमारी लाड़ली की ये जन्मदिन कुछ अलग तरीके से मनाने की इच्छा है.
शीतल- कैसे?

अशोक- ये घर के सभी लोगों से एक साथ चुदना चाहती हैं… मतलब घर के तीनों लंड इनको एक साथ अपने अंदर चाहिए.
रजत- वाओ… मजा आएगा.
अशोक- फिर शुरू करते हैं.
विक्रम- बिल्कुल…
अशोक- रुको… अब चूंकि सबकुछ सामने आ ही चुका है, तो मुझे नहीं लगता कि कपड़ों को पहन कर रखने की जरूरत है.
रजत- हाँ, बिकुल सही बात है… मैं तो तब से यही सोच रहा हूँ कि कब सब नंगे होंगे.
अशोक- चलो फिर, तुम ही सबके कपड़े उतारोगे.
रजत- जैसी आपकी आज्ञा पिताजी.

और रजत सबके कपड़े उतरने लगा. पहले वो अपनी माँ के, फिर अपने बड़े भाई के, फिर अपने बहन के और अंत में अपने पिता के कपड़े भी उसने ही उतारे. जब वो अपने पिता के कपड़े उतार रहा था तो अशोक ने उसको रोका और बोला- रजत…
रजत- हाँ पापा?
अशोक- सुना है कि तुम दोनों भाई लंड भी चूसते हो?
रजत- जी पापा… आप देखना, एक बार पूरा परिवार एक साथ आपका लंड चूसेगा… आपको खूब मजा आएगा.

पर उसके बोलते-बोलते तक अशोक ने अपना लंड उसके मुँह में पेल दिया और रजत बड़े मजे से अपने बाप का लंड चूसने लगा.
Reply
04-20-2019, 02:30 PM,
#96
RE: Kamukta Story परिवार की लाड़ली
अशोक फिर मयूरी को बोला- मयूरी… बेटा, तुम डाइनिंग टेबल पर लेट जाओ… आज केक काटेंगे नहीं… सब तुम्हारे शरीर पर से लेकर खाएंगे.
मयूरी बड़ी ख़ुशी से- जी पापा…
और मयूरी करवट लेकर डाइनिंग टेबल पर लेट गई.

अशोक- विक्रम, तुम केक मयूरी की चूत, गांड, चूचियों, जांघो और गालों पर लगा दो.
विक्रम- जी पापा…
और विक्रम केक हाथ में लेकर लेटी हुई मयूरी की सभी अंगों पर लगाने लगा. शीतल भी उसकी सहायता करने लगी.

केक को पूरी तरह से मयूरी के सारे कामांगों पर लगवाने के बाद अब अशोक आगे बोला- तो आज मयूरी का जन्मदिन बिना केक काटे ही मनाया जायेगा. चलो सब लोग मयूरी के शरीर पर लगे केक को खाना शुरू करो.

और अशोक का आदेश पाते ही घर के सब लोग यहाँ तक की अशोक खुद भी मयूरी के शरीर एक एक-एक हिस्से पर लगे केक को मुँह से खाने लगे. अशोक मयूरी की चूचियों पर लगे केक को अपने होंठ और जीब से चाटने और खाने लगा जबकि विक्रम मयूरी की चूत पर लगे केक को खा रहा था. और रजत को उसकी मनपसंद जगह मिल गयी मयूरी की कोमल गांड.
शीतल मयूरी की जाँघों पर लगे केक को अपनी जीभ और होंठों से चाट-चाट कर खाने लगी.

घर के इतने सारे लोगों के होंठों और जबान से अपने शरीर के हर हिस्से को चटवाने के प्रहार को मयूरी सह नहीं पाई। वो आनन्द से कराहने लगी, उसे एक अलग ही सुख का अनुभव हो रहा था जो अपने भाइयों, माँ और बाप से इतनी बार चुदवाने के बाद भी नहीं आया था- आ… ह… आह… ये क्या कर रहे हो तुमलोग… आह… मुझे मार डालोगे क्या… आह…
अशोक- मयूरी, मेरी जान… तुम्हें अपने जन्मदिन के तोहफे का ये पहला चरण कैसा लग रहा है?
मयूरी- ओ… पापा… मेरी जान… मुझे बहुत अच्छा लग… रहा है… आह…

और फिर सब लोग फिर से मयूरी को किसी भूखे भेड़िये की झुण्ड की तरह चाटने लगे. इस वक्त घर के सारे सदस्य मयूरी के सारे गुप्तांगों पर अपने जीभ और होंठ से प्रहार पर प्रहार किये जा रहे थे, और इस अद्भुत सुख का मयूरी खूब आनन्द ले रही थी.

इतनी देर में मयूरी करीब तीन बार झड़ चुकी थी.

फिर जब सबने उसके शरीर पर लगे केक को पूरा का पूरा चाट लिया तो मयूरी ने बड़े ही शिकायती लहजे में कहा- अशोक डार्लिंग…
मयूरी के लिए ये पहली बार था जब उसने अपने पापा को उसके नाम से बुलाया था.

पर इस वक्त उसके मुँह से अपना नाम सुनकर अशोक को और भी मजा आ रहा था. उसने जवाब दिया- हाँ… मेरी जान… बोलो?
मयूरी- सबने तो केक खा लिया, पर मुझे तो खिलाया ही नहीं?
अशोक- अभी खिलाते तुझे केक मेरी चुड़क्कड़ बेटी…
Reply
04-20-2019, 02:30 PM,
#97
RE: Kamukta Story परिवार की लाड़ली
ऐसा कहते ही उसने घर के सभी लोगों को फिर से आदेश दिया- सब लोग अपने-अपने लंड पर केक लगाओ… और शीतल, तुम अपनी चूत पर केक लगाओ, आज मेरी बिटिया को उसके जन्मदिन का केक खिलाना है.

सबने बड़ी ख़ुशी-ख़ुशी अपने लंड और चूत पर केक लगा लिया और तीनों मयूरी के ठीक सामने खड़ा कर दिया.
अशोक- मयूरी… लो खा लो केक… अब तुम्हें सबके लंड और अपनी माँ की चूत पर लगे केक को खाकर ख़त्म करना है बेटा…
मयूरी- जी पापा… जरूर…

मयूरी ने सबसे पहले अपने प्यारे पापा के लंड पर लगा केक खाना शुरू किया. उसने अशोक के लंड का केक ख़त्म भी नहीं किया था कि विक्रम ने अपना लंड उसके मुँह में ठूंस दिया. तो रजत भी जबरदस्ती अपना लंड उसके मुँह में ठूंसने लगा.
अब घर के तीनों लंड मयूरी के मुँह में जबरदस्ती जैसे तैसे ठूंसे जा रहे थे और वो मजे ले लेकर जैसे भी हो सबका लंड चूस और चाट भी रही थी. अंत में सबके लंड पर लगे केक को पूरी तरह चाट-चाट कर साफ़ करने के बाद अपनी माँ की चूत पर लगे केक को भी चाट-चाट कर खाकर ख़त्म किया.

रजत- केक कैसा लगा दीदी?
मयूरी- बहुत ही ज्यादा स्वादिष्ट मेरे भाई… मुझे बहुत मजा आया… तुम्हें केक कैसा लगा?
रजत- दीदी, आपको तो पता है ना कि मुझे अपनी गांड का स्वाद बहुत पसंद है… उस पर केक का स्वाद तो जैसे मजा ही आ गया.

अशोक- फिर कार्यक्रम आगे बढ़ाएं?
विक्रम- जरूर पापा… देर किस बात की!
अशोक- ठीक है फिर… केक का काम तो हो चुका, अब जन्मदिन का असली तोहफा देने की बारी है.
शीतल- हाँ.. बिल्कुल…
अशोक- मयूरी, तुम तैयार हो?
मयूरी- हाँ पापा… इस दिन का तो बहुत इंतज़ार किया है मैंने… मैं बिल्कुल तैयार हूँ.
अशोक- ठीक है फिर… नीचे जमीन पर लेट जाओ.
मयूरी- जी पापा…

और मयूरी नीचे जमीन पर लेट गयी. अशोक ने अपना लंड मयूरी की चूत पर सेट किया और रजत को उसकी गांड मारने का इशारा किया. विक्रम को उसने मयूरी के मुँह में लंड डालने को बोला. फिर अशोक के इशारे पर तीनों ने एक साथ अपना-अपना लंड मयूरी की एक-एक छेद में पेल दिया.

और तब शुरू हुआ घर में सामूहिक चुदाई का ये पहला दौर… मयूरी के लिए तो जैसे उसके सपने को साकार होने जैसा था. मयूरी कुछ बोल भी नहीं पाती क्योंकि विक्रम उसके मुँह में ताबड़तोड़ चुदाई कर रहा होता है और अपना लंड उसके गले तक पेल रहा होता है.
इधर अशोक और रजत उसकी चूत गांड का हलवा बनाने में लगे थे.
शीतल मयूरी की चूचियों को चूस रही थी.

यह नायाब चुदाई लगभग आधे घंटे तक चली . जब किसी का लंड झड़ जाता तो थोड़ी देर में वो अपना लंड खड़ा कर के फिर से चुदाई करने लगता. फिर अपना अपना लंड बदल-बदल कर तीनों ने मयूरी की खूब चुदाई की.

उसके बाद सबने वैसे ही शीतल की भी खूब चुदाई की और फिर विक्रम और अशोक ने मयूरी की और रजत ने अकेले शीतल की चुदाई की. इस दौरान सबने एक साथ अशोक के लंड को भी खूब चूसा… पूरी रात सब पार्टनर बदल-बदल कर चुदाई करते रहे और उस दिन के बाद घर में चुदाई का जश्न जारी रहा.

समाप्त
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Antarvasna kahani नजर का खोट sexstories 119 256,879 09-18-2019, 08:21 PM
Last Post: yoursalok
Thumbs Up Hindi Sex Kahaniya अनौखी दुनियाँ चूत लंड की sexstories 80 84,997 09-14-2019, 03:03 PM
Last Post: sexstories
Star Bollywood Sex बॉलीवुड की मस्त सेक्सी कहानियाँ sexstories 21 23,214 09-11-2019, 01:24 PM
Last Post: sexstories
Star Hindi Adult Kahani कामाग्नि sexstories 84 71,383 09-08-2019, 02:12 PM
Last Post: sexstories
  चूतो का समुंदर sexstories 660 1,156,142 09-08-2019, 03:38 AM
Last Post: Rahul0
Thumbs Up vasna story अंजाने में बहन ने ही चुदवाया पूरा परिवार sexstories 144 211,665 09-06-2019, 09:48 PM
Last Post: Mr.X796
Lightbulb Chudai Kahani मेरी कमसिन जवानी की आग sexstories 88 46,920 09-05-2019, 02:28 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Ashleel Kahani रंडी खाना sexstories 66 62,301 08-30-2019, 02:43 PM
Last Post: sexstories
Lightbulb Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस. sexstories 121 150,941 08-27-2019, 01:46 PM
Last Post: sexstories
Star Porn Kahani हलवाई की दो बीवियाँ और नौकर sexstories 137 190,257 08-26-2019, 10:35 PM
Last Post: @bigdick

Forum Jump:


Users browsing this thread: 1 Guest(s)